New Zealand vs India ODI Series 2022: सीरीज 1-0 से हारी टीम इंडिया, बारिश के कारण अंतिम वनडे रद्द, न्यूजीलैंड ने टी20 का बदला लिया, इस खिलाड़ी को चुना गया प्लेयर ऑफ सीरीज

New Zealand vs India ODI Series 2022: मेजबान टीम ने 220 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए एक विकेट पर 104 रन बना लिये थे।

By सतीश कुमार सिंह | Published: November 30, 2022 02:58 PM2022-11-30T14:58:17+5:302022-11-30T16:06:30+5:30

New Zealand vs India 2022 India lose three-match ODI series 0-1 rain plays third game PLAYER OF THE SERIES tom Latham | New Zealand vs India ODI Series 2022: सीरीज 1-0 से हारी टीम इंडिया, बारिश के कारण अंतिम वनडे रद्द, न्यूजीलैंड ने टी20 का बदला लिया, इस खिलाड़ी को चुना गया प्लेयर ऑफ सीरीज

बल्लेबाजी का न्योता मिलने के बाद भारतीय पारी 219 रन पर सिमट गयी थी।

Next
Highlightsटॉम लॉथम को प्लेयर ऑफ द सीरीज घोषित किया।न्यूजीलैंड ने फिन एलेन (57 रन) के रूप में एकमात्र विकेट गंवाया।बल्लेबाजी का न्योता मिलने के बाद भारतीय पारी 219 रन पर सिमट गयी थी।

New Zealand vs India ODI Series 2022: भारत और न्यूजीलैंड के बीच बुधवार को तीसरा और अंतिम वनडे बारिश के कारण रद्द हो गया। न्यूजीलैंड ने सीरीज 1-0 से जीत ली है। टीम इंडिया ने टी20 सीरीज 1-0 से जीती थी। शिखर धवन की टीम तीसरे मैच में 219 रन पर आउट हो गई थी। टॉम लॉथम को प्लेयर ऑफ द सीरीज घोषित किया।

बल्लेबाजी का न्योता मिलने के बाद भारतीय टीम बल्लेबाजों के लचर प्रदर्शन के कारण 47.3 ओवर में 219 रन पर सिमट गयी। इस लक्ष्य का पीछा करने उतरी न्यूजीलैंड ने 18 ओवर में एक विकेट गंवाकर 104 रन बना लिये थे कि बारिश के कारण खेल रोकना पड़ा। वह डकवर्थ लुईस पद्धति के पार स्कोर के हिसाब से 50 रन से आगे थी।

टीम के लिये फिन एलेन (57 रन) ने चौथा वनडे अर्धशतक जड़ा। कप्तान केन विलियमसन की टीम को जीत के लिये 32 ओवर में 116 रन की दरकार थी लेकिन उन्हें ‘बिना नतीजे’ के संतोष करना पड़ा क्योंकि मैच को डकवर्थ लुईस पद्धति से तकनीकी रूप से पूरा करने के लिये दो ओवर की दरकार थी।

न्यूजीलैंड ने ऑकलैंड में पहले वनडे में सात विकेट से जीत दज की थी जबकि दूसरा वनडे भी दो बार की बाधा के बाद बारिश की भेंट चढ़ गया था। बारिश के कारण बुधवार को सफेद गेंद श्रृंखला का एक और मैच रद्द हो गया। इस तरह मेजबान टीम ने श्रृंखला 1-0 से अपने नाम की। इस तरह छह मैचों की सफेद गेंद की श्रृंखला के केवल दो मैचों में ही नतीजा निकला और इससे संबंधित अधिकारियों की खराब योजना की कलई भी खुल गयी। यह श्रृंखला पड़ोसी देश आस्ट्रेलिया में टी20 विश्व कप के एक हफ्ते से भी कम समय बाद आयोजित की गयी थी।

वहीं भारत के लिये इस श्रृंखला ने उनकी त्रुटिपूर्ण चयन नीति का खुलासा किया। कप्तान शिखर धवन की भारतीय टीम को गैर अनुभवी गेंदबाजी आक्रमण से भी निराशा झेलनी पड़ी जो विकेट चटकाने के लिये जूझते दिखे। एलेन (54 गेंद में आठ चौके, एक छक्का) और डेवोन कॉनवे (नाबाद 38 रन) ने पहले विकेट के लिये 97 रन की भागीदारी की।

हालांकि न्यूजीलैंड ने सात ओवर में बिना विकेट गंवाये 28 रन बनाकर धीमी शुरूआत की लेकिन कॉनवे ने चाहर के एक ओवर में चार बाउंड्री लगाकर पारी को तेजी दी। इसके बाद एलेन ने तेज गेंदबाज उमरान मलिक पर आक्रामकता बरती। धवन अपने सीमित गेंदबाजी विकल्पों से जूझते दिये जिससे न्यूजीलैंड के खिलाड़ियों ने अपने घरेलू हालात पर चमकदार प्रदर्शन किया।

इससे पहले श्रृंखला बचाने की कवायद में जुटे भारत के बल्लेबाजों का प्रदर्शन निराशाजनक रहा जिसमें आधी टीम 25.3 ओवर में पवेलियन लौट चुकी थी। केवल वाशिंगटन सुंदर (64 गेंद में 51 रन, पांच चौके और एक छक्का) ही अर्धशतकीय पारी खेल सके जिसकी बदौलत टीम 200 रन का स्कोर पार कर पायी।

इस स्पिन आल राउंडर ने पहले वनडे में भारत की सात विकेट पर 306 रन की पारी में 16 गेंद में नाबाद 37 रन बनाकर अपनी काबिलियत का नजारा पेश किया था, वह आउट होने वाले अंतिम खिलाड़ी रहे। उनसे पहले श्रेयस अय्यर (49 रन) अच्छी शुरूआत का फायदा नहीं उठा सके और अपने पचासे से एक रन पहले आउट हो गये।

बारिश के कारण रद्द हुए दूसरे वनडे में एडम मिल्ने नहीं खेले थे लेकिन इस मैच में उनकी वापसी हुई। उन्होंने भारतीय शीर्ष क्रम को झकझोरते हुए 57 रन देकर तीन विकेट हासिल किये। मिल्ने ने कप्तान शिखर धवन (28 रन) और शुभमन गिल (13 रन) के विकेट प्राप्त किये।

फिर उन्होंने सूर्यकुमार यादव (06) के रूप में भारत का महत्वपूर्ण विकेट चटकाया जिससे भारत की मध्य ओवरों में लचर बल्लेबाजी की कलई खुल गयी। भारतीय बल्लेबाजों में केवल अय्यर ही पारी के दौरान नियंत्रण में दिखे, उन्होंने कुछ दर्शनीय शॉट लगाये लेकिन लॉकी फर्ग्यूसन की गेंद पर डेवोन कॉनवे को कैच देकर आउट हुए।

अय्यर ने 59 गेंद की पारी के दौरान आठ चौके लगाये लेकिन उनके आउट होने के बाद भारत मुश्किल में था क्योंकि आधी टीम 121 रन पर पवेलियन पहुंच चुकी थी। कप्तान विलियमसन ने अपनी रणनीति से प्रभावित किया और गेंदबाजों को चतुराई से रोटेट किया। पांचवें गेंदबाज डेरिल मिशेल ने भी 25 रन देकर तीन खिलाड़ियों के विकेट झटके जबकि मैट हैनरी (10 ओवर में दो मेडन से 29 रन) किफायती साबित हुए। अनुभवी तेज गेंदबाज टिम साउदी ने 36 रन देकर दो विकेट झटके।

आसमान में बादल छाये हुए और न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर भारत को बल्लेबाजी का न्योता दिया जिसने धीमी और सतर्क शुरुआत की। गिल पहले दो वनडे में काफी आक्रामक दिखे थे, पर आज वह स्ट्रोक खेलने में काफी सतर्क दिखे और 18 गेंद में केवल पांच रन ही बना सके जबकि उनके सीनियर जोड़दार धवन आक्रमक दिखे।

धवन ने तीसरे ओवर में बाहर निकलकर खेलते हुए साउदी पर एक छक्का जड़ा लेकिन इस गेंदबाज ने भी वापसी करते हुए अपना अगला ओवर मेडन डाला। वहीं हैनरी दूसरे छोर पर कसी गेंदबाजी कर रहे थे। पावरप्ले के अंत में भारतीय सलामी बल्लेबाजों ने धीरे धीरे हाथ खोलना शुरू किया जिसमें गिल ने मिल्ने पर लगातार दो चौके जमाये।

लेकिन जल्द ही संयम खो बैठे और अगली गेंद पर स्क्वायर लेग में खेलने की कोशिश में शार्ट मिडविकेट पर कैच देकर आउट हुए। रन गति बढ़ाने की कोशिश में जुटे धवन भी मिल्ने का दूसरा शिकार बने। टी20 में धमाकेदार प्रदर्शन करने वाले सूर्यकुमार पिच पर ज्यादा समय नहीं बिता सके और मिल्ने का तीसरा शिकार हुए।

दूसरे वनडे में संजू सैमसन को बाहर रखने के लिये आलोचना के बावजूद दीपक हुड्डा को टीम में बरकरार रखा गया जो फिर से प्रभावित नहीं कर सके और 12 रन पर आउट हुए। अय्यर के आउट होने के बाद भारत को साझेदारी की सख्त जरूरत थी लेकिन हुड्डा क्रीज पर सुंदर का साथ नहीं निभा सके। वह साउदी की उछाल लेती गेंद पर आउट हुए। हल्की बूंदाबांदी के कारण मैच 10 मिनट देर से शुरू किया लेकिन कोई ओवर कम नहीं किया गया।

Open in app