Ram Vilas Paswan's party demands postponement of Bihar election, letter written to Election Commission | रामविलास पासवान की पार्टी बिहार चुनाव टालने की मांग की, चुनाव आयोग को लिखा पत्र
बिहार में अक्टूबर-नवंबर में विधानसभा चुनाव प्रस्तावित है

Highlightsभाजपा का कहना है कि चुनाव की तारीखों पर कोई भी फैसला चुनाव आयोग का विशेषाधिकार हैबिहार में मुख्य विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर चुनाव टालने की मांग कर चुका है।

 भाजपा की सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी ने शुक्रवार को चुनाव आयोग को पत्र लिखकर बिहार विधानसभा चुनाव अक्टूबर-नवंबर में नहीं कराने की मांग की है और कहा है कि महामारी के हालात में चुनाव कराना जानबूझकर लोगों को मौत की तरफ धकेलने के समान होगा। लोजपा ने कहा कि इस समय संसाधनों का इस्तेमाल कोविड-19 संकट से निपटने में तथा राज्य में बाढ़ से निपटने में होना चाहिए, न कि चुनाव कराने में। पार्टी ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी पहले ही खतरनाक स्वरूप ले चुकी है और जानकारों का मानना है कि अक्टूबर-नवंबर में यह और खतरनाक स्तर पर हो सकती है, इसलिए इस समय प्राथमिकता लोगों की जान बचाने की होनी चाहिए, न कि चुनाव कराने की।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले जदयू ने समय पर चुनाव कराने की वकालत की है और इसकी तैयारियों के सिलसिले में पार्टी संगठन स्तर पर बैठकें भी कर रही है। वहीं बिहार में मुख्य विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर चुनाव टालने की मांग कर चुका है। आयोग ने चुनाव कराने पर सभी दलों के विचार पूछे हैं। लोजपा ने कहा कि चुनाव कराने के लिए एक बड़ी आबादी की जान को खतरे में डालना पूरी तरह अनुचित है। पार्टी ने कहा कि देश में अब तक कोरोना वायरस संक्रमण से 35 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है जिनमें 280 मामले बिहार के हैं।

पार्टी ने चुनाव आयोग से कहा, ‘‘ऐसे हालात में चुनाव कराना जानबूझकर लोगों को मौत की ओर धकेलने के समान होगा।’’ पार्टी ने कहा है कि बिहार का बड़ा हिस्सा बाढ़ से भी बुरी तरह त्रस्त है। लोजपा ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के मानक स्वास्थ्य दिशानिर्देशों का पालन करते हुए चुनाव कराना बहुत कठिन होगा।

लोजपा ने कहा कि बिहार में आठ करोड़ से अधिक मतदाता हैं और इतनी बड़ी आबादी के लिए सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करते हुए प्रचार और मतदान करना लगभग असंभव होगा। पार्टी ने कहा कि चुनाव प्रचार लंबी प्रक्रिया है जिसमें उम्मीदवार कई दिन तक प्रचार करते हैं। उन्होंने कहा कि इस समय यह जनसंपर्क अभियान खतरनाक होगा। लोजपा महासचिव अब्दुल खालिक द्वारा लिखे गये पत्र में पार्टी ने कहा कि जब हालात सुधर जाएं, तभी चुनाव कराने चाहिए। 

Web Title: Ram Vilas Paswan's party demands postponement of Bihar election, letter written to Election Commission
राजनीति से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे