On This Day: सचिन तेंदुलकर ने 1994 में खत्म किया था पहले वनडे शतक का पांच साल लंबा इंतजार, करियर में जड़े रिकॉर्ड 49 शतक

Sachin Tendulkar maiden ODI hundred: महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अपना पहला वनडे शतक 10 सितंबर 1994 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 110 रन की पारी खेलते हुए जड़ा छा

By अभिषेक पाण्डेय | Published: September 9, 2020 12:22 PM2020-09-09T12:22:27+5:302020-09-09T12:45:59+5:30

On this day in 1994: Sachin Tendulkar scores maiden ODI hundred of his 49 ODI centuries | On This Day: सचिन तेंदुलकर ने 1994 में खत्म किया था पहले वनडे शतक का पांच साल लंबा इंतजार, करियर में जड़े रिकॉर्ड 49 शतक

सचिन ने 10 सितंबर 1994 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जड़ा था अपना पहला वनडे शतक (Twitter/ICC)

Next
Highlightsसचिन ने 10 सितंबर 1994 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कोलंबो में जड़ा था अपना पहला वनडे शतकसचिन ने इसके बाद 48 और वनडे शतक जड़ते हुए अपने करियर में कुल 18426 रन बनाए

सचिन तेंदुलकर ने 16 साल की उम्र में भारत के लिए डेब्यू करने के बाद जल्द ही अपना छाप छोड़ी थी। अपने पहले ही दौरे में पाकिस्तान के खिलाफ उसके घर में उन्होंने खतरनाक तेज गेंदबाजी का जिस अंदाज में सामना किया था, उसकी हर तरफ चर्चा हुई थी। तेंदुलकर ने अपने पहले दौरे पर दो अर्धशतक बनाए थे। 

सचिन तेंदुलकर ने अपना पहला टेस्ट शतक इंग्लैंड के खिलाफ ओल्ड ट्रैफर्ड में केवल 15वें इंटरनेशनल मैच में जमा दिया था लेकिन उन्हें अपा पहला शतक बनाने के लिए 5 साल तक इंतजार करना पड़ा था।

सचिन को पहले वनडे शतक के लिए करना पड़ा था 79 मैचों का इंतजार

कोई भी खिलाड़ी अब तक सचिन के 18426 वनडे रन के करीब नहीं पहुंच पाया है लेकिन इस महान बल्लेबाज के सीमित ओवरों के करियर की शुरुआत शानदार नहीं रही थी। तेंदुलकर ने करीब 5 साल और 78 वनडे में कोई शतक नहीं लगाया था। तब तक वह 17 अर्धशतक जमा चुके थे लेकिन शतक से वंचित थे।  

सचिन ने अपना पहला वनडे शतक 10 सितंबर 1994 को श्रीलंका में सिंगर वर्ल्ड सीरीज के दौरान अपनी पसंदीदा टीम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हासिल की थी। सचिन ने उस मैच में 8 चौकों और 2 छक्कों की मदद से 130 गेंदों में 110 रन ठोके।  

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उस मैच में मनोज प्रभाकर के साथ ओपनिंग करते हुए सचिन ने शतक जमाया था। उन्होंने नवजोत सिंह सिद्धू और मोहम्मद अजहरुद्दीन के साथ महत्वपूर्ण साझेदारियां कीं, इसके बाद विनोद कांबली की 43 रन की तेज पारी की मदद से भारत ने 246/8 का स्कोर बनाया। इसके जवाब में मार्क वॉ ने 61 रन की महत्वपूर्ण पारी खेली लेकिन ऑस्ट्रेलियाई टीम लक्ष्य से 31 रन दूर रह गई।

सचिन का वनडे करियर दो भागों में विभाजित किया जा सकता है-एक उनके पहले वनडे शतक के पहले और दूसरा उसके बाद।

पहला वनडे शतक जमाने से पहले सचिन ने 32.70 के औसत से 2126 रन बनाए थे।

लेकिन अपने पहले शतक के बाद सचिन ने अपना खेल अलग ही स्तर पर पहुंचाया और 47.10 के औसत से 48 और शतक और 75 और अर्धशतक जड़ते हुए 16300 रन बना दिए।

Open in app