Hindi Writer and Poet Vishnu Khare Death | हिन्दी कवि और लेखक विष्णु खरे का निधन
हिन्दी कवि और लेखक विष्णु खरे का निधन

हिन्दी कवि और लेखक विष्णु खरे का बुधवार (19 सितंबर) को नई दिल्ली में निधन हो गया। अपने बेबाक विचारों और विचारपूर्ण कविताओं के लिए ख्यात विष्णु खरे इसी साल दिल्ली की हिन्दी अकादमी के उपाध्यक्ष नियुक्त हुए थे।

विष्णु खरे का जन्म दो फरवरी 1940 को छिंदवाड़ा में हुआ था। उनकी आरंभिक शिक्षा दीक्षा स्थानीय स्कूल-कॉलेजों में हुई थी। पत्रकारिता से अपने करियर की शुरुआत करने वाले खरे को युवावस्था में ही कविता लिखने लगे थे।

काल और अवधि के दरमियान, ख़ुद अपनी ऑंख से, पिछला बाक़ी, लालटेन जलाना, "सब की आवाज़ के पर्दे में" इत्यादि विष्णु खरे के प्रमुख कविता संग्रह थे।

खरे को ब्रेन हेमरेज के बाद बुधवार को जीबी पंत सुपर स्पेशलिटी अस्पताल  में भर्ती कराया गया था। 

खरे को साहित्य अकादमी, रघुवीर सहाय सम्मान, मैथिलीशरण गुप्त सम्मान और शिखर सम्मान से सम्मानित किया जा चुका था।

खरे के आधा दर्जन से ज्यादा कविता संग्रह प्रकाशित थे। साहित्य के अलावा विष्णु खरे विश्व सिनेमा पर भी नियमित लेखन करते रहे थे।

 


Web Title: Hindi Writer and Poet Vishnu Khare Death
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे