जम्मू कश्मीर: तीन सरकारी कर्मचारी बिना कारण बताए बर्खास्त, आदेश में प्रोफेसर को राज्य के लिए खतरा बताया

By विशाल कुमार | Published: May 14, 2022 07:44 AM2022-05-14T07:44:16+5:302022-05-14T07:45:52+5:30

पिछले आठ महीनों में कानून के तहत बर्खास्त किए गए 36 सरकारी कर्मचारियों में डॉक्टर पंडित सर्वोच्च रैंक के अधिकारी हैं। उनमें से 31 कश्मीर घाटी से हैं, जिनमें एक पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) देविंदर सिंह भी शामिल है, जिसे हिजबुल मुजाहिदीन के शीर्ष आतंकवादी सैयद नवीद के साथ संबंध को लेकर गिरफ्तार किया गया था।

jammu kashmir-3-govt-employees-dismissed-order-calls-prof-threat-to-state | जम्मू कश्मीर: तीन सरकारी कर्मचारी बिना कारण बताए बर्खास्त, आदेश में प्रोफेसर को राज्य के लिए खतरा बताया

जम्मू कश्मीर: तीन सरकारी कर्मचारी बिना कारण बताए बर्खास्त, आदेश में प्रोफेसर को राज्य के लिए खतरा बताया

Next
Highlightsसिन्हा ने शुक्रवार को डॉ. अल्ताफ हुसैन पंडित को राज्य की सुरक्षा के लिए खतरा घोषित किया।आदेश में संविधान के अनुच्छेद 311 के खंड 2 (सी) का हवाला दिया गया है।311 के खंड 2 (सी) राष्ट्रपति या राज्यपाल को जांच किए बिना कर्मचारियों की सेवाओं को समाप्त करने की अनुमति देता है। 

श्रीनगर:जम्मू कश्मीर प्रशासन ने कश्मीर विश्वविद्यालय के एक प्रोफेसर सहित तीन सरकारी कर्मचारियों को बिना किसी जांच के बर्खास्त कर दिया है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने शुक्रवार को डॉ. अल्ताफ हुसैन पंडित को राज्य की सुरक्षा के लिए खतरा घोषित करते हुए उन्हें तत्काल प्रभाव से बर्खास्त करने का आदेश दिया।

आदेश में कहा गया कि मामले के तथ्यों और परिस्थितियों पर विचार करने के बाद और उपलब्ध जानकारी के आधार पर उपराज्यपाल संतुष्ट हैं कि कश्मीर विश्वविद्यालय के रसायन विज्ञान विभाग में प्रोफेसर पुत्र गुलाम हसन पंडित अल्ताफ हुसैन पंडित निवासी वडूरा बाला, सोपोर की गतिविधियाँ ऐसी हैं जो सेवा से उनकी बर्खास्तगी की जरूरी बनाती हैं।

आदेश में संविधान के अनुच्छेद 311 के खंड 2 (सी) का हवाला दिया गया है जो राष्ट्रपति या राज्यपाल को जांच किए बिना कर्मचारियों की सेवाओं को समाप्त करने की अनुमति देता है। इसी तरह के एक आदेश में, सरकार ने कहा कि उनके आचरण की जांच आवश्यक नहीं है।

बर्खास्त किए गए दो अन्य लोगों में उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में राज्य के स्कूल शिक्षा विभाग में शिक्षक के रूप में कार्यरत लोलाब निवासी मोहम्मद मकबूल हाजम हैं और जम्मू प्रांत के डोडा के एक वरिष्ठ ग्रेड पुलिस कांस्टेबल गुलाम रसूल हैं।

पिछले आठ महीनों में कानून के तहत बर्खास्त किए गए 36 सरकारी कर्मचारियों में डॉक्टर पंडित सर्वोच्च रैंक के अधिकारी हैं। उनमें से 31 कश्मीर घाटी से हैं, जिनमें एक पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) देविंदर सिंह भी शामिल है, जिसे हिजबुल मुजाहिदीन के शीर्ष आतंकवादी सैयद नवीद के साथ संबंध को लेकर गिरफ्तार किया गया था। लगभग सभी मामलों में, सरकार ने कर्मचारियों या मीडिया के साथ बर्खास्तगी का कोई कारण साझा नहीं किया।

सूत्रों ने बताया कि हाल ही में डॉ पंडित के खिलाफ कुछ भी आपत्तिजनक नहीं मिला, लेकिन वह 1990 के दशक में हथियारों के प्रशिक्षण के लिए पाकिस्तान चले गए थे। 

सूत्रों ने कहा कि घाटी में लौटने के बाद डॉ. पंडित ने उग्रवाद को छोड़ दिया था और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में रसायन विज्ञान का अध्ययन करने गए थे। वे कॉलेज लेक्चरर बन गए लेकिन जल्द ही उन्होंने कश्मीर विश्वविद्यालय में नौकरी कर ली।

Web Title: jammu kashmir-3-govt-employees-dismissed-order-calls-prof-threat-to-state

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे