PM Narendra Modi launches Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana and e-Gopala App farmers fisheries and animal husbandry Bihar | बिहार विधानसभा चुनावः पीएम मोदी ने दिया भोजपुरी में भाषण, कहा-रउआ सभी लोगन के प्रणाम कर तानी, जीता लोगों का दिल
'आत्मनिर्भर भारत' अभियान को उतनी ही ज्यादा ताकत मिलेगी और बिहार उतना ही आत्मनिर्भर बनेगा.

Highlightsप्रधानमंत्री मोदी ने सौगात देकर और भोजपुरी में भाषण की शुरुआत कर एक तीर से कई निशाने साधे. पूर्णिया जिले की मोनिका देवी से कहा कि उन्होंने स्वावलंबन और आत्मनिर्भरता के लिए जो भी काम किये हैं, वे उदाहरण बनने लायक हैं.साथियों को वैज्ञानिक तरीकों से पशुपालन करने की प्रेरणा दी. उन्होंने कहा कि स्थानीय उत्पादों को बिहार में जितना बढ़ावा मिलेगा

पटनाः आत्मनिर्भर बिहार अभियान के तहत बिहार को मत्स्य, पशुपालन व कृषि विभाग से जुड़ी 294.53 करोड़ की योजनाओं की सौगात मिली है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज योजनाओं, उद्घाटन और शिलान्यास किया.

इस दौरान प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना अंतर्गत 107 करोड़ की लागत की परियोजना के शुभारंभ की घोषणा की. इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने भोजपुरी में भाषण की शुरुआत कर लोगों का दिल जीता. पहला वाक्य "रउआ सभी लोगन के प्रणाम कर तानी. 

उन्होंने भोजपुरी में अपने भाषण की शुरुआत करते हुए कहा, "देशवा खातिर बिहार खातिर गांव के जिंदगी आसान बनावे खातिर और व्यवस्था मजबूत करे खातिर मछरी उत्पादन डेयरी पशुपालन और कृषि क्षेत्र में पढ़ाई और रिसर्च से जुड़ले सैकड़न करोड़ रुपये के योजना के शिलान्यास और लोकार्पण भईल ह. इकरा खातिर सौंसे बिहार के भाई बहन के अधरांम बधाई दे तानि.'

भोजपुरी में भाषण की शुरुआत कर एक तीर से कई निशाने साधे

गांव अर्थव्यवस्था मजबूत करे खातिर सैकड़ों करोड़ के योजना भईल ह. एकरा खातिर सभे के बधाई बा." इस तरह से प्रधानमंत्री मोदी ने सौगात देकर और भोजपुरी में भाषण की शुरुआत कर एक तीर से कई निशाने साधे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्णिया जिले की मोनिका देवी से कहा कि उन्होंने स्वावलंबन और आत्मनिर्भरता के लिए जो भी काम किये हैं, वे उदाहरण बनने लायक हैं.

उन्होंने मोनिका और उनके साथियों को वैज्ञानिक तरीकों से पशुपालन करने की प्रेरणा दी. उन्होंने कहा कि स्थानीय उत्पादों को बिहार में जितना बढ़ावा मिलेगा 'आत्मनिर्भर भारत' अभियान को उतनी ही ज्यादा ताकत मिलेगी और बिहार उतना ही आत्मनिर्भर बनेगा.

प्रधानमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से योजनाओं का शुभारंभ करते हुए यह भी कहा कि बिहार के गांव को आत्मनिर्भर भारत का केंद्र बनाने के लिए केंद्र सरकार अपने प्रयासों में और तेजी लाएगी. मोदी ने इस दौरान प्रदेश में फैले कोरोना के कहर और बाढ़ पर भी चर्चा की.

बिहार कोरोना के साथ-साथ बाढ़ का बहादुरी से सामना कर रहा

उन्होंने कहा कि बिहार कोरोना के साथ-साथ बाढ़ का बहादुरी से सामना कर रहा है. कोरोना और बाढ़ के कारण बिहार समेत आसपास के क्षेत्रों में जो स्थिति बनी है, उससे हम भली भांति परिचित हैं. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार और राज्य सरकार दोनों का प्रयास है कि राहत के कामों को तेज गति से पूरा किया जाए.

बेगूसराय के युवक को प्रधानमंत्री ने कहा कि आपने आधे मिनट में मुझे इंप्रेस किया. दरअसल, कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा, मत्स्य पालन और पशुपालन विभाग द्वारा प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना एवं गोपालकों को समृद्ध और आत्मनिर्भर बनाने के लिए योजनाओं के शुभारंभ करने के लिए आयोजित ऑनलाइन कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पशुपालक किसानों में जोश भरा.

बेगूसराय के पशुपालक किसान ब्रजेश कुमार से बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आपने आधे मिनट में मुझे प्रभावित कर लिया. आप जैसे पढे़-लिखे युवा जब आगे आएंगे तो गांव के किसानों का विकास होगा. प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना एवं गोपालकों को समृद्ध और आत्मनिर्भर बनाने के लिए योजनाओं के ऑनलाइन शुभारंभ के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों में खूब जोश भरा.

संवाद करने के दौरान उनकी बातों को सुनने के बाद प्रधानमंत्री ने उनकी जमकर तारीफ की

मधेपुरा के मत्स्यपालक ज्योति मंडल से संवाद करने के दौरान उनकी बातों को सुनने के बाद प्रधानमंत्री ने उनकी जमकर तारीफ की. उन्होंने कहा "ज्योति जी आज जब पूरे देश में निराशा फैलाई जा रही है. ऐसे में आप विश्वास की ज्योति जला रहे हैं. बता दें कि ज्योति ने प्रधानमंत्री से कहा कि मत्स्यपालन से आत्मनिर्भर हुए हैं. आपलोगों का राजपाट, एनडीए की सरकार आने के बाद हालात बदले हैं.

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि कोरोना संकट के कारण शहरों से लौटे कई श्रमिक साथी पशुपालन की तरफ बढ़ रहे हैं. सरकार की तरफ से उन्हें प्रोत्साहन भी मिल रहा है. मैं उनसे कहना चाहूंगा कि आप आज जो कर रहे हैं, उसका भविष्य उज्ज्वल है. उन्होंने कहा कि आज देश के 50 करोड़ से ज्यादा पशुधन को खुरपका और मुंहपका जैसी बीमारियों से मुक्त करने के लिए मुफ्त टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है.

पशुओं को बेहतर चारे के लिए भी अलग-अलग योजनाओं के तहत प्रावधान किए गए हैं. प्रधानमंत्री मोदी ने इस दौरान किसानों के प्रत्यक्ष उपयोग के लिए एक समग्र नस्ल सुधार, बाजार और सूचना संबंधी 'ई-गोपाला ऐप की भी शुरुआत की और आधे दर्जन से अधिक योजनाओं की शुरुआत की. उन्होंने कहा कि अब भारत उस स्थिति की तरफ बढ़ रहा है जब गांव के पास ही ऐसे क्लस्टर बनेंगे, जहां फूड प्रोसेसिंग से जु्डे उद्योग भी लगेंगे और पास ही उससे जुड़े रिसर्च सेंटर भी होंगे. 

हम कह सकते हैं- जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान

प्रधानमंत्री ने कहा कि यानि एक तरह से हम कह सकते हैं- जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान. इन तीनों की ताकत एकजुट होकर जब काम करेगी, तब देश के ग्रामीण जीवन में बहुत बडे बदलाव होंगे. बिहार में तो इसके लिए बहुत संभावनाएं हैं.

उन्होंने कहा कि बिहार के फल, चाहे वो लीची हो, जर्दालू आम हो, आंवला हो, मखाना हो या फिर मधुबनी पेंटिंग्स हो, ऐसे अनेक उत्पाद बिहार के जिले-जिले में हैं. उन्होंने आगे कहा कि हमें इन लोकल प्रोडक्ट्स के लिए और ज्यादा वोकल होना है. हम लोकल के लिए जितना वोकल होंगे, उतना ही बिहार आत्मनिर्भर बनेगा.

बिहार के गांवों को आत्मनिर्भर भारत का केंद्र बनाने के लिए हमारे प्रयास और बढ़ने वाले हैं. उन्होंने कहा कि इन प्रयासों में बिहार के परिश्रमी लोगों की बहुत बड़ी भूमिका है और इससे देश को और अधिक ताकत मिलेगी. प्रधानमंत्री ने कहा कि बिहार के लोग देश में हों या विदेश में अपने परिश्रम से, अपनी प्रतिभा से, अपना लोहा मनवाते हैं.

बिहार के सपनों को पूरा करने में भी निरंतर इसी तरह काम करते रहेंगे

मुझे विश्वास है कि बिहार के लोग आत्मनिर्भर बिहार के सपनों को पूरा करने में भी निरंतर इसी तरह काम करते रहेंगे. उन्होंने इस दौरान पीएमएमएसवाई योजना के लाभार्थियों से संवाद भी किया और उनके अनुभव भी सुने. मोदी ने बिहार में घर-घर नल का जल पहुंचाने के लिए हुए अब तक के काम के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जमकर सराहना करते हुए कहा कि चार-पांच साल पहले बिहार के गांव में सिर्फ दो प्रतिशत घरों में साफ पानी की आपूर्ति थी.

आज यह आंकड़ा बढ़कर 70 प्रतिशत से अधिक हो गया है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि से भी देश के 10 करोड़ से ज्यादा किसानों के बैंक खातों में सीधा पैसा पहुंचाया गया है. इसमें करीब 75 लाख किसान बिहार के भी हैं. जब से योजना शुरू हुई है, तब से अब तक करीब 6 हजार करोड़ रुपए बिहार के किसानों के बैंक खाते में जमा हो चुके हैं.

हर जरूरतमंद और बाहर से गांव लौटे हर श्रमिक परिवार तक पहुंचे

प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बात पर बहुत जोर दिया जा रहा है कि मुफ्त राशन की योजना और प्रधानमंत्री गरीब कल्याण रोजगार अभियान का लाभ बिहार के हर जरूरतमंद और बाहर से गांव लौटे हर श्रमिक परिवार तक पहुंचे.

बिहार में विधानसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई योजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया. प्रधानमंत्री मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़े रहे. इसको लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री मोदी को बधाई दी और कहा कि इस योजनाओं से बिहार के लोग और किसानों को बहुत फायदा मिलने वाला है. 

प्रधानमंत्री के संबोधन के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोगों को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना से बिहार के किसानों की आमदनी और बढे़गी. इस दौरान उन्होंने कहा कि किसानों, पशुपालकों और मछली पालन में लगे लोगों की आमदनी बढ़ाने के लिए बिहार सरकार ने कई पहल किए हैं.

वर्ष 2005 के पहले कृषि और पशुपालन तथा मछली पालन क्षेत्र में कोई काम नहीं होता था

वर्ष 2005 के पहले कृषि और पशुपालन तथा मछली पालन क्षेत्र में कोई काम नहीं होता था. बिहार सरकार की योजनाओं के साथ केंद्र की योजनाओं के सहयोग से किसानों को और फायदा होगा. कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री का अभिनंदन करते हुए कहा कि पूर्णिया कृत्रिम गर्भाधान केंद्र का शिलान्‍यास 12 मई 2018 को हुआ था. यह काम कम समय में ही पूरा हो गया है. पहली बार पटना पशु विज्ञान विवि की स्थापना की गई है, पटना में भ्रूण प्रत्‍यारोपण प्रयोगशाला का भी उद्घाटन किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि लोग बोलते रहते हैं, बिना काम को देखे लोग बोलते रहते हैं. कृषि के क्षेत्र में भी बड़ा काम किया. बिहार में अंडा व मांस-मछली का उत्‍पादन काफी बढ़ा है. बिहार में केवल 65 हजार मिट्रिक टन मछली बाहर से आती है. बिहार में खैर एरिया में खेती नहीं हो पाती है. वहां तालाब बनाने के लिए बढ़ावा दे रहे हैं.

एक तरफ मत्‍स्‍य पालन, दूसरी तरफ लोग खेती कर रहे हैं

एक तरफ मत्‍स्‍य पालन, दूसरी तरफ लोग खेती कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि नीलगाय से फसल बचाने के लिए लेमन ग्रास व खस के उत्‍पादन को बढ़ावा दिया जा रहा है, मत्‍स्‍य संपदा योजना का लाभ बिहार के साथ पूरे देश को मिले इसपर काम जारी है. कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल, मंत्री डॉ. प्रेम कुमार, नन्द किशोर यादव समेत अन्य कई मंत्री उपस्थित रहे. 

यहां उल्लेखनीय है कि बिहार में कुछ ही महीने में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और इस चुनाव में नीतीश कुमार की अगुवाई में भाजपा और एनडीए के अन्य घटक उतर रहे हैं. बिहार विधानसभा चुनाव से ठीक कुछ माह पहले करोड़ों रुपये की सौगात देकर जहां प्रधानमंत्री लोगों का दिल जीतने की कोशिश की, वहीं इस मौके पर भोजपुरी में भाषण की शुरुआत कर और बीच-बीच में भोजपूरी का उपयोग कर लोगों का दिल जीत लिया. हालांकि प्रधानमंत्री मोदी पहले भी बिहार में अपने दौरे के दौरान स्थानीय भाषा में लोगों को संबोधित करते रहे हैं.

Web Title: PM Narendra Modi launches Pradhan Mantri Matsya Sampada Yojana and e-Gopala App farmers fisheries and animal husbandry Bihar
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे