US-China dispute remove China graduate students, will impose new restrictions on officials | अमेरिका-चीन विवाद: China के स्नातक स्तर के छात्रों को निकाल सकता है अमेरिका, अधिकारियों पर नई पाबंदियां लगाएगा
राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वह चीन के बारे में शुक्रवार को घोषणा करेंगे। (file photo)

Highlightsव्यापार, वैश्विक महामारी कोरोना वायरस, मानवाधिकार और हांगकांग के दर्जे को लेकर दोनों देशों के बीच तनाव चल रहा है।अधिकारियों ने बताया कि ट्रंप चीन के अधिकारियों पर यात्रा एवं वित्तीय पाबंदियां लगाने के बारे में भी विचार कर रहे हैं।

वाशिंगटनः अमेरिका और चीन के संबंधों में तनाव का असर अमेरिकी विश्वविद्यालयों से स्नातक कर रहे उन हजारों चीनी छात्रों पर पड़ सकता है जिन्हें ट्रंप प्रशासन जल्द ही बाहर का रास्ता दिखा सकता है। अमेरिका चीन के अधिकारियों पर नई पाबंदियां भी लगा सकता है।

गौतलब है कि व्यापार, वैश्विक महामारी कोरोना वायरस, मानवाधिकार और हांगकांग के दर्जे को लेकर दोनों देशों के बीच तनाव चल रहा है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वह चीन के बारे में शुक्रवार को घोषणा करेंगे। प्रशासन के अधिकारियों का कहना है कि वह चीन के खुफिया विभाग या पीपल्स लिबरेशन आमी से संबद्ध चीन के शैक्षणिक संस्थानों से जुड़े छात्रों के वीजा रद्द करने के महीनों पुराने प्रस्ताव पर विचार कर रहे हैं। अधिकारियों ने बताया कि ट्रंप चीन के अधिकारियों पर यात्रा एवं वित्तीय पाबंदियां लगाने के बारे में भी विचार कर रहे हैं।

ट्रंप ने बृहस्पतिवार को संवाददाताओं से कहा था, ‘‘चीन के बारे में हम क्या कर रहे हैं यह घोषणा हम कल करेंगे। हम चीन से खुश नहीं हैं।’’ वीजा रद्द करने के प्रस्ताव का अमेरिकी विश्वविद्यालयों और वैज्ञानिक संगठनों ने विरोध किया है। इस बारे में अधिकारियों का कहना है कि कोई भी पाबंदी इस तरह से लगाई जाएगी जिससे कि केवल वे छात्र प्रभावित हों जो जासूसी या बौद्धिक संपदा की चोरी जैसा खतरा पैदा कर सकते हैं।

उन्होंने यह नहीं बताया कि कितने छात्रों को निकाला जाएगा हालांकि यह कहा कि यह देश में मौजूद चीनी छात्रों का एक छोटा सा हिस्सा होगा। इस प्रस्ताव से शैक्षणिक समुदाय चिंतित है। अमेरिकी शिक्षा परिषद में सरकारी संबंध मामलों की निदेशक सारा स्प्रिटजर ने कहा, ‘‘इसे कितने व्यापक पैमाने पर लागू किया जाएगा, यह सोचकर हम चिंतित हैं। इससे यह संदेश जाएगा कि हम दुनियाभर के प्रतिभाशाली छात्रों और विद्वानों का अब स्वागत नहीं करते हैं।’’ अंतरराष्ट्रीय शिक्षा संस्थान के मुताबिक अमेरिका में अकादमिक वर्ष 2018-19 में स्नातक स्तर में चीन के 133,396 छात्र थे जो अंतरराष्ट्रीय छात्रों का 36.1 फीसदी था। एपी मानसी नरेश नरेश

चीन के संबंध में शुक्रवार को ‘‘कुछ फैसलों’ की घोषणा करेगा अमेरिका: ट्रम्प

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि अमेरिका चीन के संबंध में शुक्रवार को ‘‘कुछ फैसलों’’ की घोषणा करेगा। ट्रम्प ने इस बात पर जोर दिया कि चीन को कोरोना वायरस संक्रमण के पैदा होते ही उसे रोक देना चाहिए था। अमेरिका समेत दुनिया के कई देशों ने कोरोना वायरस संक्रमण फैलने और इसके बारे में समय पर जानकारी देने में नाकाम रहने के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराया है। इस संक्रमण के कारण तीन लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और अप्रत्याशित आर्थिक संकट पैदा हो गया है।

ट्रम्प चीन पर दबाव बना रहे हैं कि वह इस संबंध में जांच के लिए सहमति जताए कि यह वायरस कहां से पैदा हुआ। चीन पर यह भी आरोप लगाया जा रहा है कि यह वायरस चीन के वुहान की प्रयोगशाला से फैलना शुरू हुआ। दुनिया भर में कोरोना वायरस से 58 लाख लोग संक्रमित हैं जिनमें से 17 लाख लोग अमेरिका के हैं। ट्रम्प ने व्हाइट हाउस में बृहस्पतिवार को संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम चीन पर कल (शुक्रवार) एक संवाददाता सम्मेलन करेंगे। हम कुछ फैसले करेंगे और उन पर कल चर्चा करेंगे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘यह बहुत दु:खद स्थिति है। ऐसा कभी नहीं होना चाहिए था। चीन को इसे पैदा होते ही रोक देना चाहिए था, लेकिन उसने ऐसा नहीं किया।’’ ट्रम्प ने 14 मई को चीन के साथ ‘‘सभी संबंध समाप्त’’ करने की धमकी दी थी। 

Web Title: US-China dispute remove China graduate students, will impose new restrictions on officials
विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे