Kashmir issue UN General Assembly President Ready help request Pakistan and India | कश्मीर मुद्दाः संयुक्त राष्ट्र महासभा अध्यक्ष ने कहा- मदद को तैयार, पाक और भारत अनुरोध करें, जानिए कौन हैं बोजकिर
‘‘क्षेत्रीय सुरक्षा राजनीतिक एवं राजनयिक माध्यमों के जरिये कायम रखी जानी चाहिए।’’

Highlightsबोजकिर संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) का अध्यक्ष बनने वाले तुर्की के प्रथम राजनयिक हैं।बोजकिर के 26-27 जुलाई को ही पाकिस्तान की यात्रा करने का कार्यक्रम था।उड़ान में कुछ तकनीकी गड़बड़ी का हवाला देते हुए इसे अंतिम क्षणों में टाल दिया गया था।

इस्लामाबादःसंयुक्त राष्ट्र महासभा के 75 वें सत्र के अध्यक्ष वोल्कान बोजकिर ने सोमवार को कहा कि कश्मीर मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान के मतभेद दूर करने के लिये वह अपने अधिकार क्षेत्र के दायरे में मदद करने को तैयार हैं, बशर्ते कि दोनों पक्ष इसके लिये अनुरोध करें।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के साथ संवाददाता सम्मेलन में बोजकिर ने कहा कि कश्मीर मुद्दे का समाधान दक्षिण एशिया में सतत शांति के लिये महत्वपूर्ण है। इसलिए, उन्होंने यह पेशकश की है कि अपने अधिकार क्षेत्र के मुताबिक वह इसमें मदद कर सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘यदि मेरे सहयोग के लिये दोनों पक्ष अनुरोध करते हैं तो मैं अपने अधिकार क्षेत्र के अंदर योगदान करने के लिये तैयार हूं। ’’

उल्लेखीय है कि भारत का लंबे समय से यह रुख रहा है कि कश्मीर दोनों देशों (भारत और पाकिस्तान) के बीच एक द्विपक्षीय मुद्दा है तथा किसी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता या हस्तक्षेप का कोई सवाल नहीं उठता है। पिछले साल पांच अगस्त को (पूर्ववर्ती राज्य) जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा भारत द्वारा समाप्त कर दिये जाने और उसे दो केंद्र शासित प्रदेशों--जम्मू कश्मीर और लद्दाख-- में विभाजित कर दिये जाने के बाद पाकिस्तान ने इस मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिश की है।

हालांकि, भारत ने पाकिस्तान को दो टूक शब्दों में कह दिया है कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा रहा है और बना रहेगा। जम्मू कश्मीर से जुड़े मुद्दे भारत का अंदरूनी विषय है। बोजकिर संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) का अध्यक्ष बनने वाले तुर्की के प्रथम राजनयिक हैं। वह महासभा के 75 वें सत्र के लिये इस पद पर निर्वाचित हुए हैं। बोजकिर के 26-27 जुलाई को ही पाकिस्तान की यात्रा करने का कार्यक्रम था लेकिन उड़ान में कुछ तकनीकी गड़बड़ी का हवाला देते हुए इसे अंतिम क्षणों में टाल दिया गया था।

उन्होंने यह भी कहा कि ‘‘क्षेत्रीय सुरक्षा राजनीतिक एवं राजनयिक माध्यमों के जरिये कायम रखी जानी चाहिए।’’ उन्होंने कहा कि सभी मुद्दों का हल परस्पर सार्थक बातचीत के जरिये शांतिपूर्ण तरीके से किया जाना चाहिए। कश्मीर सहित विभिन्न मुद्दों पर कुरैशी के साथ विस्तृत बातचीत करने के बाद बोजकिर की यह टिप्पणी आई है।

वह पाकिस्तान सरकार के न्योते पर दो दिवसीय यात्रा पर रविवार को इस्लामाबाद पहुंचे। प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ अपनी बैठक के बारे में बात करते हुए बोजकिर ने उन्हें ‘‘दुनिया की एक जानी-मानी राजनीतिक हस्ती बताया’’, जिनके पास क्षेत्र तथा दुनिया के लिये एक दूरदृष्टि है।

खान ने बोजकिर के साथ अपनी बैठक के दौरान कहा कि संयुक्त राष्ट्र को कश्मीर में हालात का हल करने में अपनी भूमिका निभानी चाहिए। बोजकिर ने कोविड-19 महामारी के बारे में भी बातचीत की। इससे पहले, उन्होंने राष्ट्रव्यापी पौधारोपण अभियान के तहत विदेश कार्यालय भवन परिसर में एक पौधा भी लगाया। 

Web Title: Kashmir issue UN General Assembly President Ready help request Pakistan and India
विश्व से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे