The weak leadership of Congress has become the weakness of the party | कांग्रेस का कमजोर नेतृत्व बन गया है पार्टी की कमजोरी
कांग्रेस का कमजोर नेतृत्व बन गया है पार्टी की कमजोरी

Highlightsलोकसभा चुनाव में भारी पराजय के बाद कांग्रेस आतंरिक संघर्ष में उलझ गयी है कमजोर नेतृत्व के कारण पार्टी में अलग-अलग आवाजें  उठ रही है तथा पार्टी नेताओं का छोड़कर जाने का सिलसिला जारी है

लोकसभा चुनाव में भारी पराजय के बाद कांग्रेस आतंरिक संघर्ष में उलझ गयी है.  कमजोर नेतृत्व के कारण पार्टी में अलग-अलग आवाजें  उठ रही है तथा पार्टी नेताओं का छोड़कर जाने का सिलसिला जारी है.
अशोक तंवर, संजय निरुपम, सलमान खुर्शीद, आदिति सिंह, कृपाशंकर सिंह  सहित तमाम दूसरे नेताओं के तीखे तेवरों से यह साबित होता जा रहा है कि पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी पूर्व की तरह पार्टी में अपना दबदबा कायम नहीं रख पा रही है. कुछ नेता पार्टी छोड़कर चले गये लेकिन कुछ बगावत के स्वर मुखर कर रहे है उनमें अधिकांश वे नेता है जो आज हाशिये पर खड़े है.  

पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने नपे-तुले शब्दों में इस संकट के लिए राहुल गांधी को जिम्मेदार ठहराते हुए हमला बोला. उन्होंने कहा कि हमारा नेता ही हमें छोड़कर चला गया जिसके कारण आज कांग्रेस अपने कठिनतम दौर से गुजर रही है. एक कदम आगे जाते हुए सलमान यहां तक कह बैठे कि हरियाणा और महाराष्ट्र में पार्टी की जीतने की संभावना ही नहीं है और उस मुकाम पर जा पहुंची है जहां से पार्टी का भविष्य भी तय नहीं हो पा रहा है .

सूत्र बताते है कि सलमान खुर्शीद अकेले ऐसा नेता नहीं , ऐसे नेताओं की लंबी कतार है जिनमें  जर्नादन द्विवेदी, ज्योतिरादित्य सिंधिया, मिलिंद देवड़ा, दिग्विजय ंिसंह, जयराम रमेश जो पार्टी नेृतत्व की कार्यशैली से खासे नाराज है. कुछ का आरोप है कि सोनिया के अध्यक्ष संभावने के बाद राहुल समर्थकों की पूछ कांगे्रस में नहीं रह गयी है. अनौपचारिक बातचीत में यह नेता बताते है कि सोनिया गांधी के सलाहकार केवल अपने चेहतों के अलावा किसी दूसरे नेता को आगे आने नहीं देते, दरअसल इन नेताओं का इशारा पार्टी के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल की ओर है. ऐसे आरोपों को लेकर अहमद पटेल पूर्व में भी विवादों से घिरे रहते है क्योंकि सोनिया गांधी के रहते वे पार्टी के सबसे ताकतवर नेता माने जाते है. जबकि इसके पलट राहुल के कार्यकाल में अहमद पटेल पर्दे के पीछे चले गये थे.

सलमान मानते है कि राहुल को अध्यक्ष पद नही छोड़ना चाहिए था उनको पार्टी की पराजय की समीक्षा करने चाहिए थी. सलमान के हमले का जवाब देने के लिए उत्तर प्रदेश से ही दूसरे मुस्लिम नेता राशिद अल्वी उतरे उन्होंने आरोप लगाया कि पार्टी के नेता ही पार्टी को नुकसान पहुंचा रहे है, राहुल गलत नहीं थे पार्टी के बड़े नेताओं द्वारा उनका साथ ना देने के कारण उनको जिम्मेदारी छोड़ने को मजबूर होना पड़ा.
कांग्रेस के इस आतंरिक संघर्ष पर भाजपा गद्गद् है. मुख्तार अब्बास नकवी कहते है कांग्रेस दिशाहीन पार्टी हो गयी है और वह अपने ही आतंरिक संघर्षो में उलझी पड़ी है.


Web Title: The weak leadership of Congress has become the weakness of the party
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे