चलती हुई ट्रेन से महिला ने दो बच्चों को फेंका, फिर खुद कूदी प्लेटफॉर्म पर, जीआरपी इंस्पेक्टर ने बचाई जान

By बृजेश परमार | Published: May 14, 2022 08:23 PM2022-05-14T20:23:29+5:302022-05-14T20:30:51+5:30

उज्जैन रेलवे स्टेशन पर जीआरपी इंस्पेक्टर के साहस से एक महिला की जान बच गई। महिला ने चलती हुई ट्रेन से पहले अपने दोनों बच्चोें को प्लेटफॉर्म पर फेंका और उसके बाद खुद भी कूद गई लेकिन उसी दौरान महिला का पैर फिसला और वो सीधे ट्रेन और प्लेटफॉर्म के बीच में गिरकर फंस गई।

Woman throws two children from moving train, then jumps herself on platform, GRP inspector saves life | चलती हुई ट्रेन से महिला ने दो बच्चों को फेंका, फिर खुद कूदी प्लेटफॉर्म पर, जीआरपी इंस्पेक्टर ने बचाई जान

सांकेतिक तस्वीर

Next
Highlightsउज्जैन रेलवे स्टेशन पर एक महिला ने चलती हुई ट्रेन से अपने दो बच्चोें को प्लेटफॉर्म पर फेंका महिला खुद भी ट्रेन से कूदी लेकिन वो ट्रेन और प्लेटफॉर्म के बीच फंस गईमौके पर मौजूद जीआरपी इंस्पेक्टर ने महिला को खिचकर रेलवे ट्रैक से सुरक्षित बाहर निकाल लिया

उज्जैन:उज्जैन रेलवे स्टेशन पर एक महिला ने चलती हुई ट्रेन से एक के बाद एक करके दो बच्चों को प्लेटफॉर्म पर फेंका और उसके बाद स्वंय भी चलती ट्रेन से कूद गई। कूदने के दौरान महिला का बैलेंस बिगड़ गया और वो सीधे प्लेटफॉर्म पर न गिरकर ट्रेन और प्लेटफॉर्म के बीच रेलवे ट्रैक पर चली गई।

शुक्र है कि उसी समय जीआरपी के इंस्पेक्टर महेश कुशवाहा की नजर इस मंजर पर गई और उन्होंने जान की परवाह न करते हुए महिला को खिंचकर प्लेटफॉर्म पर लिया और महिला की जान बचा ली। जानकारी के मुताबिक यह घटना शनिवार को प्लेटफॉर्म संख्या 1 पर हुई। मौके पर मौजूद लोगों ने जीआरपी  इंस्पेक्टर की सूझबूझ और बहादुरी की जमकर तारीफ की।

इस मामले में जानकारी देते हुए जीआरपी उज्जैन की ओर से बताया गया कि रेलवे प्लेटफॉर्म एक पर जीआरपी इंस्पेक्टर महेश कुशवाह ने अदम्य साहस दिखाते हुए महिला की जान बचा ली। यह हादसा सुबह करीब 6:30 से 7:00 के बीच हुआ, जब उज्जैन की रहने वाली महिला अपने पति और दो बच्चों के साथ सीहोर जा रही थी।

महिला को जयपुर-भोपाल ट्रेन से सीहोर जाना था। महिला का पति ट्रेन की टिकट लेने टिकट काउंटर पर गया था। इसी दौरान रेलवे स्टेशन प्लेटफॉर्म संख्या एक पर जयपुर-नागपुर ट्रेन आकर खड़ी हुई। महिला ने गलती से इस ट्रेन को जयपुर-भोपाल समझ लिया और उसमें जाकर बैठ गई।

थोड़े ही समय के बाद ट्रेन अगले गंतव्य की ओर चल दी, तभी ट्रेन के अंदर बैठे यात्रियों ने महिला को बताया कि वह गलत ट्रेन में बैठ गई है तो महिला हड़बड़ाहट में महिला ने पहले तो अपने दोनों बच्चों को एक-एक करके प्लेटफार्म पर सामान के साथ फेंक दिया और उसके बाद खुद चलती हुई ट्रेन से प्लेटफॉर्म पर कूद पड़ी।

पूरी घटना को देख रहे पास ही मौजूद जीआरपी इंस्पेक्टर महेश कुशवाह ने पहले तो महिला द्वारा फेंके गये बच्चों को संभाला और उसके बाद उन्होंने देखा कि महिला प्लेटफॉर्म और ट्रेन के बीच में रेलवे ट्रैक पर गिर गई। उस मंजर को देखने के बाद इंस्पेक्टर फौरन उसकी ओर दौड़े और महिला का हाथ पकड़कर प्लेटफार्म की ओर खींच लिया। आरक्षक के इस साहसिक कार्य का विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, जिसकी लोगों द्वारा तारीफ की जा रही है।

इस मामले में स्टेशन प्रबंधक मुकेश जैन ने बताया कि इंस्पेक्टर महेश कुशवाहा के साहसिक कार्य को सम्मानित करने के लिए मंडल रेल प्रबंधक एवं महाप्रबंधक पश्चिम रेलवे को प्रशंसा पत्र के साथ मैन ऑफ द मंथ के लिए अनुशंसा की गई है। 

Web Title: Woman throws two children from moving train, then jumps herself on platform, GRP inspector saves life

क्राइम अलर्ट से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे