When Asaduddin Owaisi said, 'Yes I am villain and happy to be a villain, see video | जब असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, 'हां मैं हूं विलेन और विलेन बनकर खुश हूं', देखें वीडियो
जब असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, 'हां मैं हूं विलेन और विलेन बनकर खुश हूं', देखें वीडियो

Highlightsपीएम बनने के सवाल पर असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, मैं उतनी दूर का नहीं सोचता, मुझे बनना भी नहीं है। युवाओं को आगे आना चाहिए। मेरा मकसद मिस्टर इंडिया बनना नहीं है, ना ही मुझे 56 इंच का सीना दिखाने का शौक है-असदुद्दीन ओवैसी

लोकमत पार्लियामेंट्री अवॉर्ड-2019 में एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने देश में मौजूदा हर मुद्दे पर अपनी बात बेबाकी से रखी। एक सवाल के जवाब में असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, हां मैं विलने हूं और विलेन बनकर खुश हूं। मुझे हीरो बनने का कोई शौक नहीं है। मुस्लिम तुष्टिकरण के आरोपों पर असदुद्दीन ओवैसी कहा, मैं देश का नेता नहीं बनना चाहता हूं, देश में जो कमजोर तबका है, उसे ताकतवर बनाना है। देश के लिए फायदे के लिए दलित-मुस्लिम-आदिवासी को मजबूत बनाना होगा। 

तीन तलाक का मामला हो या NRC या नागरिकता संशोधन बिल आपकी ओर से सबसे पहले विचार रखा जाता है। तो क्या देश के बाकी नेताओं को देश की समस्याओं से कोई मतलब नहीं है? इसके जवाब में असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, सुन लीजिए आप सब। जब एक 16 साल की लड़की के मन में ये विचार हैं और आप लोग मुझे बी टीम सी टीम और ना जाने क्या-क्या टीम कहते हैं... मुझे विलने बोलते हैं। सर ये एक दिन मुझे हीरो बनाकर छोड़ेंगे, मुझे यकीन है। मेरा मकसद मिस्टर इंडिया बनना नहीं है, ना ही मुझे 56 इंच का सीना दिखाने का शौक है। आप लोगों ने मुझे विलेन बना दिया और मैं विलेन बनकर खुश हूं। मुझे कोई दिक्कत नहीं है। 

पीएम बनने के सवाल पर असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, मैं उतनी दूर का नहीं सोचता, मुझे बनना भी नहीं है। युवाओं को आगे आना चाहिए। असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, मुझे मुसलमानों का लीडर बनने का कोई शौक नहीं है, मेरी फकीरी में और मोदी साहेब की फकीरी में बहुत अंतर है। असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, मैं किसी ऑकेस्ट्रा पार्टी का सिंगर नहीं बन सकता हूं, ना ही मुझे मुशायरा करना है। 

जानें लोकमत पार्लियामेंट्री अवॉर्ड के बारे में

संसद के दोनों सदनों में अपनी उत्कृष्ठ सेवाएं देने वाले चुनिंदा सांसदों को सम्मानित करने के लिए लोकमत समाचार पत्र समूह द्वारा हर वर्ष की तरह लोकमत संसदीय पुरस्कार समारोह 2019 का आयोजन किया जा रहा है। यह सम्मान उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू द्वारा आंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर, जनपथ, नई दिल्ली में दिए जाएंगे। इस समारोह में लोकसभा और राज्यसभा के चार-चार चुनिंदा सांसदों को सम्मानित किया जाएगा। जिनका चयन शरद पवार की अध्यक्षता वाली 9 सदस्यीय चयन समिति द्वारा किया गया है।

जिन श्रेणियों में पुरस्कार दिया जाना है उनमें लोकसभा और राज्यसभा से लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड, सर्वश्रेष्ठ सांसद, सर्वश्रेष्ठ महिला सांसद और प्रथम बार संसद पहुंची सर्वश्रेष्ठ महिला सांसद को सम्मानित किया जाएगा। इस समारोह से पूर्व दोपहर 2 बजे से आंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर के भीम सभागार में ही कॉनक्लेव का आयोजन किया गया। जिसका विषय है 'भारतीय राजनीति में क्षेत्रीय दलों की भूमिका'। 

इस विषय पर विचार रखने के लिए कांग्रेस सांसद शशि थरूर, एआईएमआईएम के अध्यक्ष सांसद असदुद्दीन ओवैसी एवं केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के नाम शामिल हैं। लोकमत संसदीय पुरस्कार समारोह वर्ष-2017 में प्रारंभ किया गया था। जिसके बाद से लगातार इस समारोह का आयोजन किया जाता रहा है।

Web Title: When Asaduddin Owaisi said, 'Yes I am villain and happy to be a villain, see video
ज़रा हटके से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे