जेट ईंधन की कीमत में हुई 2.2 फीसदी की कटौती, साल में दूसरी बार दर्ज की गई गिरावट

By मनाली रस्तोगी | Published: July 16, 2022 12:59 PM2022-07-16T12:59:07+5:302022-07-16T13:07:25+5:30

अंतरराष्ट्रीय तेल कीमतों में गिरावट को दर्शाते हुए जेट ईंधन (एटीएफ) की कीमतों में शनिवार को 2.2 प्रतिशत की कमी की गई। इस साल दरों में यह केवल दूसरी कटौती है। पिछले महीने कीमतें बढ़कर 141,232.87 रुपए प्रति किलोलीटर (141.23 रुपए प्रति लीटर) हो गई थीं।

Aviation fuel prices cut by two point two percent only second reduction this year | जेट ईंधन की कीमत में हुई 2.2 फीसदी की कटौती, साल में दूसरी बार दर्ज की गई गिरावट

जेट ईंधन की कीमत में हुई 2.2 फीसदी की कटौती, साल में दूसरी बार दर्ज की गई गिरावट

Next
Highlights1 जुलाई को दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया था।16 जून को एटीएफ की कीमत में 19,757.13 रुपए प्रति किलोलीटर की वृद्धि की गई थी।

नई दिल्ली: अंतरराष्ट्रीय तेल कीमतों में गिरावट को दर्शाते हुए जेट ईंधन (एटीएफ) की कीमतों में शनिवार को 2.2 प्रतिशत की कमी की गई। एविएशन टर्बाइन फ्यूल (ATF) की कीमतों में 3,084.94 प्रति किलोलीटर या 2.2 प्रतिशत की कटौती करके 138,147.93 प्रति किलोलीटर कर दिया गया, जो कि राज्य द्वारा संचालित ईंधन खुदरा विक्रेताओं की एक मूल्य अधिसूचना है।

इस साल दरों में यह केवल दूसरी कटौती है। पिछले महीने कीमतें बढ़कर 141,232.87 रुपए प्रति किलोलीटर (141.23 रुपए प्रति लीटर) हो गई थीं। पिछले पखवाड़े में बेंचमार्क अंतरराष्ट्रीय तेल दरों की दरों के आधार पर हर महीने की पहली और 16 तारीख को एटीएफ की कीमतों में संशोधन किया जाता है। 1 जुलाई को दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया था। 

इससे पहले कीमतों में अब तक की सबसे तेज 16 फीसदी की बढ़ोतरी की गई थी ताकि दरों को एक सर्वकालिक तक पहुंचा दिया जा सके। प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में मंदी की आशंका के बाद से अंतरराष्ट्रीय तेल की कीमतों में नरमी आई है। तेल की कीमतें यूक्रेन युद्ध पूर्व के स्तर पर हैं। 16 जून को एटीएफ की कीमत में 19,757.13 रुपए प्रति किलोलीटर की वृद्धि की गई थी। 

इसके बाद 1 जून को मामूली 1.3 प्रतिशत (1,563.97 रुपए प्रति किलोलीटर) की दर में कटौती की गई। लेकिन 1 जून को एकतरफा कमी के लिए 2022 के दौरान एटीएफ की कीमतों में वृद्धि हुई है। साल की शुरुआत से अब तक कुल दरों में 11 गुना बढ़ोतरी की जा चुकी है। इससे छह महीने में दरें लगभग दोगुनी हो गई हैं। 

शनिवार को कटौती से पहले कीमतों में 1 जनवरी से 91 प्रतिशत (67,210.46 रुपए प्रति किलोलीटर) की वृद्धि हुई थी। एक एयरलाइन की परिचालन लागत का लगभग 40 प्रतिशत जेट ईंधन बनाने के साथ कीमतों में वृद्धि के परिणामस्वरूप उड़ान की लागत में वृद्धि हुई थी। अब थोड़ी राहत मिली है। इस बीच पेट्रोल और डीजल की कीमतें क्रमशः 96.72 रुपए प्रति लीटर और 89.62 रुपए प्रति लीटर पर अपरिवर्तित रहीं।

सरकार द्वारा उत्पाद शुल्क में कटौती से 22 मई को पेट्रोल की कीमत 8.69 रुपए प्रति लीटर और डीजल की कीमत 7.05 रुपए प्रति लीटर कम करने में मदद मिली थी। लेकिन उसके लिए आधार मूल्य 6 अप्रैल से अपरिवर्तित बना हुआ है। इससे पहले कीमतों में रिकॉर्ड 10 रुपए प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई थी। पेट्रोल, डीजल और घरेलू रसोई गैस की खुदरा कीमतें लागत से काफी कम हैं। अंतरराष्ट्रीय बाजार में समान दरों के आधार पर पेट्रोल और डीजल की दरों में प्रतिदिन संशोधन किया जाता है।

Web Title: Aviation fuel prices cut by two point two percent only second reduction this year

कारोबार से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे