ब्लॉगः हॉस्पिटैलिटी उद्योग की साख बर बट्टा लगा रहीं दुष्कर्म समेत दुराचार की घटनाएं, पर्यटकों के बीच 'सुरक्षा का विश्वास' पैदा करने के लिए इन बदलावों की जरूरत

By प्रवीण दीक्षित | Published: June 17, 2022 11:44 AM2022-06-17T11:44:32+5:302022-06-17T11:46:52+5:30

कई स्थानों पर, आतिथ्य उद्योग के परिसर और आसपास के क्षेत्र निषिद्ध दवाओं के विक्रय और उपभोग के केंद्र बन गए हैं। ग्राहकों और कर्मचारियों के साथ धोखाधड़ी, डकैती, चोरी और छेड़छाड़ की घटनाओं को निरंतर पर्यवेक्षण, प्रौद्योगिकी के उपयोग और जिम्मेदार कर्मियों की उचित तैनाती से रोका जाना चाहिए।

Blog Incidents of malpractices, including rape undermining the reputation of the hospitality industry | ब्लॉगः हॉस्पिटैलिटी उद्योग की साख बर बट्टा लगा रहीं दुष्कर्म समेत दुराचार की घटनाएं, पर्यटकों के बीच 'सुरक्षा का विश्वास' पैदा करने के लिए इन बदलावों की जरूरत

ब्लॉगः हॉस्पिटैलिटी उद्योग की साख बर बट्टा लगा रहीं दुष्कर्म समेत दुराचार की घटनाएं, पर्यटकों के बीच 'सुरक्षा का विश्वास' पैदा करने के लिए इन बदलावों की जरूरत

Next

हॉस्पिटैलिटी उद्योग उन क्षेत्रों में से एक है जो कोरोना महामारी के कारण सबसे बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। फिर भी, इस क्षेत्र के संचालकों के साथ-साथ मालिक भी महामारी के अकल्पनीय प्रभाव पर सफलतापूर्वक काबू पाने के लिए बधाई के पात्र हैं। तथ्य यह है कि न केवल उद्योग संकट से बच गया है, बल्कि महामारी पूर्व की सभी गतिविधियों को जोश के साथ फिर से शुरू करने के लिए आशान्वित है, जो इस महत्वपूर्ण, श्रम-बहुल क्षेत्र में काम करने वालों की मजबूत इच्छाशक्ति को दर्शाता है। उद्देश्य न केवल पूर्व-कोरोना स्थिति को बहाल करना होना चाहिए, बल्कि अतीत से सबक सीखना और आने वाले वर्षों में इनमें सुधार करते हुए ‘अतुल्य भारत’ को एक बार फिर दुनिया के सामने पेश करना होना चाहिए।

उद्योग को अपनी कार्मिक नीति पर विचार करने की आवश्यकता है जो पर्यटकों के बीच विश्वास पैदा कर सके। कर्मियों में न केवल कर्मचारी बल्कि उद्योग से जुड़े सभी लोग शामिल हैं। इनमें विभिन्न सेवा प्रदाता जैसे हवाई अड्डों पर रिसेप्शनिस्ट, कैब ड्राइवर, रूम अटेंडेंट आदि शामिल हैं। यह एक सामूहिक कार्य है। इन व्यक्तियों के प्रशिक्षण और ब्रीफिंग से जबरदस्त अंतर पैदा होगा। कई जगहों पर समय-समय पर विदेशी महिलाओं के साथ दुष्कर्म समेत दुराचार की कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं। इनमें से कई में कैब ड्राइवर और होटलों के कर्मचारी जिम्मेदार थे। 

यह जरूरी है कि जीपीएस और सीसीटीवी की तैनाती सहित नए तकनीकी कौशल जल्द से जल्द अपनाए जाएं और सुरक्षा विशेषज्ञों की मदद से सुरक्षा ऑडिट करने के बाद नियमित अंतराल पर उनके उन्नयन पर विचार किया जाए। विभिन्न स्तरों पर नए व्यक्तियों की भर्ती करते समय, कुछ संस्थानों के प्रमाणपत्र के बजाय जिम्मेदार व्यक्तियों के संदर्भों को महत्व दिया जाना चाहिए। युवा उम्मीदवारों को हर प्रमुख छुट्टियों के मौसम में, जैसे कि सर्दी और गर्मी की छुट्टियों में, नियमित रूप से शुरुआती चरणों से इंटर्नशिप प्रदान करने का प्रयास किया जा सकता है ताकि वे उद्योग की आवश्यकताओं के बारे में जागरूक हो सकें। इससे नियोक्ता भी उचित समय पर सही उम्मीदवारों का चयन कर सकेंगे। प्रारंभिक चरित्र सत्यापन के अलावा, हर दो साल के बाद, मौजूदा उम्मीदवारों को पर्यटकों के आतिथ्य में भेजने से पहले उनकी पृष्ठभूमि का सत्यापन किया जाना चाहिए।

केवाईसी और सरकारी आईडी, पर्यटकों के पासपोर्ट के विवरण को नोट करने के संबंध में मौजूदा निर्देशों का कमोबेश ईमानदारी से पालन किया जा रहा है। इन्हें नियमित रूप से एफआरआरओ (फॉरेनर्स रीजनल रजिस्ट्रेशन ऑफिस) के साथ साझा किया जा रहा है। एक पुरुष और एक महिला को कमरा देने से पहले, उनकी गोपनीयता का अतिक्रमण किए बिना अधिकतम सावधानी बरतने की जरूरत है। किशोरों के बारे में विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए, क्योंकि इनमें से कई लड़कियां नाबालिग हो सकती हैं और पता चलने पर कानूनी दंड लगाया जा सकता है।

कई स्थानों पर, आतिथ्य उद्योग के परिसर और आसपास के क्षेत्र निषिद्ध दवाओं के विक्रय और उपभोग के केंद्र बन गए हैं। ग्राहकों और कर्मचारियों के साथ धोखाधड़ी, डकैती, चोरी और छेड़छाड़ की घटनाओं को निरंतर पर्यवेक्षण, प्रौद्योगिकी के उपयोग और जिम्मेदार कर्मियों की उचित तैनाती से रोका जाना चाहिए। इन अपराधों से संबंधित निवारक उपाय सर्वविदित हैं, और इसलिए यहां विस्तार में जाने की आवश्यकता नहीं है। तथापि, किसी भी परिस्थिति में इन अपराधों को दबाने का प्रयास नहीं किया जाना चाहिए। होटल उद्योग द्वारा संचालित रसोई और बेकरी से उत्सर्जन के कारण पैदा होने वाले पर्यावरणीय खतरों पर भी ध्यान देने की आवश्यकता है। दरअसल, बड़े होटलों के आसपास रहने वाले लोग सांस लेने में दिक्कत के साथ ही वायु, ध्वनि और प्रकाश प्रदूषण की लगातार शिकायत करते रहते हैं। कम से कम कोरोना महामारी के बाद, उद्योग को इन समस्याओं को गंभीरता से लेना चाहिए और सचेत रूप से आधुनिक तकनीकी के इस्तेमाल के साथ इनका समाधान करना चाहिए।

अपराधों के स्रोत पर विशेष रूप से ध्यान देने की आवश्यकता है। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के अनुसार, जघन्य अपराधों में लिप्त बच्चों की संख्या बढ़ रही है। कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) के एक भाग के रूप में, होटल उद्योग इन बच्चों पर ध्यान केंद्रित करने पर विचार कर सकता है। इन बच्चों का विवरण हर पुलिस यूनिट के पास उपलब्ध है। किशोर न्याय बोर्ड और जिला बाल कल्याण बोर्ड की सहायता से, वे इन बच्चों की देखभाल करने और उन्हें आवश्यक व्यावसायिक कौशल प्रदान करने के लिए कुछ परामर्शदाताओं के वित्तपोषण पर विचार कर सकते हैं। इस कार्रवाई से ये बच्चे मुख्यधारा में शामिल हो सकेंगे और आर्थिक विकास में योगदान कर सकेंगे। आतिथ्य उद्योग को इसमें से उन लोगों को रोजगार देने पर विचार करना चाहिए, जिन्हें वे योग्य समझ सकते हैं। यह प्रयोग मैंने पुलिस आयुक्त के पद पर रहते हुए किया था। ऐसे 74 बच्चों में से, हम उनमें से 56 को सामान्य नागरिक बनने के लिए तैयार कर सके। हालांकि यह एक नगण्य संख्या प्रतीत हो सकती है, सभी सरकारी अधिकारियों के सामूहिक प्रयासों से इन बच्चों को मदद मिलेगी।

अंत में, नौकरशाही की लालफीताशाही से बचते हुए अपने कामों को जल्दी से पूरा करने की उद्योग की चिंता सराहनीय है लेकिन उन्हें भ्रष्ट आचरण को बढ़ावा नहीं देना चाहिए। यदि वे रिश्वत नहीं देने के लिए कृतसंकल्प हैं, तो निश्चित रूप से इसे रोक सकते हैं। विश्व स्तर पर भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले आतिथ्य उद्योग के नेतृत्व कर्ताओं के लिए अनिवार्य है कि वे सर्वोत्तम प्रथाओं का पालन करें।

Web Title: Blog Incidents of malpractices, including rape undermining the reputation of the hospitality industry

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे