Kanpur Medical College Principal Video Goes Viral, calls tablighi members Terrorists, Slams UP Govt | तबलीगी सदस्यों पर टिप्पणी करते हुए कानपुर मेडिकल कॉलेज की प्रिंसिपल का वीडियो वायरल, सीएम योगी को लेकर कही ये बात
जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ. आरती लालचंदानी का 4 मिनट 52 सेकंड का वीडियो वायरल हो रहा है। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Highlightsजमात का कथित तौर पर जिक्र करते हुए डॉक्टर आरती को 'आतंकवादी हैं' कहते हुए सुना जा सकता है।डॉ. आरती लालचंदानी योगी आदित्यनाथ पर 'तुष्टिकरण' की राजनीति करने का आरोप लगाया है।डॉ आरती ने सफाई में कहा कि वीडियो में उन्हें फंसाने के लिए छेड़छाड़ की गई है। 

उत्तर प्रदेश के कानपुर स्थित जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ. आरती लालचंदानी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें वह तबलीगी जमात के सदस्यों पर टिप्पणी करती नजर आ रही है। बताया जा रहा है कि यह वीडियो करीब 70 दिन पुराना है, लेकिन अब यह फेसबुक और व्हाट्सएप पर वायरल हो रहा है।

कथित तौर पर डॉ. आरती लालचंदानी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर 'तुष्टिकरण' की राजनीति करते हुए तबलीगी जमात के सदस्यों को सरकारी स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने का आरोप लगाती है। हालांकि डॉ आरती ने सफाई में कहा कि वीडियो में उन्हें फंसाने के लिए छेड़छाड़ की गई है। 

4 मिनट 52 सेकंड के लंबे वायरल वीडियो में प्रिंसिपल डॉ. आरती लालचंदानी कथित तौर पर कुछ लोगों के साथ बातचीत करते हुए देखा जा रहा है, जो पत्रकार लग रहे हैं। तबलीगी जमात के सदस्यों का कथित तौर पर जिक्र करते हुए डॉक्टर आरती को 'आतंकवादी हैं' कहते हुए सुना जा सकता है।

वीडियो की सत्यता को लेकर अभी तक किसी प्रकार की पुष्टि नहीं की जा सकी है, लेकिन इसके वायरल होने के बाद विवाद छिड़ गया है, जिसमें एक समुदाय विशेष के खिलाफ टिप्पणी करने पर मेडिकल कॉलेज की प्रिंसिपल के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की गई है।

वीडियो को शेयर करते हुए पूर्व सांसद और भाकपा (एम) की पोलित ब्यूरो सदस्य सुभाषिनी अली ने मामले की निष्पक्ष जांच की भी मांग की और आरोप सही पाए जाने पर डॉक्टर आरती के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। सुभाषिनी अली का कहना है कि प्राचार्य असंवैधानिक और आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करते हुए अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों को जो अस्पताल लाए गए थे, उन्हें आतंकवादी बता रही हैं।

उन्होंने कहा कि प्रिंसिपल को तुरंत हटा दिया जाना चाहिए और उसके खिलाफ मामला दर्ज किया जाना चाहिए। वीडियो को प्रमाणित करने के लिए निष्पक्ष जांच की जरूरत है और अगर सही पाया जाता है तो जिला प्रशासन को उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।

वायरल वीडियो में क्या है?

वायरल हो रहे वीडियो में डॉ. लालचंदानी को कथित तौर पर कहते हुए सुना जा सकता है, "ये लोग आतंकवादी हैं और हम उन्हें भोजन और पानी उपलब्ध कराकर वीआईपी ट्रीटमेंट दे रहे हैं। हम उन पर अपने संसाधनों और श्रमशक्ति को समाप्त कर रहे हैं। हम होटल के बिल का भुगतान कर रहे हैं और उन पर हमारी किट, भोजन और दवाइयां बर्बाद कर रहे हैं।"

इस बीच, जब वीडियो में एक पत्रकार द्वारा तब्लीगी जमात के सदस्यों से संबंधित उसके भविष्य के कार्य के बारे में पूछा गया, तब वह कहती हैं, "आप लोग इसे कहीं लीक तो नहीं करेंगे, लेकिन मैं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन से बात करने की योजना बना रही हूं। यहां, कोई नहीं सुनेगा, जिलाधिकारी मुख्यमंत्री (योगी आदित्यनाथ) के आदेशों के अनुसार काम कर रहे हैं। मुख्यमंत्री तुष्टिकरण कर रहे हैं।"

पत्रकारों से बातचीत के विवरण को लीक नहीं करने के लिए कहते हुए वह आगे कहती है, "मुझे आशा है कि आप इसे रिकॉर्ड नहीं कर रहे हैं। उन्हें (तब्लीगी जमात के सदस्यों को) अस्पतालों में भर्ती करना तुष्टिकरण है। जिन्हें जेलों में डाला जाना चाहिए, उन्हें अस्पतालों में भर्ती कराया जा रहा है।"

वह आगे कहती हैं, "मुख्यमंत्री आदित्यनाथ को आदेश जारी करना चाहिए कि किसी भी संसाधन को जमातियों को नहीं दिया जाना चाहिए... मैंने सीएमओ से भी बात की, जब उन्होंने मुझसे पूछा कि 80 एम्बुलेंस कार्य में लगे हुए थे। मैंने सीएमओ से इन 22 रोगियों को किसी जंगल में भेजने के लिए कहा और उन्हें 'काल कोठरी' में बंद कर दिया जाना चाहिए, लेकिन मेरी आवाज को दबा दिया गया... इन 30 करोड़ लोगों के लिए 100 करोड़ लोगों की जान की कीमत पर तुष्टीकरण किया जा रहा है।"

Web Title: Kanpur Medical College Principal Video Goes Viral, calls tablighi members Terrorists, Slams UP Govt
ज़रा हटके से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे