Highlightsनेपाल एक बार फिर से भारत के साथ अपने रिश्ते को बेहतर बनाने का प्रयास कर रहा है। इसी साल जुलाई में केपी शर्मा ओली की कुर्सी बचाने के लिए चीनी राजदूत एक्टिव हो गई थी।

नई दिल्ली:नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली और चीनी राजदूत के बीच की दोस्ती किसी से छिपी नहीं है। लेकिन, अब हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के हवाले से यह बात सामने आ रही है कि नेपाल के पीएम केपी शर्मा ओली ने चीनी राजदूत को शख्त शब्दों में संदेश दिया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, केपी शर्मा ओली ने बीते सप्ताह चीनी राजदूत होउ यान्की को साफ शब्दों में संकेत देते हुए कहा है कि वह दूसरे देशों की बिना कोई मदद लिए भी अपनी पार्टी के भीतर चुनौतियों को संभालने में सक्षम हैं। यही नहीं इस बयान के माध्यम से एक तरह से केपी ओली ने चीनी राजदूत के लिए देश की राजनीति में हस्तक्षेप को रोकने के लिए एक लक्ष्मण रेखा भी बना दी है। इस रेखा को पार नहीं करने की शख्त चेतावनी भी दी गई है।  

From Army HQs to PMO, how Chinese envoy Hou

केपी शर्मा ओली ने कहा है कि कोई भी बाहरी देश मेरी पार्टी-पॉलिटिक्स से दूर रहें। बता दें कि नेपाल के पीएम द्वारा चीनी राजदूत को चेतावनी देने वाली बात केपी ओली के साथ काम करने वाले एक बड़े अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर मीडिया से कही है।

nepal ki taja khabar: नेपाल में पीएम केपी ओली को बचाने की कोशिश में चीनी राजदूत, राष्‍ट्रपति से

केपी ओली का चीनी राजदूत को दिए गए इस शख्त संदेस के बात ऐसे समय में मीडिया में आई है, जब नेपाल एक बार फिर से भारत के साथ अपने रिश्ते को बेहतर बनाने का प्रयास कर रहा है। 

इसी साल जुलाई में केपी शर्मा ओली की कुर्सी बचाने के लिए चीनी राजदूत एक्टिव हो गई थी-

बता दें कि इसी साल जुलाई माह में इस्तीफे के लिए दबाव का सामना कर रहे प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली का पद बचाने के लिए चीनी राजदूत ने सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के कई नेताओं के साथ बातचीत की थी। ओली को चीन की तरफ झुकाव रखने के लिए जाना जाता है।

भारताशी पंगा घेणाऱ्या खास माणसाला वाचवण्यासाठी चीन लागला कामाला; सर्व शक्ती पणाला - Marathi News | Chinese Ambassador Hou Yanqi Exerts Full Power To Save Nepal Pm Kp Sharma Oli | Latest

होउ यांकी ने पिछले दिनों एनसीपी के शीर्ष नेता और पूर्व प्रधानमंत्री माधव कुमार नेपाल और झलनाथ खनाल से बातचीत की थी। सत्तारूढ़ दल के नेताओं के साथ चीनी राजदूत की सिलसिलेवार बैठक को कई नेताओं ने नेपाल के आंतरिक राजनीतिक मामलों में हस्तक्षेप बताया था। इसके बाद से ही ओली और चीनी राजदूत होउ यांकी की दोस्ती की बात सामने आ रही थी।

होउ यांकी के नेपाल की राजनीति में हस्तक्षेप के बाद उठे विरोध के स्वर

जैसे ही जुलाई में केपी शर्मा ओली की कुर्सी बचाने के लिए नेपाल के आंतरिक मामलों में चीनी राजदूत होउ यांकी ने दखलअंदाजी शुरू की। इसके बाद चीनी राजदूत के खिलाफ दर्जनों छात्रों ने चीनी दूतावास के सामने प्रदर्शन किया था। मुख्य विपक्षी नेपाली कांग्रेस पार्टी की छात्र इकाई नेपाल स्टूडेंट्स यूनियन के कार्यकर्ताओं ने दूतावास के सामने प्रदर्शन किया था।

सवाल-जवाब : क्यों नेपाल में चीनी महिला राजदूत की वजह से फैलने लगी है नाराजगी

प्रदर्शन कर रहे लोगों का कहना था कि किसी भी तरह से नेपाल की राजनीति में दूसरे देश के हस्तक्षेप को स्वीकार नहीं किया जाएगा। चीनी राजदूत का यहां की राजनीति में दखलअंदाजी करना किसी भी तरह से स्वीकार नहीं किया जाएगा।

Web Title: Prime Minister of Nepal KP Sharma Oli's message to Chinese Ambassador, stay away from my party-politics

विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे