चीन ने पाकिस्तान को चेताते हुए कहा, "बलूचिस्तान में चीनी नागरिकों पर हो रहे हमले को फौरन रोको", सेना प्रमुख बाजवा ने कहा, "बलूच विद्रोह को दबाने का भरसक प्रयास करेंगे"

By आशीष कुमार पाण्डेय | Published: June 13, 2022 04:39 PM2022-06-13T16:39:21+5:302022-06-13T16:47:53+5:30

चीन ने रविवार को पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा से कहा है कि पाकिस्तानी सेना बलूचिस्तान क्षेत्र में चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे परियोजनाओं पर काम कर रहे चीनी नागरिकों पर हो रहे हमले को रोकने की जिम्मेदारी ले।

China warns Pakistan, "immediately stop the attacks on Chinese civilians in Balochistan", Army Chief Bajwa said, "will do our best to suppress the Baloch insurgency" | चीन ने पाकिस्तान को चेताते हुए कहा, "बलूचिस्तान में चीनी नागरिकों पर हो रहे हमले को फौरन रोको", सेना प्रमुख बाजवा ने कहा, "बलूच विद्रोह को दबाने का भरसक प्रयास करेंगे"

फाइल फोटो

Next
Highlightsचीन ने पाक सेना के सामने बलूचिस्तान में चीनी नागरिकों पर हो रहे हमले का मुद्दा उठायापाक सेना चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे पर काम कर रहे चीनी नागरिकों पर हो रहे हमले को रोकेपाक सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने चीन को हमले रोकने का आश्वासन दिया

इस्लामाबाद:चीन ने पाकिस्तान में चीनी नागरिकों पर हो रहे हमलों पर कड़ा ऐतराज जताया है। इस मामले में चीन ने रविवार को पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा से कहा है कि पाकिस्तानी सेना बलूचिस्तान क्षेत्र में चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे परियोजनाओं पर काम कर रहे चीनी नागरिकों पर हो रहे हमले को रोकने की जिम्मेदारी ले।

जानकारी के मुताबिक बीते कुछ महीनों से पाकिस्तान में चीनी नागरिकों पर हो रहे जानलेवा हमलों को देखते हुए इस्लामाबाद पुलिस ने केंद्रीय पुलिस कार्यालय (सीपीओ) में चीनी कर्मचारियों के फौरी मदद के लिए विदेशी सुरक्षा सेल स्थापित करने का फैसला किया है।

चीन और पाकिस्तान के बीच हुई बैठक में चीनी अधिकारियों ने पाक सेना के सामने बलूच समूहों द्वारा चीनी नागरिकों पर हो रहे हमलों का मुद्दा उठाते हुए ऐसी घटनाओं पर कड़ा एतराज जताया है।

इसके अलावा बैठक में चीनी अधिकारियों ने पाकिस्तान में बलूच विद्रोह पर काबू पाने के लिए पाक द्वारा उठाये जा रहे राजनीतिक मुद्दों पर भी चर्चा की। चीन ने इस विषय में चिंता जताते हुए कहा कि बलूच विद्रोह के कारण चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे परियोजना पर लगातार खतरा बना हुआ है।

पाकिस्तान के सैन्य अधिकारियों ने भी बैठक में इस बात को स्वीकार किया कि शांति और स्थिरता के लिए बलूच विद्रोह का दबाया जाना बेहद आवश्यक है।

बताया जा रहा है कि बलूच विद्रोही चीन द्वारा बनाये जा रहे चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे परियोजना को लगातार नुकसान पहुंचा रहे हैं। विद्रोही गलियारे के बुनियादी ढांचे, जैसे गैस पाइपलाइन और बिजली टावरों को निशाना बना रहे हैं, क्योंकि बलूच विद्रोही चीन को साम्राज्यवादी शक्ति के तौर पर देखते हैं और पाकिस्तान के साथ उसके संबंधों का सदैव विरोध करते हैं।

बलूच विद्रोहियों का कहना है कि चीन पाकिस्तान सरकार के साथ मिलकर बलूचिस्तान के प्राकृतिक संसाधनों को लूटना चाहती है और बलूच लोगों के साथ अमानवीय व्यवहार करने के लिए पाक फौज को उकसाती रहती है।

पाकिस्तानी सेना और चीनी अधिकारियों के बीच यह वार्ता रविवार को हुई, जिसमें दोनों देशों के बीच रणनीतिक साझेदारी पर लंबी बात हुई। इस बैठक में पाकिस्तान की ओर से सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा और चीन की ओर से केंद्रीय सैन्य आयोग के उपाध्यक्ष जनरल झांग यूक्सिया ने बात की।

Web Title: China warns Pakistan, "immediately stop the attacks on Chinese civilians in Balochistan", Army Chief Bajwa said, "will do our best to suppress the Baloch insurgency"

विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे