जब आप उड़ान भरते हैं तो एयरप्लेन मोड चालू करने का असली कारण क्या होता है, जानिए सबकुछ

By भाषा | Published: September 22, 2022 09:27 PM2022-09-22T21:27:55+5:302022-09-22T21:29:19+5:30

टेक्नोलॉजी ने काफी तरक्की कर ली है विमानन नेविगेशन और संचार रेडियो सेवाओं पर निर्भर करता है, जिन्हें 1920 के दशक से हस्तक्षेप को कम करने के लिए समन्वित किया गया है।

What is real reason turning Airplane Mode when you fly know everything | जब आप उड़ान भरते हैं तो एयरप्लेन मोड चालू करने का असली कारण क्या होता है, जानिए सबकुछ

मोबाइल फोन और विमान नेविगेशन और संचार - ताकि वे एक दूसरे के साथ हस्तक्षेप न करें।

Next
Highlightsडिजिटल तकनीक कुछ पुरानी एनालॉग तकनीकों की तुलना में बहुत अधिक उन्नत है जिनका हमने 60 साल पहले भी उपयोग किया था।उड़ान के गैर-महत्वपूर्ण चरणों के दौरान कंप्यूटर या अन्य व्यक्तिगत इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के साथ कोई समस्या नहीं पाई।मोबाइल फोन और विमान नेविगेशन और संचार - ताकि वे एक दूसरे के साथ हस्तक्षेप न करें।

कैनबराः हवाई जहाज पर यात्रा के दौरान हम इस उदघोषणा से पूरी तरह वाकिफ हैं : ‘‘कृपया सुनिश्चित करें कि आपकी सीटें सीधी स्थिति में हैं, ट्रे टेबल बंद हैं, विंडो शेड्स ऊपर हैं, लैपटॉप ऊपर बने स्थान में रखे गए हैं और इलेक्ट्रॉनिक उपकरण उड़ान मोड पर सेट हैं”।

अब, इनमें पहले चार तो वाजिब हैं, है ना? खिड़की के पर्दे को ऊपर उठाने की जरूरत है ताकि हम देख सकें कि आग जैसी कोई आपात स्थिति तो नहीं है। ट्रे टेबलों को बंद रखा जाना चाहिए और सीधे बैठना चाहिए ताकि जरूरत पड़ने पर हम जल्दी से सीट से उठकर बाहर निकल सकें।

आपात स्थिति में लैपटॉप प्रोजेक्टाइल बन सकते हैं, क्योंकि सीट के पीछे बने पॉकेट उन्हें रखने के लिए पर्याप्त मजबूत नहीं होते हैं। और मोबाइल फोन को उड़ान मोड पर सेट करने की आवश्यकता है ताकि वे हवाई जहाज के लिए आपात स्थिति पैदा न कर सकें, है ना? खैर, यह निर्भर करता है कि आप किससे पूछते हैं।

टेक्नोलॉजी ने काफी तरक्की कर ली है विमानन नेविगेशन और संचार रेडियो सेवाओं पर निर्भर करता है, जिन्हें 1920 के दशक से हस्तक्षेप को कम करने के लिए समन्वित किया गया है। वर्तमान में उपयोग में आने वाली डिजिटल तकनीक कुछ पुरानी एनालॉग तकनीकों की तुलना में बहुत अधिक उन्नत है जिनका हमने 60 साल पहले भी उपयोग किया था।

अनुसंधान से पता चला है कि व्यक्तिगत इलेक्ट्रॉनिक उपकरण विमान के संचार और नेविगेशन सिस्टम के समान आवृत्ति बैंड के भीतर एक संकेत उत्सर्जित कर सकते हैं, जिसे विद्युत चुम्बकीय हस्तक्षेप के रूप में जाना जाता है। लेकिन 1992 में, यूएस फेडरल एविएशन अथॉरिटी और बोइंग ने एक स्वतंत्र अध्ययन में, विमान के हस्तक्षेप पर इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के उपयोग की जांच की और उड़ान के गैर-महत्वपूर्ण चरणों के दौरान कंप्यूटर या अन्य व्यक्तिगत इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के साथ कोई समस्या नहीं पाई।

(टेक-ऑफ और लैंडिंग को महत्वपूर्ण चरण माना जाता है।) यूएस फेडरल कम्युनिकेशंस कमीशन ने विभिन्न उपयोगों के लिए आरक्षित आवृत्ति बैंडविंड बनाना शुरू किया - जैसे कि मोबाइल फोन और विमान नेविगेशन और संचार - ताकि वे एक दूसरे के साथ हस्तक्षेप न करें।

दुनिया भर की सरकारों ने विमानन के साथ हस्तक्षेप की समस्याओं को रोकने के लिए समान रणनीतियां और नीतियां विकसित की हैं। यूरोपीय संघ में, इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को 2014 से चालू रहने की अनुमति दी गई है। 2.2 अरब यात्री फिर, इन वैश्विक मानकों के साथ, विमानन उद्योग ने मोबाइल फोन के उपयोग पर प्रतिबंध क्यों जारी रखा है?

समस्याओं में से एक ऐसी चीज है जिसकी आप उम्मीद नहीं कर सकते हैं - जमीनी हस्तक्षेप। वायरलेस नेटवर्क टावरों की एक श्रृंखला से जुड़े होते हैं; यदि इन ग्राउंड नेटवर्कों पर उड़ान भरने वाले यात्री सभी अपने फोन का उपयोग कर रहे हैं तो नेटवर्क ओवरलोड हो सकता है। 2021 में उड़ान भरने वाले यात्रियों की संख्या 2.2 अरब से अधिक थी, और यह 2019 की यात्री संख्या का आधा है।

वायरलेस कंपनियों के पास यहाँ एक तर्क हो सकता है। बेशक, जब मोबाइल नेटवर्क की बात आती है, तो हाल के वर्षों में सबसे बड़ा बदलाव एक नए मानक की ओर बढ़ना है। वर्तमान 5जी वायरलेस नेटवर्क - जो उनके उच्च गति डेटा ट्रांसफर के लिए जाने जाते हैं - ने विमानन उद्योग के भीतर कई लोगों के लिए चिंता का विषय बना दिया है।

रेडियो फ्रीक्वेंसी बैंडविड्थ सीमित है, फिर भी हम इसमें और नए डिवाइस जोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। विमानन उद्योग बताता है कि 5जी वायरलेस नेटवर्क बैंडविड्थ स्पेक्ट्रम उल्लेखनीय रूप से आरक्षित विमानन बैंडविड्थ स्पेक्ट्रम के करीब है, जो हवाई अड्डों के पास उस नेविगेशन सिस्टम के साथ हस्तक्षेप कर सकता है जो विमान की लैंडिंग में सहायता करता है।

ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका में हवाईअड्डा संचालकों ने 5जी रोलआउट से जुड़ी विमानन सुरक्षा चिंताओं को लेकर अपनी बात रखी है, हालांकि ऐसा लगता है कि यूरोपीय संघ में ऐसी समस्याओं के बिना इसे शुरू किया गया है। किसी भी तरह से, विमानों में मोबाइल फोन के उपयोग को सीमित करना समझदारी है, जब तक कि 5जी से जुड़े मुद्दों को सुलझा न लिया जाए।

हवाई यात्रा के दौरान मोबाइल के इस्तेमाल की अन्य समस्याएं अधिकांश एयरलाइंस अब ग्राहकों को वाई-फाई सेवाएं प्रदान करती हैं जो या तो भुगतान करके प्राप्त की जा सकती हैं या मुफ्त हैं। नई वाई-फाई तकनीकों के साथ, यात्री सैद्धांतिक रूप से अपने मोबाइल फोन का उपयोग उड़ान में वीडियो कॉल करने के लिए कर सकते हैं।

हाल ही में एक फ्लाइट में, मैंने एक केबिन अटेंडेंट से बात की और फ्लाइट के दौरान फोन के इस्तेमाल पर उसकी राय पूछी। उन्होंने कहा कि केबिन क्रू को फोन का इस्तेमाल कर रहे यात्रियों से यह पूछने के लिए इंतजार करना पड़ता है कि क्या वे कोई पेय या कुछ खाना चाहते हैं, उन्होंने कहा कि यदि हर कोई फोन पर व्यस्त होगा तो 200+ यात्रियों वाले एयरलाइनर पर, इन-फ़्लाइट सेवा को पूरा होने में अधिक समय लगेगा। मेरे लिए, फ़ोन के इन-फ़्लाइट उपयोग के साथ समस्या हवाई जहाज़ पर 200+ लोगों के होने के सामाजिक अनुभव के बारे में अधिक है, और सभी संभावित रूप से एक साथ बात कर रहे हैं।

ऐसे समय में जब हवाई यात्रा के दौरान क्रोध करने सहित यात्रियों का अभद्र व्यवहार लगातार बढ़ रहा है, उड़ान में फोन का उपयोग एक और समस्या पैदा कर सकता है जो पूरे उड़ान अनुभव को बदल सकता है। अभद्र व्यवहार कई तरह का हो सकता है जैसे बताए गए नियमों का पालन नहीं करना, सुरक्षा आवश्यकताओं जैसे सीट बेल्ट नहीं पहनना, साथी यात्रियों और केबिन क्रू के साथ मौखिक तकरार, यात्रियों और केबिन क्रू के साथ शारीरिक तकरार आदि। अंत में - फोन के इन-फ्लाइट उपयोग वर्तमान में विमान के संचालन की क्षमता को कम नहीं करता है।

लेकिन इसकी वजह से केबिन क्रू सभी यात्रियों को इन-फ्लाइट सेवा प्रदान करने में देरी को पसंद नहीं करते हैं। हालाँकि, 5जी तकनीक विमान नेविगेशन सिस्टम के रेडियो बैंडविड्थ का अतिक्रमण कर रही है; लैंडिंग के दौरान विमान नेविगेशन के साथ हस्तक्षेप के संबंध में 5जी प्रश्न का उत्तर देने के लिए हमें और अधिक शोध की आवश्यकता होगी। याद रखें कि जब हम उड़ान के दो सबसे महत्वपूर्ण चरणों पर चर्चा कर रहे हैं, तो टेक-ऑफ वैकल्पिक हैं - लेकिन लैंडिंग अनिवार्य है। 

Web Title: What is real reason turning Airplane Mode when you fly know everything

टेकमेनिया से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे