क्रिकेट छोड़कर ट्रक ड्राइवर बनना चाहते थे हरभजन सिंह, सौरव गांगुली ने दिया सहारा और...

By संदीप दाहिमा | Published: July 3, 2021 12:42 PM2021-07-03T12:42:27+5:302021-07-03T12:42:27+5:30

Next

हरभजन सिंह का जन्म एक व्यापारी परिवार में हुआ था। उनके पिता की बियरिंग फैक्ट्री थी, लेकिन उन्होंने भज्जी से कहा कि वह क्रिकेट पर ध्यान दें। हरभजन जब 20 साल के थे तब उनके पिता का देहांत हो गया था। इसके बाद घर की सारी जिम्मेदारी उन्हीं के कंधों पर आ गई।

इसके बाद उन्होंने टीम इंडिया के लिए अपना वनडे और टेस्ट डेब्यू किया। उन्होंने 18 साल की उम्र में अपनी राष्ट्रीय टीम की शुरुआत की। उन्होंने 1998 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया और न्यूजीलैंड के खिलाफ अपना वनडे डेब्यू किया। हालांकि, उन्होंने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया और उन्हें बाहर होना पड़ा। उन्होंने ऐसा घर चलाने के लिए क्रिकेट छोड़ने का फैसला किया था और अमेरिका में ड्राइवर के तौर पर काम करने जा रहे थे।

उनके करियर की शुरुआत में उनकी गेंदबाजी शैली की भी आलोचना की गई थी, लेकिन उनकी शैली को उपयुक्त माना गया था। वह 2001 में ऑस्ट्रेलिया सीरीज से लौटे थे। अनिल कुंबले के चोटिल होने के बाद कप्तान सौरव गांगुली ने मांग की कि भज्जी को टीम में शामिल किया जाए। इस सीरीज में टीम इंडिया को 0-1 से पिछड़ने के बाद 2-1 से ऐतिहासिक जीत मिली। भज्जी ने तीन मैचों में 32 विकेट लिए, जिसमें एक हैट्रिक भी शामिल है। वह एक टेस्ट में हैट्रिक लेने वाले पहले भारतीय बने।

2008 का ऑस्ट्रेलिया दौरा शहर में चर्चा का विषय था। उस समय, मंकीगेट मामले की भज्जी ने आलोचना की थी। भज्जी पर एंड्रयू साइमंड्स के खिलाफ नस्लीय टिप्पणी करने का आरोप लगाया गया था।

भज्जी 2008 में शुरू हुए आईपीएल के पहले संस्करण में मुंबई इंडियंस के लिए खेले, जब उन्होंने किंग्स इलेवन पंजाब के लिए खेल रहे एस श्रीसंत को थप्पड़ मारा। इसके बाद उन्हें पूरे सत्र के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया। 2007 T-20 विश्व कप के फाइनल में, उन्होंने पाकिस्तान के मिस्बाह-उल-हक के खिलाफ आखिरी ओवर फेंकने से इनकार कर दिया।

हरभजन सिंह ने 2015 में एक्ट्रेस गीता बसरा से शादी की थी।

भज्जी ने 103 टेस्ट में 417 विकेट, 236 वनडे में 269 और 28 ट्वेंटी 20 में 25 विकेट लिए।