Apara Ekadashi 2022 Date: अपरा एकादशी कब है? जानें तिथि, शुभ मुहूर्त, व्रत विधि और महत्व

By रुस्तम राणा | Published: May 21, 2022 02:14 PM2022-05-21T14:14:15+5:302022-05-21T14:15:09+5:30

इस बार अपरा एकादशी व्रत 26 मई गुरुवार को रखा जाएगा। धार्मिक मान्यता है कि जो कोई भक्त अपरा एकादशी व्रत को विधि-विधान के साथ सच्चे मन से करता है उसकी समस्त प्रकार की मनोकामनाएं पू्र्ण हो जाती हैं।

Apara Ekadashi 2022 Date muhurat timing vrat vidhi and significance | Apara Ekadashi 2022 Date: अपरा एकादशी कब है? जानें तिथि, शुभ मुहूर्त, व्रत विधि और महत्व

Apara Ekadashi 2022 Date: अपरा एकादशी कब है? जानें तिथि, शुभ मुहूर्त, व्रत विधि और महत्व

Next

Apara Ekadashi 2022: हिंदू धर्म में एकादशी व्रत भगवान विष्णु जी की कृपा पाने के लिए रखा जाता है। यह तिथि जगत के पालनहार श्री हरि को समर्पित होती है। हर माह में दो बार एकादशी व्रत किया जाता है, जिन्हें अलग-अलग नामों से जाना जाता है। ऐसे ही ज्येष्ठ माह कृष्ण पक्ष की एकादशी को अपरा एकादशी का व्रत किया जाता है। शास्त्रों में इसे अचला एकादशी व्रत के नाम से भी जाना जाता है। इस बार अपरा एकादशी व्रत 26 मई गुरुवार को रखा जाएगा। धार्मिक मान्यता है कि जो कोई भक्त अपरा एकादशी व्रत को विधि-विधान के साथ सच्चे मन से करता है उसकी समस्त प्रकार की मनोकामनाएं पू्र्ण हो जाती हैं। आइए जानते हैं इस व्रत की पूजा विधि और महत्व और मुहूर्त के मुहूर्त के बारे में। 

अपरा एकादशी मुहूर्त

एकादशी तिथि प्रारंभ - 25 मई, बुध‌वार की सुबह 10:32 बजे
एकादशी तिथि समाप्त - 26 मई, गुरुवार की सुबह 10:54 बजे 
व्रत पारण मुहूर्त - 27 मई, शुक्रवार की सुबह 05:25 बजे से सुबह 08:10 बजे तक

अपरा एकादशी व्रत विधि

इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नानादि करके व्रत का संकल्प लें। 
पूजा स्थल भगवान विष्णु की मूर्ति पूजा चौकी पर स्थापित करे।
विष्णु जी के समक्ष घी का दीपक जलाएं। 
भगवान विष्णु की आरती के बाद भोग लगाएं। 
अपरा एकादशी व्रत की कथा पढ़ें या सुनें। 
विष्णु भगवान के भोग में तुलसी जरूर चढ़ाएं।
रात्रि को भगवान विष्णु जी की पूजा के पश्चात फलाहार करें 
अगले दिन पारण के लिए शुभ मुहूर्त में व्रत खोलें। 
उसके बाद ब्राह्मण को भोजन कराकर खुद भी भोजन करें।

अपरा एकादशी व्रत का महत्व

धार्मिक मान्यता के अनुसार, अपरा एकादशी के दिन अनजाने में हुई गलतियों और पापों को नष्ट के लिए भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। इस एकादशी का व्रत करने से मुनष्‍य के जीवन के जीवन के सभी संकट दूर हो जाते हैं और उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है। अपरा एकादशी पर विष्णु यंत्र की पूजा अर्चना करने का भी महत्व है। इस एकादशी पर श्रद्धालु पूरा दिन व्रत धारण कर शाम के समय भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करते हैं। अपरा एकादशी पर विधि-विधान से पूजा अर्चना करने से भगवान विष्णु की असीम कृपा प्राप्त हो सकती है।

Web Title: Apara Ekadashi 2022 Date muhurat timing vrat vidhi and significance

पूजा पाठ से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे