Highlightsअक्सर गलत खानपान के कारण पेट में कीड़े पड़ जाते हैआंतों में कीड़ों के कारण इन्फेक्शन पैदा हो जाता हैमानव पेट के कीड़े या आंतों के कीड़े एक प्रकार के परजीवी होते हैं

अक्सर गलत खानपान के कारण पेट में कीड़े पड़ जाते है। ये बीमारी किसी को भी हो सकती है। संक्रमित भोजन व पेय पदार्थों के सेवन, घरों के आसपास गंदगी, कच्चा भोजन, या दूषित खाना आदि का लम्बे समय तक सेवन करने से पेट में कीड़े होने के चांस ज्यादा रहते हैं।

यह पेट संबंधी समस्याओं को पैदा कर आपके शरीर की संपूर्ण प्रक्रिया पर असर डालता है। कभी-कभी आंतों में कीड़ों के कारण इन्फेक्शन पैदा हो जाता है जो काफी खतरनाक होता है। आंतों में कीड़े पड़ जायें तो यह बहुत ही दुखदायी होता है। यह समस्‍या सबसे अधिक बच्‍चों में होती है लेकिन बड़ों की आंतों में भी कीड़े हो सकते हैं।

मानव पेट के कीड़े या आंतों के कीड़े एक प्रकार के परजीवी होते हैं। ये परजीवी मानव की आंतों में रहते हैं, आंतो की सामग्री खाते हैं और आंतो की परतों से खून चूसते हैं। ये आतों के परजीवी मानव की आंतों से पोषण प्राप्त करते हैं। इसकी वजह से प्रतिवर्ष न जाने कितने लोग मौत का शिकार भी हो जाते हैं और उनकी मौत का कारण भी स्पष्ट नहीं हो पाता।

पेट में कीड़े होने से बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास पर काफी प्रभाव पड़ता है। आमतौर पर पेट के कीड़ों के लक्षण हर किसी को एक से नहीं होते हैं। ये लक्षण कीड़ों के प्रकार व उनकी संख्या पर भी निर्भर करते हैं। तो आज हम इनके लिए जो उपचार बता रहे हैं उसे आप जल्दी लेना शुरू कर दें।

आंत या पेट में कीड़े होने के लक्षण

हेल्थलाइन के अनुसार, ऐसा माना जाता है कि पेट के ये कीड़े करीब 20 प्रकार के होते हैं जो आंतों में घाव तक पैदा कर सकते हैं। आंतों में कीड़े होने के कुछ आम लक्षण हैं जिनमें मुख्यतः पेट दुखना, मिचली आना, भूख न लगना, पेट फूल जाना, थकना और अकसर खाना हज़म न होना, दस्त, या कब्ज होना शामिल हैं। इसके अलावा आपको वजन कम होना, ठीक से नींद न आना, खुजली होना, सांस लेने में परेशानी होना और बुखार होना जैसे लक्षण भी महसूस हो सकते हैं। 

केवल 2 दिन में पेट के कीड़ों को साफ़ करने के लिए अपनाये ये घरेलू नुक्शा ! - Taaza Khoj

आंत या पेट में कीड़े होने के कारण

आंतों के कीड़े का कारण अधपका मांस खाना है। इनके अलावा आंत में कीड़े दूषित पानी का सेवन, दूषित मिट्टी का सेवन, दूषित मल के साथ संपर्क, साफ-सफाई का ध्यान न रखना, राउंडवॉर्म आमतौर पर दूषित मिट्टी और मल के संपर्क के माध्यम से प्रेषित होते हैं।

एक बार जब आप दूषित पदार्थ का सेवन कर लेते हैं, परजीवी आपकी आंत में चला जाता है। फिर वे आंत में प्रजनन करते हैं और बढ़ते हैं। एक बार जब वे प्रजनन करते हैं और मात्रा और आकार में बड़े हो जाते हैं, तो आपको ऊपर बताए गए लक्षण महसूस हो सकते हैं।

Spicy Pudina Chutney Recipe | Make Mint Chutney in at Home in 10 Minutes

पेट के कीड़े खत्म करने का उपाय

पेड़ के कीड़ों का खात्मा करने के लिए वैसे तो बाजार में कई तरह की दवा और चूर्ण मिलते हैं। लेकिन कई बार उनसे फायदा होता भी है और नहीं भी होता है। कई बार ऐसा भी होता है कि बच्चे दवा खाने से साफ मना कर देते हैं। पेड़ में कीड़े होने की सबसे अच्छी दवा घरेलू चटनी है। इसे बनाने के लिए आपको पुदीना, नींबू और कुछ काली मिर्च चाहिए।

बनाने की विधि
अगर आप सिर्फ एक व्यक्ति के लिए ये चटनी बना रहे हैं तो आपको कुछ पुदीने के पत्तों में एक से डेढ़ चम्मच नींबू और 4 से 5 काली मिर्च डालकर बारीक मिश्रण बनाना है। आप चाहे तो ये चटनी मिक्सी में भी बना सकते हैं। अब आप इसमें बच्चे के टेस्ट के अनुसार हल्का नमक या चीनी डाल सकते हैं। लगभग 5-6 दिन तक रोज सुबह-शाम एक एक चम्मच ये चटनी खाने से पेट के कीड़ों का खात्मा होता है।

Web Title: Intestinal worms home remedies : Natural Ayurveda home remedies to get rid of tapeworms in Hindi
स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे