Invitations not yet sent to lal krishan Advani and murli manohar Joshi, who were the main pillars of Ram temple movement, will be included in Uma Bharati Bhoomi Pujan | राम मंदिर भूमि पूजन के लिए लालकृष्ण आडवाणी व मुरली मनोहर जोशी को अब तक नहीं भेजा गया निमंत्रण, उमा भारती होंगी शामिल
लालकृष्ण आडवाणी व मुरली मनोहर जोशी (फाइल फोटो)

Highlightsराम मंदिर निर्माण आंदोलन में आडवाणी व जोशी के सहयोगी रहे उमा भारती व कल्याण सिंह को तो निमंत्रण भेजा जा चुका है।देश भर में राम मंदिर आंदोलन को लेकर अलख जगाने वाले दो बड़े नेता लाल कृष्ण आडवाणी व मुरली मनोहर जोशी को अब तक निमंत्रण नहीं भेजा गया है।वर्तमान पीएम नरेंद्र मोदी ने 1991 में कहा था कि जिस दिन राम मंदिर का निर्माण शुरू होगा, मैं लौटकर आऊंगा।

नई दिल्ली:राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम 5 अगस्त को होना है। इस कार्यक्रम में देश के पीएम नरेंद्र मोदी समेत कई बड़े नेता हिस्सा लेंगे। भूमि पूजन के दौरान सुरक्षा व अन्य विधि व्यवस्था को लेकर तैयारियां काफी तेजी से हो रही है।

इस बीच खबर है कि राम मंदिर निर्माण को लेकर देश भर में अलख जगाने वाले व आंदोलन चलाने के लिए जेल तक जाने वाले लाल कृष्ण आडवाणी व मुरली मनोहर जोशी सरीखे नेताओं को अब तक निमंत्रण नहीं भेजा गया है।

एनडीटीवी की मानें तो राम मंदिर निर्माण आंदोलन में आडवाणी व जोशी के सहयोगी रहे उमा भारती व कल्याण सिंह को तो निमंत्रण भेजा जा चुका है। लेकिन, इस आंदोलन के सुप्रीम लीडर को ही अब तक बुलावा नहीं भेजा गया है।

बता दें कि उमा भारती व कल्याण सिंह ने कहा है कि वह दोनों इस भव्य भूमि पूजन समारोह में हिस्सा लेंगे। उमा भारती ने ट्वीट कर इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि मैं 4 अगस्त की शाम तक अयोध्या पहुंच जाउंगी और 6 अगस्त तक वहीं रहूंगी।

जिस दिन राम मंदिर बनेगा मैं वापस आऊंगा'

मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अप्रैल 1991 में अयोध्या दौरे पर आए थे। उस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने मुरली मनोहर जोशी के साथ विवादित रामजन्मभूमि परिसर का भी दौरा किया था। फोटोग्राफर महेंद्र त्रिपाठी ने उस दिन को याद करते हुए कहा है मुरली मनोहर जोशी ने पत्रकारों से मोदी का परिचय गुजरात के बीजेपी नेता को रूप में करवाया था।

महेंद्र त्रिपाठी ने कहा, 'जब मैंने और स्थानीय पत्रकारों ने मोदी जी से पूछा कि वह फिर कब अयोध्या लौटेंगे तो मोदी ने जवाब दिया था, ''जिस दिन राम मंदिर का निर्माण शुरू होगा, मैं लौटकर आऊंगा''। प्रधानमंत्री ने अपना वादा निभाएंगे।'

फोटोग्राफर महेंद्र त्रिपाठी हालांकि इस बात से नाराज हैं कि उन्हे राममंदिर भूमि पूजन में आने का न्योता नहीं दिया गया है। फोटोग्राफर महेंद्र त्रिपाठी का कहना है कि वह 1989 से विश्व हिंदू परिषद (VHP) के लिए काम कर रहे हैं। उन्होंने अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसला आने तक काम किया है।

अयोध्या में भूमिपूजन की तैयारी जारी

भगवान राम की जन्म स्थली अयोध्या में भूमिपूजन से पहले तैयारियां जोरो पर हैं। कई इमारतों पर पीला रंग-रोगन किया जा रहा है जिनपर रामायाण के विभिन्न पात्रों की तस्वीरें उकेरी जा रही हैं। पीएम मोदी साकेत कॉलेज स्थित हेलीपैड से राम जन्मभूमि पहुंचेंगे। 

राम जन्भूमि मंदिर निर्माण के लिए होने वाले भूमि पूजन समारोह के अवसर पर मंदिर प्रशासन लोगों और श्रद्धालुओं में वितरण के लिए ‘प्रसाद’ के एक लाख से अधिक पैकेट उपलब्ध कराएगा। रामलला की मूर्ति को 'भूमिपूजन' के दिन एक नई 'नवरत्न' पोशाक पहनायी जाएगी। पोशाक में नौ मणि रत्न जड़ित होंगे और इसकी सिलाई यहां की जा रही है।

Web Title: Invitations not yet sent to lal krishan Advani and murli manohar Joshi, who were the main pillars of Ram temple movement, will be included in Uma Bharati Bhoomi Pujan
भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे