Delhi Night Curfew: डीडीएमए ने 27 जनवरी को बैठक बुलाई, हट सकता है नाइट और वीकेंड कर्फ्यू, दुकान पर भी फैसला संभव!

By भाषा | Published: January 24, 2022 09:49 PM2022-01-24T21:49:22+5:302022-01-24T22:08:29+5:30

Delhi Night Curfew: डीडीएमए ने गैर-आवश्यक सेवाओं से संबंधित सभी निजी कार्यालयों को बंद करने सहित अन्य पाबंदियां भी लगायी थीं।

Delhi Night Curfew covid DDMA called meeting January 27 night and weekend curfew may be removed decision shop possible | Delhi Night Curfew: डीडीएमए ने 27 जनवरी को बैठक बुलाई, हट सकता है नाइट और वीकेंड कर्फ्यू, दुकान पर भी फैसला संभव!

पत्र लिखकर सप्ताहांत कर्फ्यू और दुकान खोलने की सम-विषम व्वस्था को हटाने के अलावा रेस्तरां और जिम को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ चलाने की अनुमति देने का अनुरोध किया था। 

Next
Highlightsसोमवार को कोविड-19 के नए मामलों की संख्या 5,760 हो गई है।संक्रमण दर भी घटकर 11.79 फीसदी पर आ गई है। कोविड​​​​-19 की स्थिति में सुधार के मद्देनजर दी जा सकती है।

Delhi Night Curfew: सप्ताहांत कर्फ्यू और दुकानें खोलने के लिए सम-विषय व्यवस्था हटाने की व्यापारियों के साथ ही आम आदमी पार्टी (आप) एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की मांग के बीच, दिल्ली के शीर्ष कोविड-19 प्रबंधन निकाय दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) दिल्ली में महामारी की स्थिति की समीक्षा करने के लिए बृहस्पतिवार को बैठक करेगा।

अधिकारियों ने कहा कि उपराज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में डीडीएमए की बैठक 27 जनवरी को दोपहर 12.30 बजे निर्धारित है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के भी बैठक में भाग लेने की संभावना है। इस बैठक में दिल्ली में छूट की अनुमति पर चर्चा होगी जो कोविड​​​​-19 की स्थिति में सुधार के मद्देनजर दी जा सकती है।

एक आधिकारिक सूत्र के अनुसार, सरकार इस महीने के अंत तक छात्रों के टीकाकरण की स्थिति के आधार पर फरवरी से स्कूलों को फिर से खोलने पर भी विचार कर सकती है। दिल्ली सरकार ने शुक्रवार को महामारी की स्थिति को देखते हुए सप्ताहांत कर्फ्यू हटाने और दुकानें खोलने के लिए सम-विषम योजना को समाप्त करने का प्रस्ताव दिया था, लेकिन उपराज्यपाल बैजल ने स्थिति में और सुधार होने तक पाबंदियों पर यथास्थिति बनाए रखने का सुझाव दिया था।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि उपराज्यपाल कार्यालय ने हालांकि निजी कार्यालयों को 50 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ काम करने की अनुमति देने के सरकार के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी थी। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा था कि पाबंदियों में ढील देने का निर्णय दिल्ली में कोविड-19 मामलों की घटती संख्या को देखते हुए और यह सुनिश्चित करने के लिए भी लिया गया था कि जनता की आजीविका प्रभावित न हो। सिसोदिया ने कहा था, ‘‘अब चूंकि मामले कम हो रहे हैं और यह भी लगता है कि कोरोना वायरस लहर का चरम गुजर गया है, हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि जनता की आजीविका सुचारू रूप से चलती रहे। हमने सप्ताहांत कर्फ्यू और बाजारों में दुकानों के खुलने की सम-विषम व्यवस्था को खत्म करने का भी प्रस्ताव रखा है।’’

दिल्ली के कई हिस्सों में व्यापारी भी पाबंदियों का विरोध कर रहे हैं और पाबंदियों को हटाने की मांग कर रहे हैं, जिसमें गैर-जरूरी सामान बेचने वाली दुकानों पर लगायी गई पाबंदियां शामिल हैं जिसके तहत उन्हें सम-विषम व्यवस्था के आधार पर एक दिन छोड़कर खोलने की अनुमति दी गई है।

सप्ताहांत कर्फ्यू शुक्रवार को रात 10 बजे लागू होता है और सोमवार सुबह 5 बजे तक जारी रहता है। दिल्ली में कोविड-19 मामलों में वृद्धि के कारण एक जनवरी को डीडीएमए द्वारा सप्ताहांत कर्फ्यू लगाने का निर्णय लिया गया था।

Web Title: Delhi Night Curfew covid DDMA called meeting January 27 night and weekend curfew may be removed decision shop possible

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे