Cyclone Nisarga: Tin roof atop a building in Raigad blown away due to strong winds-NDRF) | Cyclone Nisarga: महाराष्ट्र पर टूटा 'निसर्ग' का कहर, तिनके की तरह उड़ी इमारत की छत
मुंबई के कालाचौकी इलाके में पेड़ गिरने से कई गाड़ियां क्षतिग्रस्त हो गयी हैं.. फोटो (ANI)

Highlightsचक्रवाती तूफान निसर्ग के चलते मुंबई में हो रही तेज़ बारिश और आंधी के बीच नरीमन प्वाइंट इलाके में पेड़ उखड़ गए.पुणे में निसर्ग चक्रवात की वजह से कई इलाकों में भारी वर्षा हो रही है. 

मुंबईः महाराष्ट्र के रायगढ़ में चक्रवात निसर्ग का कहर जारी है. 'निसर्ग' की वजह से चल रही तूफानी हवाएं एक इमारत की छत ही उड़ा ले गईं.

इस हादसे का एनडीआरफ ने एक वीडियो जारी किया है जिसमें साफ देखा जा सकता है कि jरायगढ़ कैसे हवाओं के सामने इमारत की टिन से बनी छत तिनके की तरह उड़ गई. मौसम विभाग ने बताया कि निसर्ग के केंद्र इसकी वर्तमान तीव्रता 90-100 किमी प्रति घंटा से 110 किमी प्रति घंटा है. यह अगले 6 घंटे के दौरान उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ेगा और कमजोर होता जाएगा. 

चक्रवाती तूफान निसर्ग के चलते मुंबई में हो रही तेज़ बारिश और आंधी के बीच नरीमन प्वाइंट इलाके में पेड़ उखड़ गए है जिससे रास्ते बंद हो गये हैं. मुंबई के कालाचौकी इलाके में पेड़ गिरने से कई गाड़ियां क्षतिग्रस्त हो गयी हैं. पुणे में निसर्ग चक्रवात की वजह से कई इलाकों में भारी वर्षा हो रही है. 

'निसर्ग' चक्रवात बुधवार 3 जून को दोपहर 1 बजे महाराष्ट्र के समुद्री तट से टकराया. हालांकि निसर्ग के पहुंचने से पहले मुंबई और इसके आसपास के इलाकों में एक दिन पहले मंगलवार शाम से ही बारिश शुरू हो गई थी. महाराष्ट्र के रायगढ़, ठाणे और पालघर जिले भी तूफान से की चपेट में हैं. 

महाराष्ट्र के अलावा ही गुजरात के वलसाड, नवसारी, सूरत, भावनगर और भरुच जिलों के पर भी निसर्ग का असर देखा जा रहा है. हालांकि जयंत सरकार, निदेशक, भारत मौसम विज्ञान ने कहा कि गुजरात में निसर्ग चक्रवाती तूफान के ज़्यादा प्रभाव की उम्मीद नहीं है. आज के दिन ही प्रमुख प्रभाव रहेगा. निसर्ग का असर महाराष्ट्र और उससे सटे हुए दक्षिणी गुजरात के ज़िलों में दिखेगा. गुजरात में हाई टाइड ने द्वारका तट को भी प्रभावित किया है.

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कहा कि एनडीआरएफ, फायर ब्रिगेड, लाइफ गार्ड और हर तरह की आपदा से निपटने के लिए टीमें तैयार हैं. एनडीआरएफ सभी जगहों पर टीमें तैनात हैं पर ये कितनी एक्टिव हैं ये देखना मेरा काम है. एनडीआरएफ के महानिदेशक एस.एन. प्रधान ने बताया कि चक्रवात 'निसर्ग' के मद्देनज़र महाराष्ट्र और गुजरात दोनों राज्यों में एनडीआरएफ  की 43 टीमें तैनात हैं जिनमें से 21 महाराष्ट्र में हैं. एस एन प्रधान ने बताया कि निसर्ग से प्रभावित इलाकों से अब तक 1 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है. 

Web Title: Cyclone Nisarga: Tin roof atop a building in Raigad blown away due to strong winds-NDRF)
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे