असम, नागालैण्ड और मणिपुर में आफ्स्पा क्षेत्रों को कम करेगी सरकार, अमित शाह ने दी जानकारी

By विशाल कुमार | Published: March 31, 2022 02:47 PM2022-03-31T14:47:31+5:302022-03-31T14:55:03+5:30

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट करते हुए कहा कि एक महत्वपूर्ण कदम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्णायक नेतृत्व में भारत सरकार ने दशकों बाद नागालैंड, असम और मणिपुर राज्यों में सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम (आफ्स्पा) के तहत अशांत क्षेत्रों को कम करने का निर्णय लिया है।

areas-under-controversial-law-afpsa-in-nagaland-assam-and-manipur-will be reduced-says-amit-shah | असम, नागालैण्ड और मणिपुर में आफ्स्पा क्षेत्रों को कम करेगी सरकार, अमित शाह ने दी जानकारी

असम, नागालैण्ड और मणिपुर में आफ्स्पा क्षेत्रों को कम करेगी सरकार, अमित शाह ने दी जानकारी

Next
Highlightsनागालैण्ड, असम और मणिपुर में आफ्स्पा क्षेत्र कम होंगे।शाह ने कहा कि उत्तर पूर्व में स्थायी शांति लाने के लिए लगातार प्रयासों और कई समझौतों के कारण संभव हुआ।आफ्स्पा सुरक्षा बलों को बिना किसी पूर्व वारंट के किसी को भी गिरफ्तार करने का अधिकार देता है।

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि केंद्र ने दशकों की अशांति के बाद नागालैण्ड, असम और मणिपुर में सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम (आफ्स्पा) के तहत क्षेत्रों को कम करने का फैसला किया है।

शाह ने ट्वीट करते हुए कहा कि एक महत्वपूर्ण कदम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्णायक नेतृत्व में भारत सरकार ने दशकों बाद नागालैंड, असम और मणिपुर राज्यों में सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम (आफ्स्पा) के तहत अशांत क्षेत्रों को कम करने का निर्णय लिया है।

इस कदम के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व को श्रेय देते हुए उन्होंने कहा कि उग्रवाद को समाप्त करने और उत्तर पूर्व में स्थायी शांति लाने के लिए लगातार प्रयासों और कई समझौतों के कारण बेहतर सुरक्षा स्थिति और तेजी से विकास ने इसे संभव बनाया है।

क्षेत्र के लोगों को बधाई देते हुए, उन्होंने पहले की सरकारों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि यह क्षेत्र दशकों से उपेक्षित था और अब शांति, समृद्धि और अभूतपूर्व विकास का एक नया युग देख रहा है।

आफ्स्पा सुरक्षा बलों को कहीं भी अभियान चलाने और बिना किसी पूर्व वारंट के किसी को भी गिरफ्तार करने का अधिकार देता है। यह किसी ऑपरेशन के गलत होने की स्थिति में सुरक्षा बलों को एक निश्चित स्तर की प्रतिरक्षा भी देता है।

यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है जब पिछले साल 4 दिसंबर को नागालैंड के मोन जिले में उग्रवाद विरोधी अभियान और जवाबी हिंसा में सुरक्षा बलों द्वारा की गई गोलीबारी में 14 नागरिकों की मौत के बाद कानून को रद्द करने की मांग तेज हो गई है।

मणिपुर में हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनावों में, सभी दलों ने राज्य से विवादास्पद अधिनियम को हटाने की मांग को पूरा करने का वादा किया था। दूसरे कार्यकाल के लिए मणिपुर के मुख्यमंत्री के रूप में लौटे बीरेन सिंह ने आफस्पा के बारे में कुछ करने के वादे के साथ राज्य का चुनाव लड़ा।

Web Title: areas-under-controversial-law-afpsa-in-nagaland-assam-and-manipur-will be reduced-says-amit-shah

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे