ये ऑफ स्पिनर बना भारतीय क्रिकेट महिला टीम का अंतरिम कोच, भारत के लिए खेले हैं दो टेस्ट और 31 वनडे

सीनियर खिलाड़ियों के साथ मतभेद के बाद तुषार अरोठे को इस्तीफा देने को बाध्य होना पड़ा था।

By भाषा | Published: July 16, 2018 04:13 PM2018-07-16T16:13:34+5:302018-07-16T16:19:46+5:30

ramesh powar named indian womens team interim coach | ये ऑफ स्पिनर बना भारतीय क्रिकेट महिला टीम का अंतरिम कोच, भारत के लिए खेले हैं दो टेस्ट और 31 वनडे

Ramesh Powar

Next

मुंबई, 16 जुलाई: भारत के पूर्व ऑफ स्पिनर रमेश पोवार को राष्ट्रीय महिला क्रिकेट टीम का अंतरिम कोच बनाया गया है। बीसीसीआई जब तक तुषार अरोठे का उपयुक्त विकल्प नहीं ढूंढ लेता तब तक वह टीम के साथ जुड़े रहेंगे। सीनियर खिलाड़ियों के साथ मतभेद के बाद अरोठे को इस्तीफा देने को बाध्य होना पड़ा था। सीनियर खिलाड़ी बड़ौदा के इस पूर्व आलराउंडर के कोचिंग के तरीकों से खुश नहीं थी। 

पोवार महिला टीम के शिविर से जुड़ेंगे जिसकी शुरुआती 25 जुलाई से बेंगलुरू में होगी। बीसीसीआई पहले ही पूर्णकालिक कोच के लिए आवेदन आमंत्रित कर चुका है जिसकी अंतिम तारीख 20 जुलाई है। पोवार ने पीटीआई से कहा, 'मुझे जो जिम्मेदारी की गई उसकी मुझे खुशी है और मैं उन्हें (महिला टीम को) आगे बढ़ाने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करूंगा।' 

यह भी पढ़ें- इंग्लैंड के खिलाफ जीत के लिए कोहली करेंगे दो बड़े बदलाव, अंग्रेजों को टक्कर देंगे ये 11 इंडियन क्रिकेटर!

चालीस साल के पोवार ने भारत की ओर से दो टेस्ट में छह जबकि 31 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में 34 विकेट हासिल किए। उन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 148 मैचों में 470 विकेट चटकाए। पता चला है कि पोवार को अपनी अंतरिम नियुक्ति की जानकारी क्रिकेट बोर्ड से कल मिली। पिछले हफ्ते ही पोवार मुंबई की सीनियर रणजी टीम के कोच की दौड़ में मुंबई के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज विनायक सामंत से पिछड़ गए थे।  इस पद के लिए कथित तौर पर पोवार पहली पसंद थे लेकिन प्रबंधन समिति का एक प्रस्ताव उनके खिलाफ और सामंत के पक्ष में गया। 

पोवार ने इस साल फरवरी में बीच में ही एमसीए की क्रिकेट अकादमी के स्पिन गेंदबाजी कोच का पद छोड़ दिया था और युवा स्पिनरों को प्रशिक्षण देने के लिए ऑस्ट्रेलिया चले गए थे। दिशानिर्देशों के अनुसार नये कोच की उम्र 55 बरस से कम होनी चाहिए और उसे अंतरराष्ट्रीय या प्रथम श्रेणी टीम को कोचिंग देने का अनुभव होना चाहिए। 

यह भी पढ़ें- Ind Vs Eng 3rd ODI: हेडिंग्ले में हारा भारत तो 7 साल बाद इंग्लैंड कर देगा ये कारनामा

Open in app