RSS annoyed by Chinese company in IPL | आईपीएल में चीनी कंपनी से नाराज आरएसएस करेगा बहिष्कार
आईपीएल टाइटल प्रायोजक विवो प्रत्येक साल करब 440 करोड़ रूपये देता है और पांच साल का यह करार 2022 में समाप्त होगा।

Highlightsइस साल चीनी मोबाइल कंपनी विवो सहित सभी प्रायोजकों को बरकरार रखने का फैसला किया गया है टूर्नामेंट 19 सितंबर से 10 नवंबर तक संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में खेला जाएगा

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने आईपीएल में चाइनीज मोबाइल कंपनी की स्पांसरशिप जारी रखने के फैसले पर नाराजगी जताई है. संघ के सहयोगी संगठन स्वदेशी जागरण मंच का कहना है कि अगर आईपीएल ने चाइनीज मोबाइल कंपनी को अलग नहीं किया तो क्रिकेट के इस फटाफट संस्करण का बहिष्कार किया जाएगा और देश भर में आईपीएल के खिलाफ अभियान भी चलेगा. उन्होंने इसे चीन सेना के साथ संघर्ष में शहीद हुए सैनिकों का अपमान करार दिया है.

स्वदेशी जागरण मंच के राष्ट्रीय सह संयोजक अश्विनी महाजन का कहना है कि चीन के हमले में 20 भारतीय सैनिकों के मारे जाने के बाद देश में चीनी कंपनियों के बहिष्कार का अभियान चल रहा है. पूरे देश की भावनाएं चीन के खिलाफ हैं. ऐसी स्थिति में आईपीएल के आयोजकों ने चीनी मोबाइल कंपनी को प्रायोजक बनाने का फैसला किया है. यह आईपीएल संचालकों की असंवेदनशीलता है.

महाजन ने लोकमत से कहा कि फैसले पर विचार नहीं हुआ तो फिर हमारे पास आईपीएल के बहिष्कार के सिवाय कोई दूसरा विकल्प नहीं बचेगा. उन्होंने कहा कि आईपीएल एक व्यवसाय है. इसे चलाने वाले देश और इसकी सुरक्षा के प्रति असंवेदनशील हैं. पूरा देश और दुनिया चीनी कंपनियों और उसके सामान का बहिष्कार कर रही है लेकिन आईपीएल में उन्हें पनाह दी जा रही है. उन्हें समझना चाहिए कि न खेल न क्रिकेट देश से ऊपर कुछ नहीं हो सकता.

आईपीएल गवर्निंग काउंसिल ने चीन के सबसे जघन्य कृत्य से शहीद हुए सैनिकों के प्रति अपमान प्रकट किया है. महाजन ने कहा कि अपने बाजार को चीनी प्रभुत्व से मुक्त करने के लिए पूरा देश देश एकजुट है सरकार भी चाइनीज कंपनियों को बाहर करने को लेकर कदम उठा रही है. चीनी निवेश से लेकर चीनी कंपनियों को आधारभूत संरचना के निर्माण और टेलीकॉम सेक्टर से दूर रखने की कोशिशें की जा रही है. ऐसे में आईपीएल का यह कदम देश की मनोदशा पर चोट है, बल्कि यह देश की सुरक्षा और आर्थिक चिंताओं का भी अनदार है. उन्होंने आईपीएल आयोजकों से कहा कि वह चीनी मोबाइल कंपनी को प्रायोजक बनाने पर फिर से विचार करें.

Web Title: RSS annoyed by Chinese company in IPL
राजनीति से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे