पाकिस्तान में अचानक मिसाइल गिरने के बाद भारत से ब्रह्मोस खरीदने वाले फिलीपींस ने भारतीय राजयनिक को तलब किया था

By विशाल कुमार | Published: April 6, 2022 09:26 AM2022-04-06T09:26:12+5:302022-04-06T09:30:17+5:30

फिलीपींस में भारतीय राजदूत शंभू एस. कुमारन ने रक्षा सचिव डेल्फिन लोरेंजाना को बताया कि मिसाइल सिस्टम में कोई तकनीकी समस्या नहीं थी और एक जांच चल रही है। उन्होंने यह भी बताया कि जब भी जांच विवरण उपलब्ध होगा, इसे अधिकारियों के साथ साझा किया जाएगा।

after-missile-malfunction-brahmos-buyer-manila-called-indian-envoy | पाकिस्तान में अचानक मिसाइल गिरने के बाद भारत से ब्रह्मोस खरीदने वाले फिलीपींस ने भारतीय राजयनिक को तलब किया था

पाकिस्तान में अचानक मिसाइल गिरने के बाद भारत से ब्रह्मोस खरीदने वाले फिलीपींस ने भारतीय राजयनिक को तलब किया था

Next
Highlightsफिलीपींस ने मनीला में भारतीय राजदूत शंभू एस. कुमारन को तलब किया था।कुमारन ने लोरेंजाना को बताया कि मिसाइल सिस्टम में कोई तकनीकी समस्या नहीं थी।इस साल 28 जनवरी को फिलीपींस ने ब्रह्मोस मिसाइल की तीन बैटरी खरीदने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।

नई दिल्ली: एक भारतीय मिसाइल के पाकिस्तान में की गई आकस्मिक गोलीबारी के कुछ दिनों बाद भारत से ब्रह्मोस मिसाइल खरीदने वाले फिलीपींस ने भारत से घटना पर स्पष्टीकरण मांगा है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, फिलीपींस के राष्ट्रपति रोड्रिगो दुतेर्ते के नेतृत्व में फिलीपींस कैबिनेट में सबसे वरिष्ठ मंत्रियों में से एक रक्षा सचिव डेल्फिन लोरेंजाना ने मनीला में भारतीय राजदूत शंभू एस. कुमारन को तलब किया था।

कुमारन ने लोरेंजाना को बताया कि मिसाइल सिस्टम में कोई तकनीकी समस्या नहीं थी और एक जांच चल रही है। उन्होंने यह भी बताया कि जब भी जांच विवरण उपलब्ध होगा, इसे अधिकारियों के साथ साझा किया जाएगा।

मिसाइल के आकस्मिक फायरिंग ने फिलीपींस में कुछ चिंता पैदा कर दी थी। हालांकि, आधिकारिक तौर पर मिसाइल के ब्रह्मोस होने का खुलासा नहीं किया गया है।

इस साल 28 जनवरी को, फिलीपींस ने ब्रह्मोस मिसाइल की तीन बैटरी खरीदने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए, जिसे रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) और रूस के एनपीओ माशिनोस्ट्रोयेनिया द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया है।

भारत में ब्रह्मोस एयरोस्पेस द्वारा निर्मित फिलीपींस सौदा लगभग 375 मिलियन डॉलर का है, और इसे भारत का पहला महत्वपूर्ण रक्षा निर्यात माना जा रहा है।

घटना के एक दिन बाद 10 मार्च को, पाकिस्तानी सेना ने कहा था कि एक हथियार रहित भारतीय सुपरसोनिक मिसाइल ने सिरसा से उड़ान भरी और पाकिस्तानी क्षेत्र में लगभग 124 किलोमीटर अंदर खानेवाल जिले के मियां चन्नू के पास गिरा। 11 मार्च को, भारत सरकार ने कहा कि यह एक आकस्मिक गोलीबारी थी।

Web Title: after-missile-malfunction-brahmos-buyer-manila-called-indian-envoy

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे