सुकेश चंद्रशेखर की मदद करने वाले रोहिणी जेल के 82 कर्मचारियों से होगी पूछताछ, करोड़ों रुपये का घूस लेने का है आरोप

By विशाल कुमार | Published: January 21, 2022 08:17 AM2022-01-21T08:17:40+5:302022-01-21T08:19:41+5:30

जांच में पाया कि सुकेश को जिस वार्ड नंबर 3 के बैरक नंबर 204 में रखा गया था, वहां के सीसीटीवी कैमरे को पर्दे और पानी के बॉटल से ढक दिया गया था। सुकेश बिना किसी बाधा के मोबाइल फोन और अलग बैरक का उपयोग करने की सुविधा प्राप्त करने के लिए जेल अधिकारियों को हर महीने लगभग 1.5 करोड़ रुपये का भुगतान करता था।

delhi rohini-jail-extortion-sukesh-chandrashekhar-probe | सुकेश चंद्रशेखर की मदद करने वाले रोहिणी जेल के 82 कर्मचारियों से होगी पूछताछ, करोड़ों रुपये का घूस लेने का है आरोप

सुकेश चंद्रशेखर की मदद करने वाले रोहिणी जेल के 82 कर्मचारियों से होगी पूछताछ, करोड़ों रुपये का घूस लेने का है आरोप

Next
Highlightsकैदी सुकेश चंद्रशेखर 200 करोड़ रुपये की वसूली करने का आरोपी है.रोहिणी जेल के 82 जेल अधिकारियों और कर्मचारियों से भ्रष्टाचार निवारक अधिनियम के तहत पूछताछ होगी।दो महीने पहले सुकेश की मदद करने पर सात जेल अधिकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया था।

नई दिल्ली: फोर्टिस हेल्थकेयर के पूर्व प्रवर्तक शिविंदर सिंह की पत्नी अदिती सिंह से 200 करोड़ रुपये वसूली करने वाले कैदी सुकेश चंद्रशेखर की मदद करने के मामले में रोहिणीजेल के 82 जेल अधिकारियों और कर्मचारियों से भ्रष्टाचार निवारक अधिनियम के तहत पूछताछ होगी।

आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने जेल अधिकारियों ने इसकी मंजूरी मांगी है। इससे दो महीने पहले इस मामले में सुकेश की मदद करने पर सात जेल अधिकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया था।

पुलिस ने दावा किया है कि सुकेश ने जेल कर्मचारियों को अपने लिए एक पूरी बैरक सुरक्षित करने के लिए लगभग 25-30 करोड़ रुपये का भुगतान किया।

तिहाड़ जेल के डीजी संदीप गोयल को 10 जनवरी को लिखे पत्र में डीसीपी (ईओडब्ल्यू) मोहम्मद अली ने कहा कि अदिति सिंह की शिकायत पर 7 अगस्त 2021 को स्पेशल सेल पुलिस स्टेशन में आईपीसी, आईटी एक्ट और मकोका की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था।

अली ने बताया  कि अब तक की गई जांच के दौरान सात जेल अधिकारियों दो जेल अधीक्षक सुनील कुमार, सुंदर बोरा, उप जेल अधीक्षक प्रकाश चंद, महेंद्र प्रसाद सुंदरियाल, सुभाष बत्रा और दो सहायक अधीक्षक धर्म सिंह मीणा और लक्ष्मी दत्त को इस मामले में गिरफ्तार किया गया है।

ईओडब्ल्यू ने अपनी जांच में पाया कि सुकेश को जिस वार्ड नंबर 3 के बैरक नंबर 204 में रखा गया था, वहां के सीसीटीवी कैमरे को पर्दे और पानी के बॉटल से ढक दिया गया था।

इसके साथ ही सुकेश दो फोन भी रखता था। सुकेश बिना किसी बाधा के मोबाइल फोन और अलग बैरक का उपयोग करने की सुविधा प्राप्त करने के लिए जेल अधिकारियों को हर महीने लगभग 1.5 करोड़ रुपये का भुगतान करता था।

मामले में अब तक सुकेश की साथी अभिनेत्री लीना मारिया पॉल समेत 14 लोगों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया गया है।

Web Title: delhi rohini-jail-extortion-sukesh-chandrashekhar-probe

भारत से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे