China demolished thousands of mosques in Xinjiang in recent years | चीन ने पिछले कुछ वर्षों में गिराए लगभग 16 हजार मस्जिद, रिपोर्ट में हुआ खुलासा
सांकेतिक तस्वीर (फाइल फोटो)

Highlightsकई मस्जिद जिन्हें पूरी तरह नहीं ढहाया गया है, उनके गुंबदों और मीनारों को गिरा दिया गया। कई मस्जिद जिन्हें पूरी तरह नहीं ढहाया गया है, उनके गुंबदों और मीनारों को गिरा दिया गया।

नई दिल्ली:चीन अपने देश में रहने वाले अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय के लोगों के साथ जुर्म कर रहा है। हाल के दिनों में ऑस्ट्रेलियन स्ट्रैटिजिक पॉलिसी इंस्टीट्यूट (ASPI) ने अपने सर्वे में इस बात का खुलासा किया है। 

टीओआई रिपोर्ट की मानें तो एएसपीआई की रिपोर्ट से चीन का असली चेहरा सामने आया है। रिपोर्ट के मुताबिक, चीन की सरकार ने शिनजियांग प्रांत में करीब 16 हजार मस्जिदों को गिरा दिया है। चीन की सरकार ने पुलिस व प्रशासन की ताकत पर लोगों के विरोध को होने से रोक दिया।

कई मस्जिद जिन्हें पूरी तरह नहीं ढहाया गया है, उनके गुंबदों और मीनारों को गिरा दिया गया। शिनजियांग में क्षतिग्रस्त सहित करीब 15,500 मस्जिद बच गए हैं। यदि सही है, तो 1960 के दशक में सांस्कृतिक क्रांति से उठी राष्ट्रीय उथल-पुथल के दशक के बाद से इस क्षेत्र में मुस्लिमों के इबादतघरों की यह न्यूनतम संख्या है।

इसके विपरीत थिंक टैंक ने जिन भी गिरिजाघरों और बौद्ध मंदिरों को अध्ययन में शामिल किया, उनमें से किसी को नहीं नुकसान पहुंचाया गया है। 

इसके अलावा, रिपोर्ट की मानें तो चीन ने अपने देश के उत्तरी पश्चिमी प्रांत में करीब 10 लाख उइगर मुस्लिमों को कैंप में कैद कर रखा है। यहां लोगों के अधिकारों का हनन किया जा रहा है। रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र है कि कैंप में बंद लोगों को धार्मिक व सांस्कृतिक गतिविधियों को छोड़ने के लिए कहा जा रहा है। 
 
ASPI ने यह भी कहा कि शिनजियांग में मुसलमानों के एक तिहाई पवित्र स्थलों, जिनमें दरगाह, कब्रगाह और तीर्थ स्थल शामिल हैं, को हटा दिया गया है। पिछले साल एएफपी की एक जांच में पाया गया था कि दर्जनों कब्रगाहों को उखाड़ दिया गया था जिससे मानव अवशेष जमीन पर फैले हुए थे। 

Web Title: China demolished thousands of mosques in Xinjiang in recent years
विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे