किम जोंग उन की उत्तर कोरिया में हालत खराब, रिपोर्ट में खुलासा, भोजन की कमी का सामना कर रहे हैं लोग

By सतीश कुमार सिंह | Published: October 23, 2021 01:22 PM2021-10-23T13:22:29+5:302021-10-23T13:41:39+5:30

डेमोक्रेटिक पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ कोरिया (डीपीआरके) ने महामारी की रोकथाम के लिए सीमाएं बंद कर दीं, जिसका उत्तर कोरिया के लोगों के स्वास्थ्य पर गंभीर असर पड़ा।

North Korean leader Kim Jong Un North Koreans facing food shortages, collapses in livelihoods UN investigator | किम जोंग उन की उत्तर कोरिया में हालत खराब, रिपोर्ट में खुलासा, भोजन की कमी का सामना कर रहे हैं लोग

बच्चे एवं बुजुर्गों के लिए भुखमरी का खतरा है।

Next
Highlights चिकित्सकीय सामग्री की आपूर्ति में कमी का सामना कर रहा है।वैश्विक समुदाय से जितना अलग-थलग नजर आ रहा है।राजनीतिक कैदियों के शिविरों में खाद्यान्न की कमी को लेकर भी “बेहद चिंतित’’ हैं।

संयुक्त राष्ट्रः संयुक्त राष्ट्र महासभा की मानवाधिकार समिति ने अहम खुलासा किया है। उत्तर कोरिया गंभीर भुखमरी के कगार पर है। आयोग ने कहा कि किम जोंग उन के लगाए गए कोविड पाबंदी के कारण यह हालत हुआ है। अर्थव्यवस्था चौपट होने के कारण बड़ी संख्या में मजदूर तबके के लोगों को परेशानी उठानी पड़ रही है।

डेमोक्रेटिक पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ कोरिया (डीपीआरके) ने महामारी की रोकथाम के लिए सीमाएं बंद कर दीं, जिसका उत्तर कोरिया के लोगों के स्वास्थ्य पर गंभीर असर पड़ा क्योंकि देश का स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी ढांचा निवेश की कमी और चिकित्सकीय सामग्री की आपूर्ति में कमी का सामना कर रहा है।

 कोविड-19 की रोकथाम के लिये उठाए गए कदमों और बिगड़ते वैश्विक संबंधों के कारण उत्तर कोरिया आज वैश्विक समुदाय से जितना अलग-थलग नजर आ रहा है उतना पहले कभी नहीं रहा और इस स्थिति का “देश के अंदर लोगों के मानवाधिकारों पर भी जबर्दस्त असर पड़ा है।” अलग-थलग उत्तर पूर्व एशियाई देश पर संयुक्त राष्ट्र के एक स्वतंत्र जांचकर्ता ने शुक्रवार को यह टिप्पणी की।

टॉमस ओजिया क्विंटाना ने संयुक्त राष्ट्र महासभा की मानवाधिकार समिति को और पूर्व में किए गए संवाददाता सम्मेलन में बताया कि उत्तर कोरिया में खाद्यान्न संकट है और लोगों की आजीविका पर असर पड़ा है तथा बच्चे एवं बुजुर्गों के लिए भुखमरी का खतरा है। उन्होंने कहा कि वह राजनीतिक कैदियों के शिविरों में खाद्यान्न की कमी को लेकर भी “बेहद चिंतित’’ हैं।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 की रोकथाम के लिए डीपीआरके की सरकार के इस आत्मघाती कदम के कारण लोग आत्महत्या कर रहे हैं और देश से पलायन कर रहे हैं। डीपीआरके में मानवाधिकारों पर संयुक्त राष्ट्र के विशेष जांचकर्ता के तौर पर छह साल बाद महासभा को अपनी अंतिम रिपोर्ट में क्विंटाना ने कहा, "आवाजाही की स्वतंत्रता पर पाबंदी और राष्ट्रीय सीमाओं को बंद करने से बाजार की गतिविधि बाधित हो गई है जो लोगों के लिए भोजन सहित बुनियादी आवश्यकताओं तक पहुंच बनाने के लिए बेहद जरूरी है।”

Web Title: North Korean leader Kim Jong Un North Koreans facing food shortages, collapses in livelihoods UN investigator

विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ इब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा लाइक करे