उत्तर प्रदेशः सपा प्रमुख अखिलेश यादव को झटका, MLA आजम खान, अब्दुल्ला आजम और शिवपाल सिंह यादव बैठक से नदारद, जानें कारण

By लोकमत न्यूज़ डेस्क | Published: May 22, 2022 03:59 PM2022-05-22T15:59:11+5:302022-05-22T16:03:13+5:30

रामपुर से सपा विधायक खान के अलावा उनके बेटे एवं विधायक अब्दुल्ला आजम और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के प्रमुख शिवपाल सिंह यादव भी विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं हुए।

Uttar Pradesh SP chief Akhilesh Yadav MLA Azam Khan, Abdullah Azam and Shivpal Singh Yadav absent meeting  | उत्तर प्रदेशः सपा प्रमुख अखिलेश यादव को झटका, MLA आजम खान, अब्दुल्ला आजम और शिवपाल सिंह यादव बैठक से नदारद, जानें कारण

सपा के वरिष्ठ नेता रविदास मेहरोत्रा ने कहा, 'आजम खान और उनके बेटे अब्दुल्ला आजम कल (सोमवार) सत्र में भाग लेंगे।’’ (फाइल फोटो)

Next
Highlightsसीतापुर जेल से जमानत पर रिहा हुए खान रामपुर में हैं।स्वास्थ्य कारणों से वह बैठक में शामिल नहीं हो सके। अब्दुल्ला आजम रामपुर जिले की स्वार विधानसभा क्षेत्र से चुनाव में विजयी हुये हैं।

लखनऊः  उत्तर प्रदेश की 18वीं विधानसभा का सत्र शुरू होने से एक दिन पहले समाजवादी पार्टी (सपा) के मुख्यालय में रविवार को बुलाई गई विधायक दल की बैठक में पार्टी विधायक आजम खान और शिवपाल सिंह यादव शामिल नहीं हुए।

सपा नेताओं ने कहा कि हाल ही में सीतापुर जेल से जमानत पर रिहा हुए खान रामपुर में हैं और स्वास्थ्य कारणों से वह बैठक में शामिल नहीं हो सके। रामपुर से सपा विधायक खान के अलावा उनके बेटे एवं विधायक अब्दुल्ला आजम और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के प्रमुख शिवपाल सिंह यादव भी विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं हुए।

अब्दुल्ला आजम रामपुर जिले की स्वार विधानसभा क्षेत्र से चुनाव में विजयी हुये हैं। सपा के वरिष्ठ नेता रविदास मेहरोत्रा ने कहा, 'आजम खान और उनके बेटे अब्दुल्ला आजम कल (सोमवार) सत्र में भाग लेंगे।’’ उन्होंने कहा कि वह (आजम खान) स्वास्थ्य कारणों से बैठक में शामिल नहीं हो सके।

मेहरोत्रा ने बताया कि सोमवार को आजम खान विधानसभा सदस्य के तौर पर पहले शपथ लेंगे और उसके बाद सत्र में भाग लेंगे। गौरतलब है कि आजम खान के खिलाफ रामपुर में जमीन हड़पने सहित 88 मामले दर्ज हैं और 20 मई को उच्चतम न्यायालय द्वारा धोखाधड़ी के एक मामले में अंतरिम जमानत देने के बाद उन्हें सीतापुर जेल से रिहा कर दिया गया था।

खान के मीडिया प्रभारी फसाहत अली खान ने सपा प्रमुख अखिलेश यादव पर अपने सहयोगी (आजम खान) और मुस्लिम समुदाय की अनदेखी करने का आरोप लगाया था, जिससे समाजवादी पार्टी में दरार की अटकलें तेज हो गई थीं। फसाहत अली खान ने आरोप लगाया था कि अखिलेश यादव जेल में केवल एक बार आजम खान से मिले और पार्टी ने पिछले ढाई साल में उनकी रिहाई के लिए कोई प्रयास नहीं किया।

सीतापुर जेल में आजम खान से मुलाकात के बाद अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल सिंह यादव ने भी आरोप लगाया था कि सपा ने आजम खान की लड़ाई ठीक से नहीं लड़ी। समाजवादी पार्टी के नेतृत्व से आजम खान के नाखुश होने की अटकलों को तब और बल मिला जब जेल में रहते हुये उन्होंने सपा के विधायक रविदास मेहरोत्रा से मुलाकात नहीं की, लेकिन एक दिन बाद ही वहां कांग्रेस नेता प्रमोद कृष्णम से मुलाकात की।

इसके बारे में सीतापुर जेल से रिहाई के बाद रामपुर पहुंचे आजम खान से जब शुक्रवार को पत्रकारों ने सवाल किया कि आप सपा के प्रतिनिधिमंडल से क्‍यों नहीं मिले तो उन्होंने कहा था कि मेरी तबीयत ठीक नहीं थी। शिवपाल यादव की गैरमौजूदगी के बारे में मेहरोत्रा ने कहा कि ' हालांकि उन्होंने सपा के चुनाव चिन्ह (साइकिल) पर विधानसभा चुनाव जीता है लेकिन वह एक पार्टी के मुखिया भी हैं और पहले भी वह बैठक में शामिल नहीं हुए थे। ' उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव ने विधायकों को विधानसभा के सत्र में जनहित के मामलों को प्रमुखता से उठाने को कहा है। 

Web Title: Uttar Pradesh SP chief Akhilesh Yadav MLA Azam Khan, Abdullah Azam and Shivpal Singh Yadav absent meeting 

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे