Coronavirus Delhi lockdown 60 percent decline exports April, foreign exchange reserves reached $485.31 billion | कोविड-19 की मारः अप्रैल में निर्यात में 60 प्रतिशत की गिरावट, विदेशी मुद्रा भंडार 485.31 अरब डॉलर पर पहुंचा
चमड़ा निर्यात में 93.28 प्रतिशत, पेट्रोलियम उत्पादों में 66.22 प्रतिशत और इंजीनियरिंग वस्तुओं में 64.76 प्रतिशत की गिरावट आई। (file photo)

Highlightsआंकड़ों के अनुसार अप्रैल में व्यापार घाटा कम होकर 6.76 अरब डॉलर रह गया, जो एक साल पहले 2019 के इसी महीने में 15.33 अरब डॉलर था।कोविड-19 संकट की वजह से यह और बढ़ी है। इस महामारी की वजह से आपूर्ति श्रृंखला और मांग बुरी तरह प्रभावित हुई है। इससे बड़ी संख्या में ऑर्डर रद्द हुए हैं।

नई दिल्लीः कोरोना वायरस की रोकथाम के लिये लागू ‘ लॉकडाउन’ (बंद) के चलते अप्रैल में देश का निर्यात 60.28 प्रतिशत घटकर 10.36 अरब डॉलर पर आ गया।

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार अप्रैल महीने में आयात भी 58.65 प्रतिशत घटकर 17.12 अरब डॉलर रह गया। एक साल पहले समान महीने में यह 41.4 अरब डॉलर था। आंकड़ों के अनुसार अप्रैल में व्यापार घाटा कम होकर 6.76 अरब डॉलर रह गया, जो एक साल पहले 2019 के इसी महीने में 15.33 अरब डॉलर था।

मार्च, 2020 में देश का निर्यात 34.57 प्रतिशत घटा था। मंत्रालय ने बयान में कहा, ‘‘निर्यात में गिरावट की प्रमुख वजह मौजूदा वैश्विक सुस्ती है। कोविड-19 संकट की वजह से यह और बढ़ी है। इस महामारी की वजह से आपूर्ति श्रृंखला और मांग बुरी तरह प्रभावित हुई है। इससे बड़ी संख्या में ऑर्डर रद्द हुए हैं।’’

समीक्षाधीन महीने में रत्न एवं आभूषणों का निर्यात 98.74 प्रतिशत घटा। चमड़ा निर्यात में 93.28 प्रतिशत, पेट्रोलियम उत्पादों में 66.22 प्रतिशत और इंजीनियरिंग वस्तुओं में 64.76 प्रतिशत की गिरावट आई। अप्रैल में कच्चे तेल का आयात 4.66 अरब डॉलर रहा, जो इससे पिछले साल के समान महीने की तुलना में 59.03 प्रतिशत कम है।

देश का विदेशी मुद्रा भंडार 4.235 अरब डॉलर बढ़कर 485.31 अरब डॉलर पर पहुंचा

देश का विदेशी मुद्रा भंडार आठ मई को समाप्त सप्ताह में 4.235 अरब डॉलर बढ़कर 485.31 अरब डॉलर पर पहुंच गया। विदेशीमुद्रा परिसंपत्तियां बढ़ने से यह वृद्धि हासिल हुई है। इससे पिछले सप्ताह विदेशी मुद्रा भंडार 1.622 अरब डालर बढ़कर 481.078 अरब डॉलर पर पहुंच गया था। देश का विदेशीमुद्रा भंडार इससे पहले छह मार्च को 5.69 अरब डॉलर की वृद्धि के साथ 487.23 अरब डॉलर के सर्वकालिक उच्च स्तर को छू गया था। वर्ष 2019-20 के दौरान विदेशीमुद्रा भंडार करीब 62 अरब डॉलर बढ़ा है।

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा उपलब्ध कराये आंकड़ों के अनुसार आठ मई, 2020 को समाप्त सप्ताह के दौरान विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियां (जो विदेशी मुद्रा का सबसे बड़ा हिस्सा हैं) 4.233 अरब डॉलर बढ़कर 447.548 अरब डॉलर तक पहुंच गईं। समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान स्वर्ण आरक्षित भंडार भी 1.3 करोड़ डॉलर बढ़कर 32.291 अरब डॉलर हो गया।

मार्च 2020 की समाप्ति पर रिजर्व बैंक के पास 653.01 टन सोने का भंडार था। इसमें से 360.71 टन विदेशों में रखा गया है। वहीं, अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) के पास भारत का विशेष आहरण अधिकार 30 लाख डॉलर घटकर 1.423 अरब डॉलर रह गया। आईएमएफ में देश की आरक्षित भंडार की स्थिति भी 80 लाख डॉलर घटकर 4.051 अरब डॉलर रह गई। 

डॉलर के मुकाबले रुपया दो पैसे टूटकर 75.58 प्रति डॉलर पर

कच्चे तेल मूल्य में तेजी तथा नीरस वैश्विक संकेतों के बीच विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में शुक्रवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया दो पैसे की गिरावट के साथ 75.58 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ। बाजार सूत्रों ने कहा कि वित्तीय बाजार में कारोबारी जोखिम लेने से बच रहे हैं जिसके कारण स्थानीय मुद्रा में सीमित दायरे में घट-बढ़ हुई।

उन्होंने कहा कि निवेशकों को सरकार के 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक प्रोत्साहन पैकेज के और ब्योरों का इंतजार है। अन्तरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में रुपया 75.51 पर खुला तथा कारोबार के दौरान 75.45 से 75.59 रुपये के दायरे में घूमने के बाद अंत में दो पैसे की गिरावट के साथ 75.58 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ। बृहस्पतिवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 10 पैसे की हानि दर्शाता 75.56 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था। साप्ताहिक आधार पर, रुपये में चार पैसे की गिरावट आई है। आठ मई को यह 75.54 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था।

Web Title: Coronavirus Delhi lockdown 60 percent decline exports April, foreign exchange reserves reached $485.31 billion
कारोबार से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे