शाहिद ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के अध्यक्ष के तौर पर पदभार संभाला

By भाषा | Published: September 15, 2021 09:39 PM2021-09-15T21:39:57+5:302021-09-15T21:39:57+5:30

Shahid takes over as President of the 76th session of the United Nations General Assembly | शाहिद ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के अध्यक्ष के तौर पर पदभार संभाला

शाहिद ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के अध्यक्ष के तौर पर पदभार संभाला

Next

योषिता सिंह

संयुक्त राष्ट्र, 15 सितंबर मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के अध्यक्ष का जिम्मा संभाल लिया है और उनकी शीर्ष प्राथमिकताओं में दुनिया का कोविड रोधी टीकाकरण कराना, महामारी से स्थिरता लाना और लैंगिक समानता है।

संयुक्त राष्ट्र महासभा का 76वां सत्र मंगलवार को शुरू हुआ और निवर्तमान अध्यक्ष वोल्कन बोज़कीर ने शाहिद को महासभा के अध्यक्ष का कार्यभार सौंपा। 59 वर्षीय शाहिद को इस साल सात जुलाई को महासभा के 76वें सत्र का अध्यक्ष चुना गया था।

इस सत्र की शुरुआत ऐसे समय में हुई है जब दुनिया महामारी के चंगुल में फंसी है, टीके की असमानता है और अफगानिस्तान और म्यांमा जैसे देशों में स्थिति के कारण सुरक्षा एवं मानवीय चिंताएं हैं।

193 राष्ट्रों के सदस्यों वाली संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के अध्यक्ष का पदभार संभालने के बाद शाहिद ने कहा, “ यह कहना की 18 महीने चुनौतीपूर्ण रहे, इसे कमतर करना होगा। लाखों लोगों की जान गई, करोड़ों लोग बीमारी बड़े, अरबों को भुगतना पड़ा।”

उन्हेंने कहा, “हर दिन हम जलवायु परिवर्तन, आपदाएं, संघर्ष और अस्थिरता से संबंधित हमारी सामूहिक चिंता को प्रज्वलित करने वाले अधिक से अधिक समाचार सुनते हैं। विमर्श बदलने की जरूरत है और हमें इस बदलाव को शुरू करना चाहिए।”

शाहिद ने संयुक्त राष्ट्र के राजदूतों, राजयनिकों, प्रतिनिधियों से कहा कि उन्होंने अपनी अध्यक्षता की थीम के रूप में ‘उम्मीद को गले लगाया’ है। उन्होंने कहा कि उम्मीद इस वक्त की जरूरत है।

अपनी ‘पांच उम्मीद की किरणों’ को रेखांकित करते हुए शाहिद ने कहा कि कोविड-19 से उभरने के लिए दुनियाभर का टीकाकरण उनकी शीर्ष प्राथमिकता होगी।

उन्होंने कहा, “ हमें टीके तक पहुंच की खाई को भरना चाहिए। इसके मद्देनजर, मैं टीके की समानता पर प्रमुख विशेषज्ञों एवं विश्व नेताओं के साथ उच्च स्तरीय चर्चा करूंगा।”

भारत के संयुक्त राष्ट्र में स्थायी प्रतिनिधि राजदूत टीएस तिरुमूर्ति ने पीटीआई-भाषा से कहा कि उन्होंने शाहिद का संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के अध्यक्ष के तौर पर गर्मजोशी से स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि भारत उनके कार्यकाल में उनका सहोयग करने को उत्सुक है।

महासभा में अपनी टिप्पणी में शाहिद ने कहा कि उनकी दूसरी उम्मीद की किरण महामारी से स्थिरता का निर्माण करना है जिसके लिए वह आर्थिक एवं सामाजिक परिषद, संयुक्त राष्ट्र व्यवस्था, अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थान के साथ मिलकर काम करेंगे।

लैंगिक मुद्दों पर, उन्होंने कहा कि उनका इरादा लैंगिक सलाहकार बोर्ड का पुनर्गठन करने का है और अपनी पिछले संकल्प को दोहराया कि वह केवल उन पैनलों चर्चा में भाग लेंगे जो लैंगिक आधार पर संतुलित होंगी।

वह युवाओं को सशक्त करने के लिए ‘ प्रेसिडेंट ऑफ जनरल असेम्बली यूथ फेलोशिप प्रोग्राम’ भी शुरू करेंगे।

संयुक्त राष्ट्र सुधार पर, शाहिद ने रेखांकित किया कि "हमें एक बार फिर, संयुक्त राष्ट्र को सभी के लिए एक मंच बनाना चाहिए", "हम लोगों का " का एक मंच।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने 76वें सत्र के आगाज़ पर अपनी टिप्पणी में कहा कि दुनिया आज जिन चुनौतियों और विभाजनों का सामना कर रही है, वे प्रकृति निर्मित नहीं हैं, बल्कि मानव निर्मित हैं।

Disclaimer: लोकमत हिन्दी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।

Web Title: Shahid takes over as President of the 76th session of the United Nations General Assembly

विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे