Human Trafficking gang busted 7 arrested west Bengal to ghaziabad meerut connection | मिस्ड कॉल पर बंगाल से दिल्ली तक बिकती रही लड़की, देह व्यापार का ऐसा गिरोह, सुन दहशत में आ जाएंगे आप

गाजियाबाद, 11 जुलाई: पश्चिम बंगाल के हावड़ा से एक किशोरी लापता हो गयी, पुलिस जब तलाश के लिए निकली तो जिस देह व्यापार के काले कारोबार का खुलासा हुआ, उसके बारे में जानकर पुलिस भी दंग रह गयी। उस लड़की को एक बार नहीं बल्कि कई बार बेचा गया। सौदा भी कोई ऐसा-वैसा नहीं लड़की का पैकेज में बेचा गया था। 

सात आरोपी गिरफ्तार

पश्चिम बंगाल की पुलिस ने सिहानी गेट थाना और एसएसपी द्वारा गठित अल्फा टीम की मदद से मंगलवार( 10 जुलाई) को नंदग्राम से गिरोह के सात लोगों को गिरफ्तार कर इनके चंगुल से दो लड़कियों को छुड़वाया। इसमें एक तो वह लापता किशोरी है और दूसरी लड़की झारखंड की है। इस मामले में तीन आरोपियों को पहले ही बंगाल पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। जिसके बाद दोनों राज्यों की पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए नंदग्राम से आरोपियों को धर दबोचा। इनमें चार महिलाएं और तीन पुरुष हैं। पुलिस ने इनकी पहचान भारती शर्मा, सोनिया, संतो, रुचि, राकेश, मुकेश और रवींद्र के रूप में हुई है। 

किशोरी की आपबीती 

हावड़ा की रहनेवाली 17 वर्षीय किशोरी ने बताया, "मुझे एक मिस्ड कॉल आया था। उसी के जरिए मेरी मुलाकात अशरफुल नामक शख्स से हुई थी।" अशरफुल मूल रूप से तमिलनाडु का रहने वाला है। उसने किशोरी को बताया कि वह बहुत अमीर है। पीड़िता उसके बातों में आ गई। चार अप्रैल को उसके साथ भाग गई। किशोरी ने बताया कि अशरफुल ने उसे अपने बाबू नाम के दोस्त के पास छोड़ा था। दो दिन बाद बाबू उसे दिल्ली में शादी कराने का झांसा देकर गाजियाबाद ले आया। 

30 हजार के पैकेज में हुआ सौदा 

पुलिस के अनुसार लड़की को सौदा पैकेज डील में होता था। लड़की को कितने लोगों के पास भेजा जाएगा उसके हिसाब से बेची जाती थी। बंगाल पुलिस के मुताबिक, दोस्त बाबू ने 30 हजार रुपये में सोनिया के साथ उस किशोरी महिला का सौदा किया था। उसके एक ही दिन बाद महिला को मेरठ में फिर 70 हजार रुपये में बेच दिया गया था। इसके बाद गाजियाबाद में एक बार फिर 30 हजार रुपये में उसे बेचा गया। इस पूरी खरीद-फरोख्त में भारती शर्मा, सोनिया और उसका पति राकेश प्रमुख रूप से शामिल थे। किशोरी को एक पैकेज के रूप में कई लोगों को दिया गया। इन लोगों ने मेरठ से गाजियाबाद के बीच उससे देह व्यापार कराया।

विरोध करने पर मारपीट

पीड़िता के अनुसार देह व्यापार का विरोध करने पर उसके साथ मारपीट की जाती थी।  पीड़िता कुछ दिन मेरठ में रखी जाती तो कुछ दिन गाजियाबाद में। बाबू, उसकी पत्नी और अशरफुल पहले ही गिरफ्तार किए जा चुके हैं।  

बंगाल और नॉर्थ ईस्ट से लाई जाती थीं लड़कियां

पुलिस के मुताबिक गैंग के एजेंट पश्चिम बंगाल और नॉर्थ ईस्ट के राज्यों से लड़कियों की तस्करी कर दिल्ली लाते थे। उसके बाद इन लड़कियों को 20 से 40 हजार रुपए में बेचा जाता था। इन लड़कियों का एक बार नहीं बल्कि कई बार सौदा किया जाता था। ये सौदा 20 हजार से लेकर पांच लाख तक का होता था। 

 5-6 पुरुषों को भेजा जाता

एक अन्य पीड़िता के मुताबिक उसके अलावा यहां कई लड़कियां भी थीं। हर लड़की के साथ एक बार में 5 से 6 मर्द भेजे जाते थे। जो रुपए मिलते थे, उनको गैंग के लोग ही रख लेते थे। पुलिस के मुताबिक छापेमारी में कुछ लड़कियां भी मिली थीं। 

लोकमत न्यूज के लेटेस्ट यूट्यूब वीडियो और स्पेशल पैकेज के लिए यहाँ क्लिक कर के सब्सक्राइब करें।


क्राइम अलर्ट से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे