Highlightsखड़से ने कहा कि भाजपा से उनके नाता तोड़ने के बाद यदि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) हरकत में आता है, तो वह सीडी दिखाएंगे। भाजपा में उनके साथ अन्याय किया गया और उन्हें अपमानित किया गया तथा छेड़छाड़ जैसे झूठे आरोप भी उन पर लगाये गये थे।भतीजे अजित पवार की कार्यक्रम से अनुपस्थिति से यह प्रदर्शित हुआ है कि वह (अजित) खड़से के पार्टी में शामिल होने से नाखुश हैं।

मुंबईः महाराष्ट्र भाजपा के पूर्व नेता एकनाथ खड़से, उनकी बेटी रोहिणी और उनके कई समर्थक शुक्रवार को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) में शामिल हो गये।

 

उन्होंने राकांपा का जनाधार उससे भी दोगुनी गति से बढ़ाने का संकल्प लिया, जिस गति से उन्होंने महाराष्ट्र में कभी भाजपा के लिये काम किया था। खड़से, यहां राकांपा प्रमुख शरद पवार और पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में इसमें शामिल हुए।

खड़से ने कहा कि भाजपा से उनके नाता तोड़ने के बाद यदि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) हरकत में आता है, तो वह सीडी दिखाएंगे। उन्होंने यह दावा किया कि भाजपा के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने खुद ही उनसे कहा था कि भगवा पार्टी में उनका कोई भविष्य नहीं है और उन्हें राकांपा में शामिल हो जाना चाहिए, जो राज्य में शिवसेना नीत महा विकास अघाड़ी सरकार में एक प्रमुख घटक दल है।

यहां राकांपा मुख्यालय में खड़से के पार्टी में शामिल होने के कार्यक्रम में पवार ने कहा कि हर चीज अभी की तरह ही रहेगी। साथ ही उन्होंने मीडिया में आई उन खबरों को खारिज कर दिया, जिनमें दावा किया गया है कि उप मुख्यमंत्री एवं एवं उनके भतीजे अजित पवार की कार्यक्रम से अनुपस्थिति से यह प्रदर्शित हुआ है कि वह (अजित) खड़से के पार्टी में शामिल होने से नाखुश हैं।

पूर्व कैबिनेट मंत्री खड़से (68) ने बुधवार को भाजपा छोड़ दी थी

उत्तर महाराष्ट्र के जलगांव जिले में अपना अच्छा-खासा प्रभाव रखने वाले राज्य के पूर्व कैबिनेट मंत्री खड़से (68) ने बुधवार को भाजपा छोड़ दी थी। उन्होंने भाजपा से अपने इस्तीफे की घोषणा करते हुए आरोप लगाया था कि पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने उनका राजनीतिक करियर बर्बाद करने की कोशिश की थी। राकांपा के कार्यक्रम में खडसे ने एक बार फिर से कहा कि भाजपा में उनके साथ अन्याय किया गया और उन्हें अपमानित किया गया तथा छेड़छाड़ जैसे झूठे आरोप भी उन पर लगाये गये थे।

एक प्रमुख ओबीसी नेता खड़से को भूमि पर कब्जा करने के आरोपों को लेकर 2016 में तत्कालीन मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस के मंत्रिमंडल से इस्तीफा देना पड़ा था। हालांकि, खड़से ने इन आरोपों को खारिज कर दिया था। खडसे ने कहा कि इन आरोपों के बारे में उन्होंने विधानसभा में साक्ष्य मांगे थे। लेकिन आज तक उनके सवाल का कोई जवाब नहीं मिला है। उन्होंने कहा, ‘‘एक बार, जयंतराव (पाटिल) के साथ चर्चा के दौरान उन्होंने मुझसे पूछा था कि क्या मैं राकांपा में शामिल हो रहा हूं? मैंने कहा था, हां, मैं चाहता हूं। ’’

मेरे पीछे ईडी को लगाएंगे, तो मैं सीडी चला दूंगा

खड़से ने कहा, ‘‘यदि आप (पाटिल) मेरी मदद करने जा रहे हैं, तो मैं आऊंगा। जयंतराव ने मुझसे कहा कि ईडी मेरे पीछे लग जाएगी (यदि मैं राकांपा में शामिल हुआ तो)। मैंने कहा कि मेरे पीछे ईडी को लगाएंगे, तो मैं सीडी चला दूंगा। ’’ जयंत पाटिल प्रदेश राकांपा प्रमुख और राज्य में मंत्री भी हैं।

खड़से ने कहा, ‘‘मैंने कौन सी भूमि कब्जा की? जयंतराव मुझे कुछ दिनों का वक्त दीजिए। मैं आपको दिखा दूंगा कि किसने कितनी जमीन हड़प कर रखी है।’’ खड़से ने कहा कि वह राकांपा में किसी पद या भूमिका की आकांक्षा के बगैर शामिल हुए हैं और वह पार्टी का जनाधार बढ़ाने के लिये काम करेंगे। उन्होंने कहा कि उनके समर्थकों की यह भावना थी कि वह राकांपा में शामिल हो जाएं। उन्होंने दावा किया कि दिल्ली से भाजपा के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने उन्हें ऐसा करने का सुझाव दिया था।

उन्होंने कहा, ‘‘जब मैंने स्थिति के बारे में दिल्ली में बैठे (भाजपा के) वरिष्ठ नेताओं से बात की तो उन्होंने मुझसे कहा था कि आपका यहां (भाजपा में) कोई भविष्य नहीं है। ’’ उन्होंने दावा किया, ‘‘ मैंने पूछा कि मुझे क्या करना चाहिए? उन्होंने मुझसे कहा कि पार्टी बदल लीजिए। मैंने पूछा किसमें जाना सही रहेगा? उन्होंने राकांपा में जाने का सुझाव दिया था। ’’ खड़से ने दावा किया कि भाजपा में कई नेता आजिज आ चुके हैं और सोचते हैं कि उन्हें पार्टी बदल लेनी चाहिए, लेकिन वे लोग ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि उन्हें अपने पीछे ईडी को लगा दिये जाने का डर है।

खडसे के राकांपा में शामिल होने के घटनाक्रम से अजित के नाखुश होने की मीडिया में आई खबरों को खारिज करते हुए शरद पवार ने कहा , ‘‘वह नाखुश क्यों होंगे?’’ अजित की कोविड-19 की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई थी लेकिन वह घर पर पृथक-वास में हैं।

पवार ने मीडिया में आई इन खबरों को भी खारिज कर दिया कि एमवीए सरकार में राकांपा के किसी मंत्री को पद से हटा कर मंत्रिमंडल में खडसे को शामिल करने का मार्ग प्रशस्त किया जाएगा। बुधवार को, प्रदेश राकांपा प्रमुख जयंत पाटिल ने उनके (खड़से के) शरद पवार नीत पार्टी में शामिल होने की घोषणा की थी। राकांपा, राज्य के सत्तारूढ़ गठबंधन में शिवसेना और कांग्रेस के साथ शामिल है। राज्य की यह महा विकास अघाड़ी सरकार 11 महीने पहले सत्ता में आई थी।

खड़से भाजपा के ‘असल’ कार्यकर्ता नहीं थे: दानवे

केन्द्रीय मंत्री और भाजपा नेता रावसाहेब दानवे ने अपनी पार्टी के पूर्व सहयोगी एकनाथ खड़से पर शुक्रवार को निशाना साधते हुए कहा कि वह ‘‘भाजपा के असल कार्यकर्ता’’ नहीं थे। दानवे ने दो दिन पहले खडसे की राज्य में भाजपा को खड़ा करने में उनके योगदान और पार्टी में उनके ‘‘लंबे करियर’’ के लिए प्रशंसा की थी। देवेन्द्र फडणवीस के नेतृत्व वाली तत्कालीन भाजपा सरकार में सबसे वरिष्ठ मंत्री रहे खडसे को 2016 में जमीन हड़पने के आरोपों को लेकर राजस्व मंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा था और वह उसके बाद पार्टी में लगभग हाशिए पर चले गए थे।ट

खडसे ने बुधवार को भगवा पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। वह अब राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) में शामिल होने की तैयारी कर रहे हैं। महाराष्ट्र राकांपा प्रमुख और राज्य में मंत्री जयंत पाटिल ने बुधवार को कहा था कि खडसे शरद पवार के नेतृत्व वाली पार्टी में शामिल होंगे।

दानवे ने पत्रकारों से कहा, ‘‘खड़से 1970 के दशक के अंत में कांग्रेस (एस) का हिस्सा थे। उस समय कांग्रेस नेता रहे शरद पवार ने जलगांव से नागपुर तक एक रैली आयोजित की थी जिसमें खडसे ने उस पार्टी के कार्यकर्ता के रूप में भाग लिया था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘खड़से कभी भी एक असल भाजपा कार्यकर्ता नहीं थे... मैं भाजपा का एक असल कार्यकर्ता हूं और उनसे वरिष्ठ भी हूं।’’ उन्होंने खडसे के उन आरोपों को भी खारिज किया कि भाजपा की राज्य इकाई "एक व्यक्ति का संगठन" बन गई है। 

Web Title: Eknath Khadse bjp Joined NCP daughter Rohini ED play CD Ajit Pawar program

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे