जॉब हंट को लेकर सामने आए चौंकाने वाले आंकड़े, भारत के 90 करोड़ कर्मचारियों में ज्यादातर महिलाओं ने छोड़ी काम की तलाश: रिपोर्ट

By मनाली रस्तोगी | Published: April 25, 2022 11:48 AM2022-04-25T11:48:11+5:302022-04-25T11:54:53+5:30

मुंबई में एक निजी शोध फर्म सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी प्राइवेट के नए आंकड़ों के अनुसार, सही प्रकार की नौकरी नहीं मिलने से निराश, लाखों भारतीय, विशेष रूप से महिलाएं, श्रम बल से पूरी तरह से बाहर हो रही हैं।

India’s 900 million workforce especially women stop looking for jobs says reports | जॉब हंट को लेकर सामने आए चौंकाने वाले आंकड़े, भारत के 90 करोड़ कर्मचारियों में ज्यादातर महिलाओं ने छोड़ी काम की तलाश: रिपोर्ट

जॉब हंट को लेकर सामने आए चौंकाने वाले आंकड़े, भारत के 90 करोड़ कर्मचारियों में ज्यादातर महिलाओं ने छोड़ी काम की तलाश: रिपोर्ट

Next
Highlights2017 और 2022 के बीच समग्र श्रम भागीदारी दर 46 प्रतिशत से गिरकर 40 प्रतिशत हो गई।महिलाओं के बीच डेटा और भी अधिक स्पष्ट है। लगभग 21 मिलियन कर्मचारियों ने काम छोड़ दिया, जबकि केवल 9 प्रतिशत योग्य आबादी को रोजगार मिला।

नई दिल्ली: भारत में जैसे देश में बेरोजगारी एक बड़ी समस्या है। मगर उससे बड़ी एक और समस्या सामने आई है। दरअसल, भारत की रोजगार सृजन समस्या एक बड़े खतरे में बदल रही है। ऐसे में यह पता चला है कि लोगों की बढ़ती संख्या अब काम की तलाश में भी नहीं है। मुंबई में एक निजी शोध फर्म सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी प्राइवेट के नए आंकड़ों के अनुसार, सही प्रकार की नौकरी नहीं मिलने से निराश, लाखों भारतीय, विशेष रूप से महिलाएं, श्रम बल से पूरी तरह से बाहर हो रही हैं।

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार, भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक में विकास को गति देने के लिए युवा कर्मचारियों पर दांव लगा रहा है, लेकिन सामने आए ताजा आंकड़े डराने वाले हैं। 2017 और 2022 के बीच समग्र श्रम भागीदारी दर 46 प्रतिशत से गिरकर 40 प्रतिशत हो गई। महिलाओं के बीच डेटा और भी अधिक स्पष्ट है। लगभग 21 मिलियन कर्मचारियों ने काम छोड़ दिया, जबकि केवल 9 प्रतिशत योग्य आबादी को रोजगार मिला। सीएमआईई के अनुसार, कानूनी कामकाजी उम्र के 90 करोड़ से अधिक भारतीय अब नौकरी नहीं करना चाहते हैं।

बेंगलुरू में सोसाइटी जनरल जीएससी प्राइवेट लिमिटेड के अर्थशास्त्री कुणाल कुंडू ने कहा, "निराश कर्मचारियों के बड़े हिस्से से पता चलता है कि भारत की युवा आबादी के लाभांश को प्राप्त करने की संभावना नहीं है। इससे असमानता को और बढ़ावा मिलेगा।" रोजगार सृजन को लेकर भारत की चुनौतियां अच्छी तरह से प्रलेखित हैं। 15 से 64 वर्ष की आयु के बीच की लगभग दो-तिहाई आबादी के साथ किसी भी चीज के लिए जो छोटे श्रम से परे है, प्रतिस्पर्धा भयंकर है। सरकार में स्थिर पदों पर नियमित रूप से लाखों आवेदन आते हैं और शीर्ष इंजीनियरिंग स्कूलों में प्रवेश व्यावहारिक रूप से एक बकवास है।

मैकिन्से ग्लोबल इंस्टीट्यूट की 2020 की एक रिपोर्ट के अनुसार, युवाओं की संख्या के साथ तालमेल बनाए रखने के लिए भारत को 2030 तक कम से कम 90 मिलियन नए गैर-कृषि रोजगार सृजित करने की आवश्यकता है। इसके लिए 8 प्रतिशत से 8.5 प्रतिशत की वार्षिक जीडीपी वृद्धि की आवश्यकता होगी। 25 साल की शिवानी ठाकुर ने कहा, "मैं एक-एक पैसे के लिए दूसरों पर निर्भर हूं।" बता दें कि उन्होंने भी अपनी नौकरी छोड़ी है। श्रम में गिरावट महामारी से पहले की है। 

साल 2016 में सरकार द्वारा काले धन पर मुहर लगाने के प्रयास में अधिकांश मुद्रा नोटों पर प्रतिबंध लगाने के बाद अर्थव्यवस्था में तेजी आई। उसी समय के आसपास एक राष्ट्रव्यापी बिक्री कर के रोल-आउट ने एक और चुनौती पेश की। भारत ने अनौपचारिक से औपचारिक अर्थव्यवस्था में संक्रमण के अनुकूल होने के लिए संघर्ष किया है। कार्यबल की भागीदारी में गिरावट के लिए स्पष्टीकरण अलग-अलग हैं। बेरोजगार भारतीय ज्यादातर छात्र या गृहिणी ही हैं। उनमें से कई किराये की आय, घर के बुजुर्ग सदस्यों की पेंशन या सरकारी स्थानान्तरण पर जीवित रहते हैं। तेजी से तकनीकी परिवर्तन की दुनिया में अन्य लोग विपणन योग्य कौशल-सेट रखने में पिछड़ रहे हैं।

महिलाओं के लिए कारण कभी-कभी घर पर सुरक्षा या समय लेने वाली जिम्मेदारियों से संबंधित होते हैं। हालांकि वे भारत की 49 प्रतिशत आबादी का प्रतिनिधित्व करती हैं। महिलाएं इसके आर्थिक उत्पादन में केवल 18 प्रतिशत का योगदान करती हैं, जो वैश्विक औसत का लगभग आधा है। सीएमआईई के महेश व्यास ने कहा, "महिलाएं अधिक संख्या में श्रम बल में शामिल नहीं होती हैं क्योंकि नौकरियां अक्सर उनके प्रति दयालु नहीं होती हैं। उदाहरण के लिए, पुरुष अपनी नौकरी तक पहुंचने के लिए ट्रेन बदलने को तैयार हैं। महिलाओं के ऐसा करने के लिए तैयार होने की संभावना कम है। ये बहुत बड़े पैमाने पर हो रहा है।"

सरकार ने इस समस्या का समाधान करने की कोशिश की है, जिसमें महिलाओं के लिए न्यूनतम विवाह आयु को 21 वर्ष तक बढ़ाने की योजना की घोषणा भी शामिल है। भारतीय स्टेट बैंक की एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार, यह महिलाओं को उच्च शिक्षा और करियर बनाने के लिए मुक्त करके कार्यबल की भागीदारी में सुधार कर सकता है। सांस्कृतिक अपेक्षाओं को बदलना शायद कठिन हिस्सा है। 

Web Title: India’s 900 million workforce especially women stop looking for jobs says reports

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे