Ladakh deadlock: Chinese goods burning Jomato employees quit job burn company s T-shirt | लद्दाख गतिरोध: जल रहा चीनी सामान, जोमैटो के डिलीवरी ब्वॉयज ने छोड़ी नौकरी, जलाई कंपनी की टी-शर्ट
चीन के विरोध में जोमैटो के कर्मचारियों ने जलाई कंपनी की टी-शर्ट।

Highlightsलद्दाख में चीन के धोखे के बाद चीनी सामान और चीनी निवेश का विरोध भारत में तेजी से बढ़ रहा है।कोलकाता में ऐप आधारित फूड डिलीवरी कंपनी जोमैटो में काम कर रहे डिलीवरी ब्वॉयज के एक ग्रुप ने इस कंपनी से सामूहिक इस्तीफा दे दिया है।

कोलकाता। लोगों के घरों तक भोजन पहुंचाने वाली ऐप आधारित कंपनी जोमैटो के कुछ कर्मचारियों ने गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिकों के शहीद होने पर, चीन के खिलाफ विरोध जताते हुए शनिवार को कोलकाता में कंपनी के टी-शर्ट फाड़े और जलाए। बेहाला में प्रदर्शन के दौरान उसमें शामिल कुछ लोगों ने दावा किया कि उन्होंने जोमैटो की नौकरी छोड़ दी है क्योंकि इसमें चीन का निवेश है। साथ ही, उन्होंने लोगों से जोमैटो के जरिये भोजन का ऑर्डर नहीं करने का अनुरोध किया।

चीनी कंपनी ने किया है निवेश

गौरतलब है कि चीन की कंपनी अलीबाबा से जुडे एंट फाइनेंशियल ने 2018 में जोमैटो में 21 करोड़ डॉलर का निवेश कर उसकी 14.7 प्रतिशत साझेदारी (शेयर) खरीद ली थी। जोमैटो ने हाल ही में एंट फाइनेंशियल से 15 करोड़ डॉलर की राशि फिर से जुटायी है। प्रदर्शन में शामिल एक व्यक्ति ने कहा, ‘‘चीनी कंपनियां यहां से मुनाफा कमा रही हैं और हमारे सैनिकों पर हमले कर रही हैं। वे हमारी भूमि हथियाना चाहती हैं। ऐसा नहीं होने दे सकते।’’ गौरतलब है कि मई में जोमैटो ने अपने 13 प्रतिशत कर्मचारियों, 520 लोगों को कोविड-19 महामारी का हवाला देकर नौकरी से निकाल दिया था। जोमैटो से इस संबंध में तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है। और नाही इस बारे में कोई जानकारी मिली है कि प्रदर्शन करने वाले लोग कहीं नौकरी से निकाले गए कर्मचारी तो नहीं हैं।

स्वदेशी जागरण मंच के कार्यकर्ताओं ने जलाया चीनी सामान

पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों की शहादत को याद करते हुए चीन के विरोध में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) से संबद्ध स्वदेशी जागरण मंच के कार्यकर्ताओं ने शनिवार को पूर्वी दिल्ली के लक्ष्मी नगर में चीन में बने सामान की होली जलायी।

मंच के दिल्ली इकाई के सह संयोजक विकास चौधरी ने कहा, ‘‘ यह विरोध प्रदर्शन शहीदों को सांकेतिक तौर पर सम्मान देना है और हम लोगों से अपील करते हैं कि वे चीन में निर्मित वस्तुओं का बहिष्कार करें।’’ चौधरी ने कहा, ‘‘ हम चीन पर आर्थिक हमले करके उसे एहसास दिलाना चाहते हैं कि हमारे जवानों की हत्या करने और साथ में सामान बेचकर यहां धन कमाने के लिए भारतीय उन्हें बख्शेंगे नहीं।’’ दुकानदार, व्यापार मंडल के सदस्य और युवा मोर्चा के अध्यक्ष सुंदर चौधरी समेत अन्य ने इस विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया। 15 जून को लद्दाख के गलवान घाटी में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में एक अधिकारी समेत देश के 20 सैनिक शहीद हो गए।

Web Title: Ladakh deadlock: Chinese goods burning Jomato employees quit job burn company s T-shirt
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे