इन कारणों से मिल सकता है आयकर विभाग का नोटिस, जानें किस मामले में क्या करना होगा सही

By दीप्ती कुमारी | Published: July 25, 2021 08:42 AM2021-07-25T08:42:21+5:302021-07-25T08:53:30+5:30

यदि आपको भी आईटीआर भरने से संबंधित परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है औऱ साथ ही आयकर विभाग की और से आपको नोटिस मिल रहे हैं तो घबराने की जरूरत नहीं है । इन आसान तरीकों से आप अपनी समस्या से निजात पा सकते हैं ।

reasons you may get income tax notice how to respond know everything about it | इन कारणों से मिल सकता है आयकर विभाग का नोटिस, जानें किस मामले में क्या करना होगा सही

फोटो सोर्स - सोशल मीडिया

Next
Highlightsआयकर विभाग द्वारा जारी नोटिस को अच्छे से समझकर उचित नियमों के तहत जवाब दें अगर आपका पहले से कर की राशि बाकी है तो आपको वापस दिए जाने वाले धन से पैसे काट लिए जाते हैं धारा 143(1) के तहत जारी नोटिस में बताया जाता है कि आपने सही राशि जमा की है या नहीं

मुंबई :  आयकर विभाग करदातओं द्वारा दाखिल आय़कर रिर्टन को संसाधित करता है और आयकर अधिनियम 1961 की धारा 143 (1) के तहत सूचना भेजता है । आमतौर पर इस समय के बाद करदाता को नोटिस भेजा जाता है । 

अगर आपको आईटी विभाग से नोटिस मिलता है तो घबराने की जरूरत नहीं है । मुख्य से कुछ कारण है, जिसे किसी व्यक्ति को नोटिस मिलता है । यह स्त्रोत पर कर कटौती(टीडीएस) गणना में गलती, आईटीआर में दी गई जानकारी में विसंगतियां, विभाग द्वारा यादृच्छिक जांच, आईटीआर को देय तिथि पर जमा न करना , उच्च मूल्य के लेनदेन आदि कुछ प्रमुख कारण है, जिसकी वजह से आपको आईटी विभाग नोटिस भेज सकता है ।

 धारा 139 (9)

करदाता को आयकर अधिनियम की धारा 139 (9) के तहत नोटिस दिया जा सकता है । मुख्य रूप से यदि कर रिटर्न में दी गई जानकारी गलत है या पूरे कर का भुगतान नहीं किया जाता है और करदाता  ने कटौती किए गए कर के लिए विशेष धनवापसी की बात की है लेकिन आय का उल्लेख नहीं किया या फोन या पैन कार्ड  बेमेल मामले में भुगतान किया गया कर आए से मेल नहीं खाता है तो अनुभाग के तहत एक नोटिस जारी किया जा सकता है।

कैसे प्रतिक्रिया दें 

ऐसी स्थिति में आंकलन अधिकारी द्वारा सूचित किए जाने के 15 दिनों के भीतर जवाब देना होता है । स्थानीय निर्धारण अधिकारी को लिख सकते हैं विस्तार विवरण के लिए अनुरोध कर सकते लेकिन यदि आप जवाब नहीं देते हैं तो आइटीआर अमान्य हो जाएगा । इनकम टैक्स फाइलिंग वेबसाइट पर जाएं और दिए गए एसेसमेंट ईयर का आइटीआर डाउनलोड करें । दिए गए विकल्पों में से धारा 139(9) के तहत नोटिस के जवाब में चुने और नोटिस में दिए गए पासवर्ड का उपयोग करके अपलोड करें।

धारा 245

इस धारा के तहत यदि करदाता ने काटे गए कर की वापसी का दावा किया लेकिन विभाग को भुगतान करने के लिए कुछ कर भी निलंबित है । इस मामले में एओ बकाया कर देय धनवापसी राशि से काट सकता है।

कैसे प्रतिक्रिया दें

इस धारा के तहत नोटिस प्राप्त करने पर करदाता को पिछले दस्तावेज का उल्लेख करना चाहिए और इस बात को सत्यापित करना चाहिए कि उनकी बात सत्य है । देय कर और भुगतान की गई राशि की गणना करें । पहले उल्लेखित आयकर फाइलिंग वेबसाइट से स्पोर्ट्स टू आउटस्टैंडिंग डिमांड विकल्प खोजें और चुनें, जिसके तहत उचित रूप से चयन करें । यदि आपको लगता है कि आप की मांग सही है या आंशिक रूप से गलत है।

धारा 143 (1)

यह सिर्फ एक सूचना पत्र है जो यह बताता है कि भुगतान किया गया कर्ज सही है या देय राशि से अधिक या कम है । इस धारा के तहत तीन प्रकार के नोटिस दिए जाते हैं जो आपके कर बकाया की एओ द्वारा गणना के आधार पर सूचना ,मांग या धनवापसी से संबंधित है।

कैसे प्रतिक्रिया दें

डिमांड नोटिस के मामले में आपको सेक्शन के तहत नोटिस की तारीख से 30 दिनों के भीतर भुगतान करना होगा । हालांकि सूचना या धन वापसी के मामले में आपको जवाब देने की आवश्यकता नहीं है।

धारा 143 (1ए)

करदाता को इस धारा के तहत एक नोटिस भेजा जाता है यदि आय के बीच एक विसंगति का उल्लेख एक फॉर्म 16ए या धारा 80 सी या चैप्टर वीआईएस या फॉर्म 26 एएस के तहत कटौती के बीच होता है ।   

कैसे प्रतिक्रिया दें

इसमें आपोक नोटिस प्राप्त करने के 30 दिन के भीतर जवाब देना होगा । इनकम टैक्स फाइलिंग वेबसाइट में लॉगिन करें और प्रोसेसिंग सेक्शन के तहत विसंगति की व्याख्या करें और सहायक दस्तावेज अपलोड करें ।
 

Web Title: reasons you may get income tax notice how to respond know everything about it

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे