नागालैण्ड हिंसा: न्याय मिलने तक मृतकों के गांव में सुरक्षा बलों, समूहों और राजनीतिक दलों के प्रवेश पर पाबंदी, सरकार के घटनाक्रम को चुनौती दी

By विशाल कुमार | Published: December 9, 2021 09:05 AM2021-12-09T09:05:16+5:302021-12-09T09:12:45+5:30

नागालैण्ड के मोन के ओटिंग गांव ने केंद्र सरकार द्वारा सामने रखे गए घटनाक्रम को चुनौती दी और कहा कि सुरक्षा बलों ने यात्रियों के बारे में कुछ भी पता किए बिना शाम करीब साढ़े चार बजे आठ ग्रामीणों को ले जा रही पिकअप वैन पर घात लगाकर हमला किया।

nagaland oting-village-bars-entry-of-security-forces-groups-parties-till-justice-delivered | नागालैण्ड हिंसा: न्याय मिलने तक मृतकों के गांव में सुरक्षा बलों, समूहों और राजनीतिक दलों के प्रवेश पर पाबंदी, सरकार के घटनाक्रम को चुनौती दी

नागालैण्ड हिंसा: न्याय मिलने तक मृतकों के गांव में सुरक्षा बलों, समूहों और राजनीतिक दलों के प्रवेश पर पाबंदी, सरकार के घटनाक्रम को चुनौती दी

Next
Highlightsओटिंग गांव ने न्याय मिलने तक सुरक्षाबलों और राजनीतिक दलों के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी है।ग्राम निकाय ने कहा कि जो कुछ भी होगा उसके लिए जल्द ही जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिए।ग्राम निकाय ने केंद्र सरकार द्वारा सामने रखे गए घटनाक्रम को चुनौती दी।

कोहिमा: बीते शनिवार को सेना ने नागालैण्ड के मोन के जिस ओटिंग गांव में गोली मारकर 13 निर्दोष नागरिकों की हत्या कर दी थी उसमें से उस गांव ने न्याय मिलने तक सुरक्षाबलों, सभी समूहों और राजनीतिक दलों के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी है।

भारतीय सशस्त्र बलों की हत्याओं को बर्बर कायरतापूर्ण कृत्य बताते हुए ग्राम परिषद ओटिंग सिटीजन ने बुधवार को चेतावनी दी कि उन्हें किसी भी तरह से जो कुछ भी होगा उसके लिए जल्द ही जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिए।

इसके साथ ही ग्राम निकाय ने केंद्र सरकार द्वारा सामने रखे गए घटनाक्रम को चुनौती दी और कहा कि सुरक्षा बलों ने यात्रियों के बारे में कुछ भी पता किए बिना शाम करीब साढ़े चार बजे आठ ग्रामीणों को ले जा रही पिकअप वैन पर घात लगाकर हमला किया। आठ लोग रविवार को अपने परिवार के साथ ओटिंग में समय बिताने के लिए एक खनन स्थल में अपने काम से घर लौट रहे थे।

ओटिंग सिटिजन ने बयान में कहा कि हमें लगा कि उनका (सुरक्षा बलों) विद्रोहियों के साथ मुठभेड़ हो गया है। फिर उन्होंने वाहनों और अन्य सभी आंदोलनों के लिए सड़क को सभी तरफ से अवरुद्ध कर दिया और सभी वाहनों को कम इस्तेमाल होने वाले पायनियर रोड पर ले जाने के लिए मोड़ दिया।

मजदूरों के घर नहीं लौटने पर रात करीब आठ बजे अन्य ग्रामीण मौके पर पहुंचे जहां उन्होंने खाली पिकअप ट्रक के शीशे में छेद, धूल और कीचड़ से लथपथ खून के धब्बे मिले।

इससे ग्रामीणों को कुछ गड़बड़ होने का संदेह हुआ और उन्होंने सशस्त्र बलों के तीन वाहनों का पीछा किया और उनके वाहनों को ओवरटेक कर उन्हें रोक लिया. उन्होंने पहले तो पिकअप ट्रक में यात्रा कर रहे लड़कों के ठिकाने के बारे में किसी भी जानकारी से इनकार किया। जब ग्रामीणों ने उनके वाहनों की तलाशी ली तो सभी छह लड़कों के शव तिरपाल से ढके हुए थे और उस पर सेना के जवान बैठे थे।

सुरक्षा बलों ने लड़कों को आतंकवादी बताने की कोशिश की। दो अन्य लड़के गायब थे। जिससे स्थिति तनावपूर्ण हो गई और दोनों पक्षों में कहासुनी हो गई।

अचानक, सुरक्षा बलों ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी और अचानक मौके पर ही कुछ अन्य लोगों को मार कर घायल कर दिया। उन्होंने हमारी बाइक चुरा ली और हमारी बाइक में भागते समय वे अलग-अलग दिशाओं में फायरिंग करते रहे, रास्ते में कई अन्य लोगों की मौत हो गई और घायल हो गए। नागालैंड पुलिस ने कहा था कि दूसरी गोलीबारी में सात अन्य मारे गए।

Web Title: nagaland oting-village-bars-entry-of-security-forces-groups-parties-till-justice-delivered

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे