दलितों को जाति के बजाय राष्ट्रवाद के नाम पर वोट करने के लिए मनाएं, एक बार में चाय न मिले तो हजार बार उनके घर जाएं: यूपी भाजपा अध्यक्ष

By विशाल कुमार | Published: November 15, 2021 12:01 PM2021-11-15T12:01:17+5:302021-11-15T12:04:01+5:30

उत्तर प्रदेश के भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि वे अपने मोहल्ले और गांवों में 10 से लेकर 100 दलित परिवारों के साथ चाय पीएं और उन्हें जाति, क्षेत्र और पैसे के नाम पर वोटिंग करने के बजाय राष्ट्रवाद के नाम पर वोटिंग करने के लिए मनाएं.

up election bjp state president dalit votes caste nationalism tea | दलितों को जाति के बजाय राष्ट्रवाद के नाम पर वोट करने के लिए मनाएं, एक बार में चाय न मिले तो हजार बार उनके घर जाएं: यूपी भाजपा अध्यक्ष

यूपी भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह. (फाइल फोटो)

Next
Highlightsकार्यकर्ताओं से 10 से लेकर 100 दलित परिवारों के साथ चाय पीने की अपील की.एक बार में कोई दलित चाय न पिलाए तो उनके घर हजार बार जाएं.जाति के नाम पर वोटिंग के बजाय राष्ट्रवाद के नाम पर वोटिंग करने के लिए मनाएं.

लखनऊ: आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर उत्तर प्रदेश के भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कथित ऊंची और ओबीसी जातियों के पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि वे दलितों के चाय और लंच करें और उसने जाति के आधार पर नहीं बल्कि राष्ट्रवाद के नाम पर वोट करने के लिए कहें.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, सिंह ने यह अपील पार्टी के ओबीसी सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन और वैश्य व्यापारी सम्मेलन रो संबोधित करते हुए कही.

सिंह ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि वे अपने मोहल्ले और गांवों में 10 से लेकर 100 दलित परिवारों के साथ चाय पीएं और उन्हें जाति, क्षेत्र और पैसे के नाम पर वोटिंग करने के बजाय राष्ट्रवाद के नाम पर वोटिंग करने के लिए मनाएं.

इससे पहले पार्टी के ओबीसी मोर्चा द्वारा आयोजित सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन में सिंह ने कहा कि मैं आपसे अपील कर रहा हूं. आप अपने समुदायों में जाएं. लेकिन हजारों दलितों, शोषित और वंचित परिवारों के घरों में से किसी एक में कम से कम एक बार चाय पीएं. अगर वहां आपको चाय पिलाया जाता है, इसका मतलब है कि आपका कद ठीक है. 

उन्होंने आगे कहा कि अगर वे आपको चाय के साथ काजू देते हैं तो इसका मतलब कि आपका कद बढ़ गया है. अगर वे चाय के साथ लंच कराते हैं तो इसका मतलब है कि परिवार भाजपा के साथ जुड़ गया है. अगर आप एक घर 10 दिन जाते हैं और आपको चाय नहीं पिलाई जाती है और वापस भेज दिया जाता है तो चाय मिलने का इंतजार करते रहें. आपको हजारों बार जाना होगा. आपके जाने से पार्टी मजबूत बनेगी और आप बड़े नेता बनेंगे.

Web Title: up election bjp state president dalit votes caste nationalism tea

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे