Budget 2020: Sitharaman said, people should have employment, budget is the aspirations of the country | Budget 2020: सीतारमण ने कहा, लोगों के पास रोजगार होना चाहिए, देश की आकांक्षाओं का बजट है
हमारे लोगों के पास रोजगार होना चाहिए। यह बजट उनकी आय सुनिश्चित करने और उनकी क्रय शक्ति को बढ़ाने के लिए है।

Highlightsवित्त मंत्री ने कहा कि GST का कलेक्शन लगातार बढ़ रहा है और हाल ही में इसने 1 लाख करोड़ रुपये का आंकड़ा पार किया है। GST काउंसिल की ओर से लोगों की समस्याओं को सुना जा रहा है।

मोदी सरकार ने पार्ट 2 में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में बजट भाषण पढ़ना शुरू किया। 2019 के लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी की सरकार को बहुमत मिला, ये चुनाव नतीजे हमारी नीतियों पर मिला जनादेश हैं। ये बजट देश की आकांक्षाओं का बजट है।

सीतारमण ने जीएसटी के शिल्पकार दिवंगत अरुण जेटली को श्रद्धांजलि दी। वित्त मंत्री ने कहा अर्थव्यवस्था की बुनियाद मजबूत, सरकार ने 2014-19 के दौरान राजकाज में व्यापक बदलाव किए। वित्त मंत्री बजट भाषण पढ़ने हल्दी जैसे पीले रंग की साड़ी में पहुंचीं। वित्त मंत्री ने 15वें वित्त आयोग की रिपोर्ट लोकसभा पटल पर रखी। 

वित्त मंत्री ने कहा कि GST का कलेक्शन लगातार बढ़ रहा है और हाल ही में इसने 1 लाख करोड़ रुपये का आंकड़ा पार किया है। GST काउंसिल की ओर से लोगों की समस्याओं को सुना जा रहा है। हमारे लोगों के पास रोजगार होना चाहिए। यह बजट उनकी आय सुनिश्चित करने और उनकी क्रय शक्ति को बढ़ाने के लिए है।

हमारी सरकार 'सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास' की नीति पर आगे बढ़ रही है। भारत आज दुनिया में बढ़ती हुई अर्थव्यवस्थाओं की अगुवाई कर रहा है। 2014 से 2019 के बीच मोदी सरकार की नीतियों की वजह से 284 बिलियन डॉलर का FDI आया, जिसने कारोबार को बढ़ाया।

एक अप्रैल 2020 से जीएसटी की नयी सरलीकृत रिटर्न व्यवस्था लागू होगी। वित्त वर्ष 2014-15 से 2018-19 के दौरान 7.4 प्रतिशत की औसत आर्थिक वृद्धि हासिल की गयी। भारत दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था हो गया। जीएसटी से परिवहन और लॉजिस्टिक क्षेत्र की दक्षता बढी, इंस्पेक्टर राज समाप्त हुआ, लघु और मझोले उद्योग क्षेत्र को लाभ हुआ और ग्राहकों को एक लाख करोड़ रुपये का सालाना बचत हुई। पिछले दो साल में जीएसटी में दो लाख नए करदाता जुड़े। 40 करोड़ रिटर्न दाखिल किये गए। 105 करोड़ ई-वे बिल सृजित हुए। इस बजट का लक्ष्य लोगों को रोजगार उपलब्ध कराना, कारोबार को मजबूत करना,, सभी अल्पसंख्यकों, अनुसूचित जाति / जनजाति की महिलाओं की आकांक्षाओं को पूरा करना है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में शनिवार को हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में एक अप्रैल से शुरू होने वाले वित्त वर्ष के लिये मसौदा बजट को मंजूरी दे दी गई। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में अपना दूसरा बजट पेश करने के लिये संसद आने से पहले अपनी टीम के साथ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की।

उनके साथ वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर, वित्त सचिव राजीव कुमार एवं मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारी थे । राष्ट्रपति भवन ने अपने ट्वीट में कहा, ‘‘ परंपरा के अनुसार वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट पेश करने से पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से भेंट की।’’

यह बजट ऐसे समय पेश किया जा रहा है जब देश में आर्थिक मंदी को लेकर चिंताएं प्रकट की जा रही हैं । पिछली बार की तरह सीतारमण इस साल भी लाल रंग के पारंपरिक ‘‘बही खाता’’ में बजट दस्तावेज लेकर संसद पहुंची। वित्त मंत्री पीले रंग की साड़ी पहन कर संसद आई थीं। लाल रेशम के कपड़े में रखा बजट दस्तावेज उनके हाथ में था ।

Web Title: Budget 2020: Sitharaman said, people should have employment, budget is the aspirations of the country
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे