More than half of unsold flats in Noida, Greater Noida, Gurugram in the category of cheap houses: report | नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गुरुग्राम में आधे से ज्यादा बिना बिके फ्लैट सस्ते मकानों की श्रेणी में: रिपोर्ट
रीयल्टी कारोबार पर नजर रखने वाली ब्रोकरेज फर्म प्राप टाइगर की रिपोर्ट में कहा गया है कि सस्ते मकानों की श्रेणी वाले इन मकानों की बिक्री में तेजी आने की उम्मीद है।

Highlightsजुलाई अंत में कुल 1.09 लाख मकान बिके नहीं थे54 प्रतिशत फ्लैट ऐसे थे जिनका दाम 45 लाख रुपये और इससे कम है।

राजधानी दिल्ली से सटे नोएडा, ग्रेटर नोएडा और गुरुग्राम में बिना बिके मकानों में आधे से ज्यादा ऐसे हैं जो कि सस्ते मकानों की श्रेणी में आते हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक इन क्षेत्रों में जुलाई अंत में कुल 1.09 लाख मकान बिके नहीं थे और इनमें से 54 प्रतिशत फ्लैट ऐसे थे जिनका दाम 45 लाख रुपये और इससे कम है।

रीयल्टी कारोबार पर नजर रखने वाली ब्रोकरेज फर्म प्राप टाइगर की रिपोर्ट में कहा गया है कि सस्ते मकानों की श्रेणी वाले इन मकानों की बिक्री में तेजी आने की उम्मीद है। आवास रिण पर ब्याज दर कम होने और 45 लाख रुपये तक के मकानों के आवास रिण के ब्याज भुगतान पर डेढ लाख रुपये की अतिरिक्त कर कटौती का लाभ उपलब्ध कराये जाने से सस्ती श्रेणी के मकानों के लिये मांग बढ़ने की उम्मीद है।

प्राप टाइगर ने एक रिपोर्ट में कहा, ‘‘राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के प्रमुख बाजारों में रीयल एस्टेट डेवलपर के पास जुलाई 2019 अंत तक कुल 1,08,937 बिना बिके फ्लैट थे। इनमें से 58,516 फ्लैट के दाम 45 लाख रुपये अथवा इससे कम थे।’’ रिपोर्ट के अनुसार गुरुग्राम क्षेत्र की यदि बात की जाये तो इसमें भिवाड़ी, रेवाड़ी, नीमराणा और धारुहेड़ा क्षेत्र भी शामिल है।

हाउसिंग डॉट कॉम, प्राप टाइगर डॉट कॉम और मकान डॉट कॉम की मालिक कंपनी एलारा टेक्नालाजीज के समूह मुख्य परिचालन अधिकारी मणि रंगराजन ने कहा, ‘‘बिल्डरों के दिवाला प्रक्रिया में जाने के बढ़ते मामलों से नोएडा संपत्ति बाजार सहित समूचे एनसीआर क्षेत्र में बाजार धारणा बुरी तरह प्रभावित हुई है।

बिक्री कम होने से इन भूसंपत्ति बाजारों में बिल्डरों के पास काफी मात्रा में बिना बिके तैयार फ्लैटों का स्टॉक जमा हो गया।’’ रिपोर्ट में कहा गया है कि बिक्री की मौजूदा जो रफ्तार है उसके मुताबिक बिल्डरों के पास नोएडा, ग्रेटर नोएडा में जो तैयार मकान हैं उन्हें बेचने में तीन से साढ़े तीन साल का समय लग सकता है।

वहीं गुरुग्राम में बिना बिके मकानों को बेचने में 28 माह तक का समय लग सकता है। रंगराजन ने कहा, ‘‘जुलाई अंत की यह स्थिति एक तरह से चिंता को बढ़ाने वाली है लेकिन यदि दूसरी तरह से देखा जाये तो यह खरीदारों के लिये मकान खरीदने का बेहतर अवसर भी है। ग्राहकों को बिल्कुल तैयार मकान मिल रहे हैं।

आवास रिण पर ब्याज की दर नीचे है, इसके साथ ही 45 लाख तक की कीमत वाले सस्ते मकानों के ब्याज भुगतान पर 3.5 लाख रुपये तक की कर कटौती का लाभ उपलब्ध है।’’ उन्होंने कहा कि सस्ते मकानों के लिये जीएसटी दर को भी एक प्रतिशत किया गया है।

इसका लाभ भी खरीदार उठा सकते हैं। इन संपत्ति बाजारों में कीमतों में भी हाल के दिनों में कुछ सुधार आया है। गुरुग्राम में पिछले तीन साल के दौरान दाम 10 प्रतिशत कम हुये हैं जबकि नोएडा में दाम 2.5 प्रतिशत तक घटे हैं। 


Web Title: More than half of unsold flats in Noida, Greater Noida, Gurugram in the category of cheap houses: report
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे