Team India T20: द्रविड़ को हटाकर इस पूर्व गेंदबाज को कोच बनाओ, हरभजन ने कहा-आईपीएल पदार्पण पर खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभाई...

Team India T20: हरभजन सिंह अबू धाबी टी10 लीग में दिल्ली बुल्स टीम का हिस्सा है। इंग्लैंड की टी20 विश्व कप जीत ने विभिन्न प्रारूपों के लिए अलग-अलग कोच और खिलाड़ी चुनने की बहस तेज कर दी है।

By लोकमत न्यूज़ डेस्क | Published: November 23, 2022 09:44 PM2022-11-23T21:44:44+5:302022-11-23T21:46:07+5:30

Team India T20 Harbhajan Singh like Ashish Nehra should India's T20 coaching better than current head coach Rahul Dravid ipl 2022 Gujarat Titans | Team India T20: द्रविड़ को हटाकर इस पूर्व गेंदबाज को कोच बनाओ, हरभजन ने कहा-आईपीएल पदार्पण पर खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभाई...

अलग-अलग कोच और खिलाड़ी चुनने की बहस तेज कर दी है। (file photo)

Next
Highlightsगुजरात टाइटन्स को आईपीएल पदार्पण पर खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी।खेल के सबसे छोटे अंतरराष्ट्रीय प्रारूप को वर्तमान मुख्य कोच राहुल द्रविड़ से बेहतर समझते हैं।अलग-अलग कोच और खिलाड़ी चुनने की बहस तेज कर दी है।

Team India T20: पूर्व गेंदबाज हरभजन सिंह का मानना है कि आशीष नेहरा जैसे किसी व्यक्ति को भारत की टी20 कोचिंग प्रणाली का हिस्सा होना चाहिए क्योंकि वह खेल के सबसे छोटे अंतरराष्ट्रीय प्रारूप को वर्तमान मुख्य कोच राहुल द्रविड़ से बेहतर समझते हैं।

नेहरा ने 2017 में खेल से संन्यास ले लिया था और इस साल की शुरुआत में गुजरात टाइटन्स को आईपीएल पदार्पण पर खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी। हरभजन ने कहा, ‘‘ टी 20 प्रारूप में आपके पास आशीष नेहरा जैसा कोई व्यक्ति होना चाहिये जिसने हाल ही में खेल को अलविदा कहा है।

वह इस प्रारूप को बेहतर समझते हैं। मैं राहुल के साथ लंबे समय तक खेला हूं और उनके प्रति पूरा सम्मान है। मैं खेल को लेकर उनकी समझ पर सवाल नहीं उठा रहा हूं लेकिन यह प्रारूप थोड़ा अलग और मुश्किल है।’’ हरभजन ने कहा, ‘‘जिसने हाल में इस खेल को खेला है वह टी20 में कोचिंग के काम के लिए बेहतर है। मैं यह नहीं कह रहा हूं कि आप राहुल को टी20 से हटा दें।

आशीष और राहुल दोनों मिलकर 2024 विश्व कप के लिए टीम को बनाने के लिए काम कर सकते है।’’ हरभजन अबू धाबी टी10 लीग में दिल्ली बुल्स टीम का हिस्सा है। इंग्लैंड की टी20 विश्व कप जीत ने विभिन्न प्रारूपों के लिए अलग-अलग कोच और खिलाड़ी चुनने की बहस तेज कर दी है। उन्होंने कहा, ‘‘ इस तरह की व्यवस्था से राहुल के लिए भी ब्रेक लेना आसान होगा और उनकी गैरमौजूदगी में नेहरा टीम के कोच की जिम्मेदारी संभाल सकते है।’’ 

Open in app