Faridabad DCP vikram kapoor commits suicide shoots self, here is need to know all details | मॉर्निग वॉक से लौटकर मुंह के अंदर सर्विस रिवाल्वर रख कर खुद को फरीदाबाद के DCP ने मारी गोली , जानें इस घटना से जुड़ी अहम बातें 
मॉर्निग वॉक से लौटकर मुंह के अंदर सर्विस रिवाल्वर रख कर खुद को फरीदाबाद के DCP ने मारी गोली , जानें इस घटना से जुड़ी अहम बातें 

Highlightsपिछले करीब दो साल से फरीदाबाद में डीसीपी विक्रम कपूर पदस्थ थे।विक्रम कपूर 1983 में एएसआई के पद पर भर्ती हुए थे। बाद में वह प्रमोट होकर आईपीएस बन गए थे। 

दिल्ली से सटे फरीदाबाद में बुधवार (14 अगस्त) को पुलिस महकमे में उस समय हड़कंप मच गया जब पुलिस उपायुक्त (एनआईटी) विक्रम कपूर ने अपने सरकारी आवास पर अपनी सर्विस रिवाल्वर से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। पुलिस सूत्रों ने बताया कि पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) कपूर के घर से एक सुसाइड नोट बरामद बरामद हुआ है जिसके आधार पर थाना भूपानी के प्रभारी अब्दुल शाहिद सहित दो लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। 

मुंह के अंदर सर्विस रिवाल्वर रख कर खुद को मारी गोली

सुसाइड नोट का ब्योरा तत्काल उपलब्ध नहीं है, लेकिन कुछ सूत्रों ने कहा कि इसमें एक थाना प्रभारी और एक अन्य व्यक्ति द्वारा डीसीपी को किसी मुद्दे पर ब्लैकमेल किए जाने की बात लिखी है। उन्होंने कहा कि यह घटना बुधवार सुबह करीब छह बजे हुई। डीसीपी ने अपने मुंह में रिवॉल्वर डालकर ट्रिगर दबा दिया। 

सूत्रों ने बताया कि कपूर बुधवार सुबह करीब छह बजे अपने घर के ड्राइंग रूम में सोफे पर बैठे थे। उन्होंने सर्विस रिवॉल्वर अपने मुंह में डालकर ट्रिगर दबा दिया। उस समय उनकी पत्नी बाथरूम में थीं। गोली चलने की आवाज सुनकर वह बाहर आईं तो पति को खून से लथपथ पाया।

उन्होंने बताया कि इसके बाद कपूर की पत्नी ने अपने बेटे अर्जुन को जगाया। बाद में पुलिस को सूचित किया गया। विक्रम कपूर की सेवानिवृत्ति को अभी एक साल बाकी था। मौके पर पहुंची फॉरेंसिक टीम जांच में जुट गई है। अभी आत्महत्या के असल कारणों का पता नहीं चल सका है। पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने कहा कि हिरासत में लिए गए लोगों से पूछताछ जारी है। 

2020 में होने वाले थे सेवानिवृत्त

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि एनआईटी क्षेत्र के डीसीपी विक्रम कपूर पिछले एक साल से इस पद पर तैनात थे और उन्हें 2020 में सेवानिवृत्त होना था। उन्होंने कहा कि कपूर काफी मिलनसार और बेहतर अधिकारी थे। विक्रम कपूर की मौत पर पुलिस आयुक्त संजय कुमार ने गहरा दुख जताते हुए कहा कि इस घटना से पूरे पुलिस विभाग शोक में है। उन्होंने कहा कि पुलिस आत्महत्या के मामले की जांच कर रही है। 

विक्रम कपूर मूल रूप से अंबाला के रहने वाले थे और हरियाणा पुलिस में सहायक उपनिरीक्षक के रूप में भर्ती हुए थे। पदोन्नति के बाद वह डीसीपी बने और पिछले करीब दो साल से फरीदाबाद में पदस्थ थे। विक्रम कपूर के परिवार में दो बेटे और पत्नी हैं। उनका एक बेटा पंचकूला में रहता है, जबकि दूसरा बेटा उनके साथ ही रहता था। विक्रम कपूर 1983 में एएसआई के पद पर भर्ती हुए थे। बाद में वह प्रमोट होकर आईपीएस बन गए थे। 


Web Title: Faridabad DCP vikram kapoor commits suicide shoots self, here is need to know all details
क्राइम अलर्ट से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे