Google dedicated Kamini Roy to today's Doodle, interesting facts about his life | Google ने कामिनी रॉय को समर्पित किया आज का Doodle, जानें उनकी जिंदगी से जुड़ी रोचक बातें
Google ने कामिनी रॉय को समर्पित किया आज का Doodle, जानें उनकी जिंदगी से जुड़ी रोचक बातें

कामिनी रॉय एक ऐसी महिला थी जिन्होंने ऐसे वक्त में महिलाओं की शिक्षा और उनके अधिकारों के लिए खुलकर लड़ाई की जब उस बारे में देश में कोई सोच भी नहीं रहा था। कामिनी भारत की ऐसी पहली महिला हैं जिन्होंने ब्रिटिश इंडिया में ग्रेजुएशन ऑनर्स किया। आज कवियित्री, सामाजिक कार्यकर्ता और शिक्षाविद कामिनी रॉय की 155वीं जयंती है।  गूगल ने आज का डूडल उन्हीं को समर्पित किया है।

कामिनी रॉय की जिंदगी का सफरनामा

- कामिनी रॉय का जन्म 12 अक्टूबर 1864 को बंगाल के बाकेरगंज जिले में हुआ था।

- कामिनी की रुचि बचपन से ही गणित में थी लेकिन उन्होंने संस्कृत में अपनी आगे की पढ़ाई की।

- कामिनी ने कोलकाता के बेथुन कॉलेज से 1886 में स्नातक किया और फिर वहीं प्राध्यापक हो गईं।

- कामिनी ने महिला अधिकारों के लिए उस वक्त संघर्ष शुरू किया जब समाज कई कुप्रथाओं में जकड़ा हुआ था।

- कामिनी राय अमूमन कहा करती थीं कि महिलाओं को क्यों अपने घरों में कैद रहना चाहिए?

- उन्होंने बंगाली महिलाओं को पहली बार 1926 में वोट दिलाने की लड़ाई में भी हिस्सा लिया था।

- जीवन के अंतिम सालों में कामिनी राय तब के बिहार के हजारीबाग में जिले में रहने आ गई थीं, जहां 1933 में उनका निधन हुआ था।

English summary :
Google Honor Kamini Roy birthday by making Google doodle today: Kamini Roy was a woman who fought openly for women's education and their rights at a time when there was no one in the country to think about it. Kamini is the first woman in India to have graduated in British India.


Web Title: Google dedicated Kamini Roy to today's Doodle, interesting facts about his life
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे