Doubts arise whether a pit-free Maharashtra can be thought of, otherwise what is it? | संदेह पैदा करता है कि क्या गड्ढा मुक्त महाराष्ट्र के बारे में सोचा जा सकता है, नहीं तो यह क्या है?
महाराष्ट्र सरकार की फिर से आलोचना की और आरोप लगाया कि उन्हें 15 दिसंबर तक ठीक करने के अपने वादे का पालन नहीं कर रही है।

Highlightsराकांपा की सुप्रिया सुले ने गड्ढे वाली सड़कों के लिए महाराष्ट्र सरकार की आलोचना की।बारामती से लोकसभा सांसद ने आगे कहा कि लोगों को अब सरकार को इस बारे में याद दिलाना चाहिए। 

राकांपा सांसद सुप्रिया सुले ने शुक्रवार को गड्ढों वाली सड़कों को लेकर महाराष्ट्र सरकार की फिर से आलोचना की और आरोप लगाया कि उन्हें 15 दिसंबर तक ठीक करने के अपने वादे का पालन नहीं कर रही है।

उन्होंने लोगों से ‘‘सेल्फी विथ गड्ढे’’ क्लिक करने और सोशल मीडिया पर इसे साझा कर मुख्यमंत्री कार्यालय को टैग करने के लिए कहा। सुले ने ट्वीट किया, ‘‘संदेह पैदा करता है कि क्या गड्ढा मुक्त महाराष्ट्र के बारे में सोचा जा सकता है , नहीं तो यह क्या है?

राज्य में गड्ढों के कारण सड़कों की हालत बहुत खराब है... बार-बार सरकार से सवाल करने पर वह हर साल 15 दिसंबर की समयसीमा दे देती है जबकि, कोई काम नहीं किया जाता।’’ बारामती से लोकसभा सांसद ने आगे कहा कि लोगों को अब सरकार को इस बारे में याद दिलाना चाहिए। 

Web Title: Doubts arise whether a pit-free Maharashtra can be thought of, otherwise what is it?
महाराष्ट्र से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे