Omicron: कोविड-19 महामारी के बाद ओमीक्रॉन वेरिएंट, ऑक्सीजन के स्तर में गिरावट नहीं, स्वाद और महक जाने जैसे लक्षण नहीं, जानें

By लोकमत न्यूज़ डेस्क | Published: November 29, 2021 01:55 PM2021-11-29T13:55:30+5:302021-11-29T13:56:42+5:30

Omicron:  हॉलैंड के अधिकारी दक्षिण अफ्रीका से आने वाले दो विमानों में 61 यात्रियों के कोविड-19 से संक्रमित पाए जाने के बाद नए स्वरूप की जांच कर रहे हैं।

Omicron Angelique Coetzee Here's How Omicron Covid Variant May be Good News in the Face of Deadly Delta | Omicron: कोविड-19 महामारी के बाद ओमीक्रॉन वेरिएंट, ऑक्सीजन के स्तर में गिरावट नहीं, स्वाद और महक जाने जैसे लक्षण नहीं, जानें

दुनिया के विभिन्न देश दक्षिण अफ्रीकी देशों से यात्रा पाबंदियां लगा रहे हैं ताकि नए स्वरूप के प्रसार पर रोक लगाई जा सके।

Next
Highlightsडब्ल्यूएचओ ने कहा कि ओमीक्रॉन के वास्तविक खतरों को अभी समझा नहीं गया है।विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की एक समिति ने कोरोना वायरस के नये स्वरूप को ‘ओमीक्रॉन’ नाम दिया है।यूरोप और अमेरिका के कई हिस्सों में लोगों ने बड़े पैमाने पर जान गंवाई।

Omicron: कोविड-19 महामारी फैलने के तकरीबन दो साल बाद दुनिया बीते दिनों सामने आए वायरस के नए स्वरूपों से जूझती नजर आ रही है। वायरस का यह स्वरूप टीके के जरिये मुहैया करायी जा रही सुरक्षा को विफल करने की संभावना रखता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की एक समिति ने कोरोना वायरस के नये स्वरूप को ‘ओमीक्रॉन’ नाम दिया है और इसे ‘बेहद संक्रामक चिंताजनक स्वरूप’ करार दिया है। इससे पहले इस श्रेणी में कोरोना वायरस का डेल्टा स्वरूप था जिससे यूरोप और अमेरिका के कई हिस्सों में लोगों ने बड़े पैमाने पर जान गंवाई।

कोरोना वायरस के नए स्वरूप के सामने आने के बाद से दुनिया के विभिन्न देश दक्षिण अफ्रीकी देशों से यात्रा पाबंदियां लगा रहे हैं ताकि नए स्वरूप के प्रसार पर रोक लगाई जा सके। विश्व स्वास्थ्य संगठन की सलाह पर ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, ईरान, जापान, थाईलैंड, अमेरिका, यूरोपीय संघ के देशों और ब्रिटेन सहित कई देशों ने दक्षिण अफ्रीकी देशों से यात्रा पर पाबंदियां लगाई हैं।

इसकी पहचान करके इसे दुनिया के सामने लाने वाली निजी चिकित्सक और दक्षिण अफ्रीकी मेडिकल एसोसिएशन की अध्यक्ष डॉ. एंजेलिक कोएत्जी ने रॉयटर्स को बताया कि 18 नवंबर को उन्होंने अपने क्लिनिक में सात रोगियों को देखा, जिनके लक्षण प्रमुख डेल्टा संस्करण से अलग थे, हालांकि "बहुत हल्के" थे।

दक्षिण अफ्रीका में इन ओमाइक्रोन मामलों में क्या लक्षण बताए जा रहे हैं? कोएत्ज़ी ने कहा कि अधिकांश रोगियों में बहुत, बहुत हल्के लक्षण दिखाई दे रहे हैं और उनमें से किसी को भी अब तक सर्जरी के लिए रोगियों को भर्ती नहीं किया गया है। कोएत्ज़ी ने कहा कि डेल्टा के विपरीत अब तक रोगियों ने गंध या स्वाद के नुकसान की सूचना नहीं दी है और नए संस्करण के साथ ऑक्सीजन के स्तर में कोई बड़ी गिरावट नहीं आई है। उनका दावा है कि ओमिक्रॉन से संक्रमित व्‍यक्ति घर पर भी ठीक हो सकता है, उसे अस्‍पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

उनका अब तक का अनुभव यह रहा है कि वैरिएंट 40 या उससे कम उम्र के लोगों को प्रभावित कर रहा है। ओमाइक्रोन के लक्षणों वाले लगभग आधे रोगियों का टीकाकरण नहीं किया गया था। "सबसे प्रमुख नैदानिक ​​शिकायत एक या दो दिनों के लिए गंभीर थकान है। उनके साथ, सिरदर्द और शरीर में दर्द और दर्द होता है।" अगर वैक्‍सीन ना लगवाने वाले लोग कोरोना के नए वेरिएंट से संक्रमित होते हैं तो यह खतरे की बात हो सकती है।

एस्ट्राजेनेका, मॉडर्ना, नोवावैक्स और फाइजर सहित कई दवा कंपनियों ने कहा कि ओमीक्रॉन के सामने आने के बाद उनके पास ऐसी योजनाएं हैं कि टीके नए स्वरूप के अनुकूल होंगे। ऑक्सफोर्ड टीका समूह के निदेशक प्रोफेसर एंड्रयू पोलार्ड ने उम्मीद जताई कि ओमीक्रॉन स्वरूप से होने वाली गंभीर बीमारियों को रोकने में वर्तमान टीके प्रभावी हो सकते हैं।

ऑक्सफोर्ड टीका समूह ने ही एस्ट्राजेनेका टीका का विकास किया है। उन्होंने कहा कि अधिकतर उत्परिवर्तन उन्हीं क्षेत्रों में हुए हैं जहां दूसरे स्वरूप हुए थे। अफ्रीका में छह फीसदी से भी कम लोगों को कोविड-19 का पूर्ण टीकाकरण हुआ है और लाखों स्वास्थ्यकर्मी तथा बड़ी आबादी को अभी तक टीके की एक भी खुराक नहीं दी गई है।

Web Title: Omicron Angelique Coetzee Here's How Omicron Covid Variant May be Good News in the Face of Deadly Delta

विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे