Bhim Army Chandrashekhar Azad 15 March Bahujan Hunkar Rally in delhi | मोदी सरकार के खिलाफ दिल्ली में रैली करेंगे भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर, प्रियंका से मुलाकात के बाद यूपी में सियासी उबाल
मोदी सरकार के खिलाफ दिल्ली में रैली करेंगे भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर, प्रियंका से मुलाकात के बाद यूपी में सियासी उबाल

Highlightsचंद्रशेखर आजाद ने इस बात का दावा भी किया है कि नरेन्द्र मोदी लोकसभा चुनाव 2019 में जिस भी सीट से लड़ेंगे वो उनके विरोध खड़े होंगे। भीम आर्मी के संस्थापक चन्द्रशेखर आजाद सहित 28 लोगों के विरूद्ध नामजद मामला और 150 अज्ञात व्यक्तियों के विरूद्ध मामला दर्ज किया था। 

भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने ऐलान किया है कि 15 मार्च को राजधानी दिल्ली के जंतर-मंतर पर एक रैली होगी। चंद्रशेखर आजाद ने रैली में लोगों को शामिल होने के लिए आग्रह भी किया है। चंद्रशेखर आजाद ने ये संदेश देश के लोगों को एक वीडियो जारी कर दिया है। भीम आर्मी के मुताबिक मान्यवर साहब कांशीराम जी के जन्मदिवस पर इस रैली का आयोजन किया जा रहा है।

चंद्रशेखर ने नरेन्द्र मोदी सरकार द्वारा "दलितों पर अत्याचार" के खिलाफ रैली को "सुनामी" में बदलने की अपील की है। चंद्रशेखर आजाद ने कहा, 'जब से मैंने मोदी का विरोध किया है, सरकार हिल गई है और मुझे चुप कराने की कोशिश कर रही है। लेकिन मैं दबाव में नहीं रहूंगा या चुप रहूंगा और उनके और सरकार के खिलाफ बोलूंगा।' चंद्रशेखर आजाद ने इस बात का दावा भी किया है कि नरेन्द्र मोदी लोकसभा चुनाव 2019 में जिस भी सीट से लड़ेंगे वो उनके विरोध खड़े होंगे। 

यूपी देवबंद में हिरासत में लिए गए भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद 

मंगलवार को चंद्रशेखर की तबीयत उस समय खराब हो गई जब वह सहारनपुर से दिल्ली के लिए ‘बहुजन सुरक्षा अधिकार यात्रा’ निकाल रहे थे। यात्रा जब देवबंद पहुंची तब अनुमति नहीं मिलने के कारण पुलिस ने यात्रा रोक दी और चंद्रशेखर को हिरासत में ले लिया था। यूपी के देवबंद पुलिस ने भीम आर्मी के संस्थापक चन्द्रशेखर आजाद सहित 28 लोगों के विरूद्ध नामजद मामला और 150 अज्ञात व्यक्तियों के विरूद्ध मामला दर्ज किया था। 

पुलिस ने इनके विरूद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 147, 188, 171 एफ, 341, 353 के तहत मामला दर्ज किया है। सहारनपुर के एसएसपी दिनेश कुमार पी ने भाषा को बताया कि इनके विरूद्ध आदर्श आचार सहिता उल्लंघन के तहत कार्रवाई की गई है।

पुलिस की कार्रवाई से नाराज उनके समर्थकों ने राजमार्ग पर हंगामा शुरू कर दिया। गुस्साई भीड़ की अधिकारियों के साथ नोकझोंक हुई। हंगामे के बीच अचानक चंद्रशेखर की तबीयत बिगड़ गई और वह बेहोश हो गए, उनका रक्तचाप बढ़ गया और सांस लेने में दिक्कत होने लगी जिस पर उन्हें तुरन्त ही एम्बुलेंस से मेरठ के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

 चंद्रशेखर आजाद का हालचाल जानने अस्पताल पहुंची थीं प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार(13 मार्च) को भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद से अस्पताल में मुलाकात की।एक दिन पहले ही आजाद को इस अस्पताल में भर्ती कराया गया था और प्रियंका उनका हालचाल जानने आयीं थीं। प्रियंका करीब आधा घंटा तक अस्पताल में रहीं।

प्रियंका बुधवार शाम अचानक मेरठ के एक निजी अस्पताल में भर्ती भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर से मिलने पहुंचीं। उनके साथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और पश्चिम उत्तर प्रदेश के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मौजूद थे।

इस दौरान मीडिया से बातचीत में प्रियंका गांधी ने इतना ही कहा,''चंद्रशेखर से मिलने के लिये अस्पताल आने में कोई राजनीति नहीं है। मैं इस लड़के से मिलने आई हूं, क्योंकि चन्द्रशेखर का संघर्ष मुझे पसंद आया। उसने अपने लोगों के लिए संघर्ष किया है।'' 

जब संवाददाताओं ने इस मुलाकात के राजनीतिक मायने को लेकर सवाल किया तो प्रियंका बोलीं, 'आप इसका राजनीतिकरण करना चाहते हैं तो कीजिए ... :मैं सिर्फ हाल जानने आयी थी ।' कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की भीम आर्मी के प्रमुख से मुलाकात को उत्तर प्रदेश के राजनीतिक हलके में बसपा सुप्रीमो मायावती पर ‘‘दबाव ’’ बनाने के रूप में देखा जा रहा है क्योंकि एक दिन पहले ही मायावती ने चुनावी गठबंधन को लेकर कांग्रेस के लिए बसपा के दरवाजे बंद कर दिये थे।

प्रियंका कोई राजनीति करने नहीं आई थी: चंद्रशेखर

मुलाकात के मायने पूछने पर चंद्रशेखर ने भी कहा, 'मैं सियासी व्यक्ति नहीं हूं । मैं बहुजन समाज के लिए लड़ता हूं । वह प्रियंका कोई राजनीतिक बात करने नहीं आयी थीं । ना कुछ पूछ रहीं थीं ।'  उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी वाड्रा उनकी तबियत पूछने आई थीं। इससे ज्यादा और कुछ नहीं। चन्द्रशेखर ने कहा, ‘‘मैं बहुजन समाज के साथ हूं।’’ प्रियंका के दौरे के दौरान अस्पताल में सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए थे। 

चंद्रशेखर से प्रियंका की मुलाकात के बाद मायावती से मिले अखिलेश 

समाजवादी पार्टी (सपा) मुखिया अखिलेश यादव ने बुधवार को बसपा सुप्रीमो मायावती से मुलाकात की। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की मेरठ में भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर से मुलाकात के कुछ ही घंटे बाद अखिलेश ने मायावती से भेंट की। सपा प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने बताया कि यह मुलाकात आगामी लोकसभा चुनाव के लिए होने वाली रैलियों, सभाओं और बैठकों के सिलसिले में थी। उन्होंने बताया कि चुनाव करीब आ रहे हैं। होली के बाद चुनाव प्रचार की पूर्णतया शुरूआत कर दी जाएगी। चौधरी ने बताया कि गठबंधन ने उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के लिए दो सीटें छोडी हैं और ईमानदारी से पूरा समर्थन किया जाएगा।(पीटीआई इनपुट के साथ)


Web Title: Bhim Army Chandrashekhar Azad 15 March Bahujan Hunkar Rally in delhi
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे