Intermittent Fasting Facts vs Myths: जानिए इंटरमिटेंट फास्टिंग से जुड़े तथ्य और मिथक, न करें ये गल‍तियां

By मनाली रस्तोगी | Published: September 23, 2022 04:03 PM2022-09-23T16:03:41+5:302022-09-23T16:10:58+5:30

इंटरमिटेंट फास्टिंग का मतलब है कि जो लोग इस पद्धति का पालन करते हैं वे रोजाना या साप्ताहिक निश्चित घंटों के लिए कुछ भी नहीं खाते हैं।

Health Benefits Of Intermittent Fasting Facts vs Myths | Intermittent Fasting Facts vs Myths: जानिए इंटरमिटेंट फास्टिंग से जुड़े तथ्य और मिथक, न करें ये गल‍तियां

Intermittent Fasting Facts vs Myths: जानिए इंटरमिटेंट फास्टिंग से जुड़े तथ्य और मिथक, न करें ये गल‍तियां

Next
Highlightsअमेरिका के नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन के अनुसार, इंटरमिटेंट फास्टिंग कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार के लिए फायदेमंद है। कई अध्ययनों से पता चलता है कि इंटरमिटेंट फास्टिंग शरीर के वजन और संरचना को बदलने के लिए फायदेमंद है।अध्ययनों के अनुसार, रुक-रुककर उपवास करने से तेजी से वजन कम होता है।

Intermittent Fasting Facts vs Myths: इंटरमिटेंट फास्टिंग (Intermittent Fasting) हाल के वर्षों में उन लोगों में धीरे-धीरे लोकप्रिय हो रही है जो अतिरिक्त किलो वजन कम करने के लिए डाइट पर हैं। ऐसा ही एक तरीका है जिसने वर्षों से लोकप्रियता हासिल की है, वह है इंटरमिटेंट फास्टिंग। इंटरमिटेंट फास्टिंग लोगों को इसलिए आकर्षित करती है क्योंकि यह इस बात पर ध्यान केंद्रित करती है कि कब नहीं खाना चाहिए, न कि किन खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए।

इंटरमिटेंट फास्टिंग का अर्थ है कि जो लोग इस पद्धति का पालन करते हैं, वे प्रतिदिन या साप्ताहिक निश्चित घंटों के लिए कुछ भी नहीं खाते हैं। जहां कुछ लोगों का मानना ​​है कि इंटरमिटेंट फास्टिंग के वजन कम करने में मदद करने के अलावा इसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं तो वहीं दूसरों का दावा है कि ये फास्टिंग कुपोषण, पाचन में समस्या, सांस की बदबू, सिरदर्द और अन्य लोगों के बीच कई स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म दे सकती है। 

अमेरिका के नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन के अनुसार, इंटरमिटेंट फास्टिंग कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार के लिए फायदेमंद है। कई अध्ययनों से पता चलता है कि इंटरमिटेंट फास्टिंग शरीर के वजन और संरचना को बदलने के लिए फायदेमंद है। अध्ययनों के अनुसार, रुक-रुककर उपवास करने से तेजी से वजन कम होता है। इस तरीके से लोगों ने करीब आठ हफ्तों में करीब 3-7 फीसदी वजन कम किया है।

मेयोक्लिनिक में प्रकाशित एक लेख के अनुसार, आंतरायिक उपवास सूजन को कम करने और गठिया, अस्थमा, मल्टीपल स्केलेरोसिस और स्ट्रोक जैसी सूजन से जुड़ी स्थितियों में सुधार करने में मदद कर सकता है। हालांकि, स्वास्थ्य लाभ के अलावा लंबे समय तक उपवास करने से स्वास्थ्य पर कुछ प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। कुछ लोग रुक-रुककर उपवास करने के कारण भोजन के समय अधिक खा लेते हैं। कई बार कुछ लोगों को थकान भी महसूस होती है। कुछ शोधों के अनुसार, रुक-रुककर फास्टिंग करने के कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं जैसे सिरदर्द, थकान और अनिद्रा।

इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान ये गलतियां करने से बचें

-फास्टिंग को बहुत काम्प्लेक्स न बनाएं, इसे आसान रहने दें। नए पैटर्न पर आने के लिए अपने शरीर को थोड़ा समय दें और धीरे-धीरे ही फास्टिंग शुरू करें।

-मानव शरीर को पानी की सख्त जरूरत होती है, ऐसे में एकदम से पानी पीना न छोड़ें। आप चाहे फास्टिंग करें या न करें, लेकिन फास्टिंग करते समय हाइड्रेटेड रहें। जूस और पानी जैसे तरल पदार्थ लेते रहे।

-इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान ज्यादा तीव्रता वाले वर्कआउट करने से बचें।

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Lokmat Hindi News इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन पर अमल करने से पहले या इसके बारे में अधिक जानकारी लेने के लिए डॉक्टरों से जरूर संपर्क करें।)

Web Title: Health Benefits Of Intermittent Fasting Facts vs Myths

स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे