Interest rate stable, no announcement on loan moratorium, read here the big talk of RBI press conference | ब्याज दर स्थिर, लोन मोरेटोरियम पर कोई ऐलान नहीं, यहां पढ़ें RBI की प्रेस कॉन्फ्रेंस की बड़ी बातें
आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की तीन दिनों की बैठक के बाद शक्तिकांत दास ने गुरुवार को ये घोषणा की।

Highlightsभारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास द्विमासिक मौद्रिक नीति के बारे में जानकारी दी।शक्तिकांत दास ने कहा- मौद्रिक नीति समिति (MPC) की बैठक चार अगस्त से 6 अगस्त के बीच हुई।

नई दिल्ली: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास द्विमासिक मौद्रिक नीति के बारे में जानकारी दी। उन्‍होंने कहा कि  मौद्रिक नीति समिति (MPC) की बैठक चार अगस्त से 6 अगस्त के बीच हुई।

भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से रेपो रेट में इस बार कोई भी बदलाव नहीं किया है। दास ने कहा कि क्रेडिट ग्रोथ 6 फीसद पर है, जो पिछले 6 दशक में सबसे निचले स्तर पर है। ये 4 प्रतिशत पर बना रहेगा। ये घोषणा रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर शक्तिकांत दास ने की। इसके अलावा रिवर्स रेपो रेट को भी 3.3 प्रतिशत पर बरकरार रखा गया है। साथ ही आरबीआई गवर्नर ने कहा कि वास्तविक जीडीपी वृद्धि पहली छमाही में और पूरे वित्त वर्ष में नकारात्मक रह सकती है।

-आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की तीन दिनों की बैठक के बाद शक्तिकांत दास ने गुरुवार को ये घोषणा की। कोरोना संकट के बीच मार्च और मई 2020 के अंत में हुई बैठकों में रेपो दर में कुल 1.15 प्रतिशत की कटौती की जा चुकी है। इससे पहले फरवरी 2019 से अब तक रेपो दर में 2.50 प्रतिशत तक कटौती की गई थी।

-शक्तिकांत दास ने कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था अब भी कमजोर है पर विदेशी मुद्रा भंडार में बढ़त का सिलसिला जारी है। आरबीआई गवर्नर ने साथ ही कहा कि खुदरा महंगाई दर अभी नियंत्रण में है।

- आरबीआई गवर्नर दास ने कहा कि एनएचबी, नाबार्ड द्वारा 10,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त नकदी सुविधा मुहैया कराई जाएगी। 

- आरबीआई गवर्नर ने कहा कि वास्तविक जीडीपी वृद्धि पहली छमाही में और पूरे वित्त वर्ष में नकारात्मक रहने का अनुमान। 

- आरबीआई गवर्नर दास ने कहा कि अप्रैल 2020 से शुरू हुए वित्त वर्ष की पहली छमाही में भारत की अर्थव्यवस्था में संकुचन आने का अनुमान है।

- मौद्रिक नीति समिति का अनुमान है कि मुद्रास्फीति दूसरी तिमाही में ऊंची बनी रहेगी। चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में इसमें नरमी आ सकती है।

- आपूर्ति श्रृंखला में बाधायें बरकरार हैं जिससे विभिन्न क्षेत्रों में महंगाई का दबाव बना हुआ है। 

- आर्थिक गतिविधियों में सुधार की शुरुआत हो गई थी, लेकिन संक्रमण के मामले बढ़ने से लॉकडाउन लगाने को मजबूर होना पड़ा।

Web Title: Interest rate stable, no announcement on loan moratorium, read here the big talk of RBI press conference
कारोबार से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे